fbpx
सोमवार, जनवरी 25, 2021

अपराधियों से भरी पड़ी है मोदी कैबिनेट, पढ़े मोदी केबिनेट की सच्चाई

NewBuzzIndia: ​15 अगस्त 1947 ही वह पहला और आखिरी दिन था जब देश का मंत्रिमंडल राजनीतिक चरित्र का नहीं बल्कि राष्ट्रीय चरित्र का बना। उस वक्त मंत्रिमंडल मेंकई ऐसे लोगों को शामिल किया गया था जो गैर कांग्रेसी या कहें तो कांग्रेस विरोधी थें, इसका कारण था राष्ट्रीय हित। आज की तस्वीर कुछ अलग बात बयां करती है, आज जब किसी व्यक्ति को पार्टी उम्मीदवार घोषित करती है तो उसकी कसौटी अच्छा नेतृत्व और सूशासन का भरोसा नहीं बल्कि मोटी रकम होती है क्योंकि टिकट के बदले उसे पैसा ऐंठना होता है। जब कोई राजनीति को व्यवसाय समझ कर लाखों करोड़ों की पूँजी का निवेश कर सत्ता के गलियारे में पहुंचेगा तो उसकी प्राथमिकता पैसा लूटने की होगी ना की जन सेवा की और यही कारण है बड़े बड़े घोटालों और भ्रष्टाचारों  का।

Also Read: अमेरिका से चुरा कर कानून बना रही है मोदी सरकार, अब तक 75 फीसदी की चोरी आई सामने 

16वें लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर संसद तक पहुंचे हुए कुल 541 सदस्यों में से 186 सांसदों पर अपराधिक मामले दर्ज हैं, उनमें से 112 पर गंभीर अपराधिक मामले, जैसे बलात्कार, अपहरण दर्ज हैं। यह अभी तक का सबसे बड़ा अपराधिक जमघट है जो संसद तक पहुँचा।

Also Read: जब ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ से परहेज नहीं तो ‘संघ मुक्त भारत’ से दिक्कत क्यों!!

हाल में हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में विस्तार के बाद कुल मंत्रियों की संख्या 78 हो गई है। इनकी औसत चल-अचल संपत्ति 12 करोड़ 94 लाख रुपये है। इसके अलावा 24 मंत्री ऐसे हैं जिन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं।
नेशनल इलेक्शन वॉच (न्यू) और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने रिपोर्ट जारी कर नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रियों का लेखाजोखा सार्वजनिक किया है। एडीआर ने यह रिपोर्ट मंत्रियों द्वारा दाखिल किए गए चुनाव शपथ पत्रों में दर्ज ब्योरे के आधार पर तैयार की है।
2006 के सितंबर महीने में चुनाव आयोग द्वारा प्रधानमंत्री को दिए गए रिपोर्ट  में इस बात की चिंता जाहिर की गई थी कि ऐसे ही अपराधिक मामलों में  लिप्त लोगों का राजनीति में आना नहीं रूका तो वह दिन दूर नहीं जबसंसद  में दाउद इब्राहीम और अबू सलेम जैसे लोग बैठेंगे।
Also Read: तो इन कारणों से स्मृति ईरानी से छीना गया HRD

राजनेताओं में चारित्रिक गिरावट देश के लिए बहुत गंभीर मसला है क्योंकिहर वो घटना जो राजनीति के गलियारे में घटती है उसका सीधा सरोकार जनता से होता है, राजनेता जनता का प्रतिनिधि होता है इसलिए उसके हर कदम से जनता प्रभावित होती है। ऐसे में उम्मीद से की जाती है कि जनता पर पड़ने वाला प्रभाव सकारात्मक हो जन हित में हो।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह,...

शुक्रवार को भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन में पुलिस प्रशासन ने की यह बड़ी कार्यवाही

किसानों का प्रदर्शन पूरे भारत मे अब उर्ग हो चुका है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) ने भी किसानों के खिलाफ प्रशासन को...

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस...

Related Articles

विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी को लगा एक और झटका, अब इस मंत्री ने दिया इस्तीफा

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले TMC अध्यक्ष और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक और झटका लगा है अब...

मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से भाजपा शासित राज्यों में शराब बंदी के लिए अनुरोध किया

मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री(Ex- Chief Minister) उमा भारती(Uma Bharti) ने शराबबंदी को लेकर अपनी राय सोशल मीडिया के माध्यम से रखी है।...

केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच नहीं बन पा रही है कृषि कानून को लेकर सहमति

बुधवार को किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच 10वें दौर की बातचीत खत्म हो गई और किसी भी नतीजे पर नहीं पहुची। बैठक...