Home Tags Bharatiya janata party

Tag: bharatiya janata party

मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हारी तो “वन नेशन-वन इलेक्शन” का फ़ॉर्मूला लागू करेगी भाजपा ?

0

देश में वन नेशन-वन इलेक्शन की मांग काफी समय से चलती आ रही है। केंद्रीय सत्ता में आने के बाद से भाजपा भी इस मांग को समय-समय पर हवा देती रही है। वहीं 5 राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों के बीच भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने एक बार फिर इस मांग को हवा दी है। प्रभात झा ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि अब समय आ गया है कि देश में वन नेशन-वन इलेक्शन के फोर्मुले को लागू किया जाए और देश के सभी राजनैतिक दलों को इस पर मंथन करना चाहिए। इससे देश के मानव संसाधन और उर्जा की काफी बचत होगी।


अब समय आ गया है कि देश में वन नेशन-वन इलेक्शन के फोर्मुले को लागू किया जाए और देश के सभी राजनैतिक दलों को इस पर मंथन करना चाहिए। इससे देश के मानव संसाधन और उर्जा की काफी बचत होगी।

Prabhat Jha

इसके साथ ही मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में ईवीएम को लेकर आ रही शिकायतों पर बोलते हुए प्रभात झा ने कहा कि कांग्रेस के नेता इन दिनों चुनाव आयोग और ईवीएम को लेकर काफी आरोप लगा रहे हैं। यह सारे आरोप गलत है और इससे संवैधानिक संस्था के प्रति अनास्था का माहौल बनता है, जो लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है।

प्रभात झा ने आगे कहा कि जब मुख्य चुनाव आयुक्त जब खुद कह चुके हैं कि ईवीएम पूरी तरह सुरक्षित है तो इस पर भरोसा करना चाहिए। चुनाव आयोग को बदनाम करने का अधिकार किसी को नहीं है, आयोग कोई गरीब की गाय नहीं है। आयोग ने जिस तरह प्रदेश में और नक्सल क्षेत्रों में भी शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराए, उसके लिए वह बधाई का पात्र है।

नेटफ्लिक्स और त्रिवागो को पीछे छोड़ भाजपा बनी टीवी पर सबसे ज्यादा विज्ञापन देने वाली पार्टी

0

टीवी चैनलों को विज्ञापन देने के मामले में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है। इससे पहले सबसे ज्यादा टीवी विज्ञापन देने वाली कंपनियो में नेटफ्लिक्स, त्रिवागो और विमल पान मसाला शामिल थे। ताजा आंकड़ों के मुताबिक 17 नवंबर से शुरू हुए सप्ताह में भाजपा ने विमल पान मसाला को पेच्चे छोड़ दिया है। ख़ास बात यह है कि अन्य कोई भी राजनैतिक दल टॉप 10 में भी नही है।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीजेपी सबसे आगे है और उनके बाद नेटफ्लिक्स और त्रिवागो का नंबर है। वहीं इसके बाद संतूर साबुन, डेटॉल लिक्विड सोप, वाइप, कोलगेट डेंटल क्रीम, डेटॉल टॉयलेट सोप्स, अमेजन प्राइम वीडियो, रूप मंत्रा आयुष फेस क्रीम का नंबर आता है।

विधानसभा चुनाव के चलते जोरदार प्रचार कर रही है भाजपा

बता दें की इस महीने 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे है। भाजपा इन चुनावों में जोरदार प्रचार कर रही है। राजस्थान , मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ , तेलंगाना और मिजोरम में इस समय भारतीय जनाता पार्टी प्रचार कर रही है।

पिछले सप्ताह की बात करें तो टीवी विज्ञापन पर भारतीय जनता पार्टी के विज्ञापन को को कुल 22,099 बार दिखाया गया। वहीं नंबर 2 पर रही नेटफ्लिक्स के विज्ञापन को 12,951 बार दिखाया गया तो नंबर 3 रही त्रिवागो के विज्ञापन को 12,795 बार दिखाया गया। इसके एलावा डेटॉल लिक्विड साबुन के विज्ञापन को 9487, वाइप के विज्ञापन को 9082, कोलगेट डेंटल क्रीम के विज्ञापन को 8938, डेटॉल टॉयलेट साबुन के विज्ञापन को 8633, अमेजन प्राइम वीडियो के विज्ञापन को 8031 और रुप मंत्रा आयूर फेस क्रीम के विज्ञापन को को 7962 बार दिखाया गया।

बीजेपी द्वारा चुनाव प्रचार पर इतनी भारी भरकम रकम खर्च करने पर विपक्षी पार्टिओं ने भाजपा पर हमला करना शुरू कर दिया है। वहीं इसके साथ ही कयास लगाए जा रहे है कि अभी यह हाल है तो लोकसभा चुनाव के समय क्या हाल होगा।

सट्टा बाजार: मध्यप्रदेश और राजस्थान में जीत रही कांग्रेस, छत्तीसगढ़ में कड़ा मुकाबला

0

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव का माहौल अब और रोचक हो चुका है। न्यूज़ चैनल और अखबारों के सर्वे के बाद अब सट्टा बाजार में भी सत्ता बदलती नजर आ रही है। मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के सट्टा बाजार में जहां पहले बीजेपी हावी थी तो वहीं अब कांग्रेस हावी दिख रही है।

मध्यप्रदेश में 2 हफ्ते के पहले जो सटोरी बीजेपी पे पैसा लगा रहे थे वही सटोरी अब कांग्रेस पर दांव लगा रहे है।

हिंदी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पिछले एक महीने से सट्टा बाजार में बीजेपी के ऊपर पैसा लगाया जा रहा था लेकिन अब यह पैसा कांग्रेस पर लग रहा है। एक महीने पहले अगर आप बीजेपी पर पैसा लगते तो आपको 10 हजार के 11 हजार रुपये मिलते। वहीं कांग्रेस पर 4400 रुपये लगाने पर आपको 10 हजार रुपये मिलते। मतलब सट्टा बाजार में बीजेपी के जीतने की उम्मीदें ज्यादा थी।

कांग्रेस को मिल रही 116 से ज्यादा सीटें

सट्टा बाजार की माने तो प्रदेश में कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बना रही है। कांग्रेस को 230 विधानसभा सीटों में से 116 से ज्यादा सीटें मिल रही है। वहीं बीजेपी को 102 के आस पास सीटें मिलती दिख रही है।

राजस्थान में कांग्रेस तो छत्तीसगढ़ में सेफ खेल रहा सट्टा बाजार

मध्यप्रदेश के एलावा राजस्थान विधानसभा चुनाव की बात करें तो सट्टा बाजार राजस्थान में भी कांग्रेस की सरकार बनवा रहा है। वहीं छत्तीसगढ़ में सट्टा बाजार सेफ खेल रहा है, मतलब दोनों ही पार्टियों में कड़ी टक्कर देखने को मिल रही है।

नोट: चुनावों में सट्टा लगाना देश मे गैरकानूनी है। पुलिस इसके लिए कई गंभीर कदम भी उठा रही है लेकिन इसके बाद भी चुनावों में लोग सट्टा बाजार में काफी सक्रिय रहते है।

25 आरोप और 21 घोटालों के साथ कांग्रेस ने भोपाल में जारी किया ‘जनता का आरोप पत्र’

0
congress slogan waqt hai badlav ka
कांग्रेस द्वारा जारी किये गये आरोप पत्र की कवर फोटो

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव अभियान के तहत कांग्रेस ने मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में जनता का आरोप पत्र जारी किया. आरोप पत्र में कांग्रेस ने भाजपा के 14 सालों की सरकार के दौरान सरकार पर लगे 25 आरोप और 21 घोटालों को शामिल किया. ‘आरोप पत्र’ जारी करने के लिए भारतीय राष्टीय कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष रणदीप सिंह सुरजेवाला भोपाल आए. सुरजेवाला के साथ प्रेस वार्ता में प्रदेश मीडिया प्रभारी प्रियंका चतुर्वेदी, मुख्य प्रवक्ता शोभा ओझा, रविंद्र बड़गैयाँ और भूपेंद्र गुप्ता मौजूद रहे।

प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस ने जारी किया ‘जनता का घोषणा पत्र’, 21 घोटाले और 25 आरोपों को किया शामिल.

आरोप पत्र जारी करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि “मध्य प्रदेश सरकार के पिछले 15 साल में भारी भ्रष्टाचार किया है. प्रदेश का हर वर्ग इस सरकार से परेशान है. मध्य प्रदेश में भाजपा के शासनकाल में घोटालों की श्रंखला इतनी लंबी है कि यदि उसे लिखा जाए तो विश्व का सबसे बड़ा महाग्रंथ बन जाएगा।”

आरोप पत्र में शामिल मुख्य आरोप

1 – सरकार कृषि विकास दर, अलग कृषि बजट और किसानों को करोड़ो रुपए देने की बात कर, उनका हितैषी बनने का नाटक कर रही है, उन्हें बहका रही है।

2-राज्य की भाजपा सरकार किसानों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील नहीं है और उनके मंत्री अहंकार में चूर हो किसानों को तुच्छ समझ उनका तिरस्कार करते हैं।

3-किसानों का सगा बननेके लिए भावांतर योजना ला कर उन्हेंठगा गया हैं, असल में ये योजना, अन्य
योजनाओं की तरह ही दलालों और चहेतेव्यापारियों को फायदा पहुँचानेके लिए बनाई गयी है।

4-प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मे किसानों को फायदा पहुँचाने की आड़ में चुनिन्दा बीमा कंपनियों को फायदा पहुँचाया गया ।

5-भाजपा सरकार हमारी माताओं और बहनों को सुरक्षा देने में पूर्णत: विफल रही है और ये सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति गंभीर भी नहीं है।

6- बलात्कारियों, असामाजिक तत्वों और गुंडों को भाजपा सरकार का संरक्षण प्राप्त है इसलिए वेबेख़ौफ़ अपराध को अंजाम देते है। गुंडों की भाजपा के नेताओं सेसाँठ-गाँठ हैऔर पुलिस पर भाजपा सरकार का दबाव।

7-सरकार की महिलाओं के प्रति रूढ़िवादी सोच है वो महिलाओं को बराबरी की नज़र सेनहीं देखती उन्हें हीन समझती है। महिलाओं के नाम पर चलायेजाने वाली तमाम योजनायेंइस रूढ़िवादी सोच पर पर्दा डालनेका प्रयास है।

8-प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह से चरमराई हुई है। हजारों-करोड़ों खर्च करने के बाद भी न डॉक्टर उपलब्ध हैऔर न जनता को बेहतर इलाज मिल रहा है।

9-स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर हजारों करोड़ फूं क दिए गए और प्रदेश की जनता को कुछ नहीं मिला ।

10-हज़ारों करोड़ रुपयेके कु प्रबंधन का नतीजा है कि प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाए ICU में हैं, येजनता के पैसे की सरासर बर्बादी है। आप नेअपनेकु प्रबंधन सेसरकारी स्वास्थ्य तंत्र को पंगुबना दिया है।

11-नवजात शिशुओं का निवाला, बच्चों का खाना और गर्भवती महिलायों का पोषण आहार खा गयी भाजपा सरकार ।

12-सरकार के मंत्रियों का निवेश केनाम पर विदेशी दौरे मात्र सैर सपाटे और मौज मस्ती बन कर रह गए तथा ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट को सिर्फ विज्ञापन केरूप में, प्रदेश की जनता को बहकाने के लिए किया गया ।

13-भाजपा सरकार ने सत्ता में बने रहने के लिए, अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। उन्हें वेंचर फाइनेंस के नाम पर ठगा है, सरकारी नौकरियों के नाम पर उनके साथ छल किया तथा स्वरोजगार के नाम पर उन्हें झांसा दिया ।

14-बच्चे देश के भविष्य होते है अगर उन्हें बुनियादी शिक्षा से वंचित रखा जायेतो ये सम्पूर्ण मानवता के खिलाफ अपराध है. मध्य प्रदेश की सरकार ने ये अपराध किया है।

15-भाजपा की सरकार नेप्रदेश को घाटे में धके ल दिया और कर्जे से लाद दिया है।

16-भाजपा की सरकार सम्पन्न राज्य होने का झूठा दावा कर रही है।

17-भाजपा की सरकार सुशासन के झूठेदावेकर प्रदेश की जनता को बहका रही है।

18-भाजपा की सरकार के मुखिया घोषणावीर मुख्यमंत्री है। वे प्रदेश की जनता को मात्र घोषणा कर बहकाने का काम करते है।

19-प्रतियोगी परीक्षाओं के नाम से प्रदेश के युवाओं को धोखा दिया और व्यापम जैसे महाघोटाले के जनक बने। इस तरह प्रदेश की भाजपा सरकार नेकरीब 90 लाख युवाओं के सपनो पर पानी फेरा और उनके भविष्य को अन्धकार में धकेल दिया।

20-अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों मेंपेसा कानून और पांचवी अनुसूची के प्रावधान लागून कर भाजपा सरकार अनुसूचित जनजाति के लोगों के साथ जानबूझ कर उनको संवेधानिक अधिकारों से वंचित कर रही है।

21- अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों के साथ जानबूझ कर आर्थिक रूप से कमजोर बनाने और उनके रहवासी क्षेत्रों को बुनियादी सुविधाओं से वंचित कर रही है।

22-वन अधिकार अधिनियम के प्रावधानों को पूरी तरह से लागू न कर भाजपा सरकार आदिवासियों के व्यापक हितो पर कु ठाराघात कर रही है।

23-प्रदेश की भाजपा सरकार कर्मचारियों एवंअधिकारियों के हितों का शोषण कर रही है।

24-प्रदेश की भाजपा सरकार नर्मदा डूब प्रभावितों केसाथ अन्याय कर रही है।

25- पिछले 15 सालो मेंभाजपा की सरकार ने घोटाले कर कर के घोटालों की सरकार चलाई है। इससे प्रदेश की जनता का जो नुकसान हुआ है उनकी भरपाई नहीं हो सकती । घोटाले कर कर के भाजपा ने जो अपराध किया हैउसे प्रदेश जनता, महिलाएं, बच्चे- बच्चियां, किसान, युवा, व्यापारी और मजदूर कभी माफ नहीं करेंगे।

आरोप पत्र में शामिल प्रमुख घोटाले

  1. ई-टेंडर घोटाला
  2. सिंहस्थ घोटाला
  3. सोलर पंपों की खरीदी में 130 करोड़ रुपए का घोटाला
  4. उद्यानिकी विभाग में चार सौ करोड़ का घोटाला
  5. बुंदेलखंड पैके ज घोटाला
  6. प्याज घोटाला
  7. दाल खरीदी घोटाला
  8. सरकारी खाद्यान्न घोटाला
  9. पेंशन घोटाला
  10. लाड़ली लक्ष्मियों के साथ घोटाला
  11. रेत /अवैध उत्खनन घोटाला
  12. PSC (लोक सेवा आयोग ) में चयन घोटाला
  13. बिजली घोटाला
  14. सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग के भूखंड आवंटन में घोटाला
  15. डामर घोटाला
  16. नगरीय निकाय में घोटाला
  17. छात्रवृत्ति घोटाला
  18. पौधरोपण घोटाला
  19. राज्य के तमाम विश्वविद्यालयों में घोटाला
  20. सरकारी अनुदान प्राप्त संस्थाओं में घोटाला
  21. शौचालय निर्माण में घोटाला

वरुण गांधी ने किया ट्वीट, निशाने पर आई बीजेपी।

0

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और लोकसभा सांसद वरुण गांधी ने आज चुनाव के दौरान पैसे के बढ़ते इस्तेमाल पर ट्वीट किया। वरुण के इस ट्वीट के बाद लोगों ने भारतीय जनता पार्टी को निशाने पर लिया। वरुण गांधी ने सोमवार को ट्वीट किया “हाल ही में हुए अमेरिका के चुनाव बताते है कि 91% प्रत्याशी, जिन्होंने ज्यादा पैसा खर्च किया वह जीत गए। हमारे लोकसभा चुनाव चुनाव में भी 84% सबसे अमीर उम्मीदवार जीते थे वहीं हर लोकसभा सीट पर सबसे गरीब प्रत्याशी की जमानत जब्त हो गयी थी। क्या अब राजनीति में सफल होने के लिए पैसा ही एक मात्र साधन है ?

वरुण गांधी के इस ट्वीट के बाद लोगों ने कमेंट में बीजेपी पर हमला करना शुरू कर दिया। एक ट्विटर यूज़र ने कमेंट किया “इसीलिए नोटबंदी की गई थी जिससे मोदी जी अगले चुनाव में दबा के पैसा लगा सकें और बाक़ि पार्टियों के घट जाएं और खुद दबा के कमीशन पर नोट बदले गए”

वहीं एक अन्य ट्विटर यूज़र ने लिखा “इसलिए इस देश में पैसों की खातिर अपना ईमान बेचने वालों की कमी नहीं, लोग तो शराब और पैसे में अपना वोट बेच देते है,पैसों से वोटर ही बिक जा रहा है तो फिर क्या मीडिया और क्या सरकार, बीजेपी के पास सबसे ज्यादा पैसा है ताकत है, जो पैसे से नहीं बिकता उसे ताकत से तोड़ दे रहे है।”

सीताराम केसरी को दलित बताकर ट्रोल हुए पीएम मोदी।

0

चुनावी माहौल के बीच गांधी परिवार को घेरने के चक्कर में प्रधानमंत्री खुद सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गए। दरअसल छत्तीसगढ़ के महासमुंद में रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा था कि दलित सीताराम केसरी को कांग्रेस अध्यक्ष पद का अपना कार्यकाल पूरा नहीं करने नहीं दिया, उन्हें सोनिया गांधी की ताजपोशी के लिए रास्ते से हटाया गया था। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में गांधी परिवार को तो जमकर घेरा लेकिन सीताराम केसरी को दलित बताकर गलती कर दी। क्योंकि केसरी दलित नहीं थे, बल्कि बनिया थे।

प्रधानमंत्री मोदी की इस गलती को पकड़ते ही सोशल मीडिया पर लोगों ने पीएम मोदी को जमकर ट्रोल किया। ट्विटर यूज़र अभिषेक ने कमेंट किया “जैसे मोदी जी चुनावी रैलियों में स्वयं को पिछड़े परिवार में जन्म लेने वाला कहते हैं वैसे ही उन्होंने सीताराम केसरी को दलित कह दिया, इतना घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। मोदी जी की बातों को अब कोई सीरियस नहीं लेता है, उनके बोलने पर हर कोई यही मानता है कि झूठ बोलेगा या फेकेगा। वहीं ट्विटर यूज़र मनीष ने कमेंट में लिखा कि हमारे प्रधानसेवक को झूठ बोलने की इतनी आदत है कि अब वह झूठ में ही जीने लगे हैं। वो इतने महान बन गए की उनके लिए झूठ और सच के बीच कोई फर्क ही नहीं बचा है।

वहीं कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी पर पलटवार करते हुए सवाल किया, क्या यह सच है कि भाजपा के पहले और एकलौते दलित अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण जी के अंतिम संस्कार में आडवाणी जी के एलावा भाजपा का कोई वरिष्ठ नेता नही गया ?

मध्यप्रदेश में अकेले पड़ते शिवराज, अपने भी नही दे रहे साथ।

0
shivraj singh chauhan
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की फाइल फोटो

शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री रहते हुए तीसरा विधानसभा चुनाव लड़ने मैदान में उतर रहे है। पिछले दो चुनावों की तरह इस बार भी भाजपा शिवराज भरोसे मैदान में उतर रही है। टिकट वितरण से लेकर घोषणा पत्र तक, कोई भी फैसला शिवराज सिंह की सलाह के बिना नही हो रहा। आरएसएस द्वारा 100 से ज्यादा मौजूदा विधायकों की टिकट काटने के सुझाव को भी शिवराज सिंह ने हासिये पर रख दिया। शिवराज सिंह चौहान की इजाजत के बिना मध्यप्रदेश भाजपा का एक पत्ता भी नही हिल रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर को तक अपनी बहू को टिकट दिलाने के लिए मौन व्रत धारण करना पड़ गया। तो वहीं दिग्गज नेता सरताज सिंह की तो दाल ही नही गली। आलम यह है कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और अमित शाह के बेहद करीबी नेता कैलाश विजयवर्गीय को भी अपने बेटे को टिकट दिलाने के लिए अपनी सीट त्याग करनी पड़ गयी।

एक ओर शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में अपने आगे किसी की चलने नही दे रहे तो वहीं लोग भी अब शिवराज सिंह चौहान से दूरी बना रहे है। चुनाव में जीत हुई तो ताज शिवराज सिंह चौहान के सर पे होगा लेकिन अगर हारी तो हार का ठीकरा भी शिवराज सिंह के सर ही फोड़ा जाएगा।

लगातार 14 साल मुख्यमंत्री रहने के बाद शिवराज का जादू अब मध्यप्रदेश में फीका पड़ता जा रहा है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को भी अब हार की सुगबुगाहट होने लगी है। यही कारण है कि गुजरात मे 34 और कर्नाटक में 21 रैली करने वाले प्रधानमंत्री मोदी मध्यप्रदेश में एक दर्जन से भी कम रैली करने वाले है। मध्यप्रदेश में अभी तक आरएसएस भी सक्रिय भूमिका में नही आया है। अचार सहिंता लगने के बाद से शिवराज सिंह चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा में से भी भीड़ गायब होने लगी थी। जिसके कारण मुख्यमंत्री को यह यात्रा बीच मे ही रोकनी पड़ गयी।

सरकार विरोधी लहर से पार पाना शिवराज के लिए मुश्किल

मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार को 13 साल और भाजपा सरकार को लगभग 15 साल होने को है। जनता, कर्मचारी वर्ग और यहां तक कि मीडिया भी शिवराज के चेहरे से ऊब चुका है। भाजपा नेताओं के कार्यक्रम में खाली कुर्सी, स्पाक्स का चुनावी मैदान में उतरना और मीडिया में दिखाए गए सर्वे तो यही इशारा कर रहे है। प्रदेश का जो मीडिया अभी तक शिवराज गाथा गए नही थकता था, उसी मीडिया ने संबित पात्रा जैसे प्रवक्ता को होटल के रूम में बैठने को मजबूर कर दिया है।

हार का डर अब पार्टी में बैठे लोगों को भी होने लगा है। तभी कांग्रेस से ज्यादा भाजपा के नेता पाला बदल रहे है। टिकट घोषित होने से पहले ही भाजपा के दो मौजूदा विधायक और खुद शिवराज सिंह चौहान के साले ने उनका साथ छोड़ कांग्रेस का हांथ थाम लिया है। भाजपा को प्रदेश की सत्ता पर बैठने वाला किसान, युवा और सवर्ण वर्ग भी अब सरकार से रूठा बैठा है।

कांग्रेस की तिकड़ी कर सकती है कमाल

2003 विधानसभा चुनाव हारने के बाद से मध्यप्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी के आरोप लगते आए है। भाजपा की जीत के पीछे भी कांग्रेस के नेताओं का बागी होना एक बड़ा कारण रहा है। लेकिन इस बार हालात पिछले 3 चुनावों से काफी अलग है। कमलनाथ, सिंधिया और दिग्विजय समेत कांग्रेस के सभी नेता अब एक मंच पर आ रहे है, एक लाइन पर चल रहे है और एक ही बात बोल रहे है। टिकट बटवारे के बाद जो अंतरकलह कभी कांग्रेस में दिखाई देती थी वह अब भाजपा में दिखाई दे रही है। कांग्रेस पार्टी में दिख रही इस एकता का बड़ा श्रेय समन्वय समिति के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह को जाता है। दिग्विजय सिंह ने न सिर्फ प्रदेश भर का दौरा कर कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ताओं को सक्रिय किया बल्कि टिकट न मिलने पर नाराज कांग्रेस नेताओं को भी पार्टी के साथ लाए।

7 दिवसीय मध्यप्रदेश दौरे पर कल रवाना होने अमित शाह, 28 जनसभाओं को करेंगे संबोधित

0
amit shah
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की फाइल फोटो

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी मध्यप्रदेश के चुनावी रण में कूदने के लिए कल दिल्ली से रवाना होंगे। शाह प्रदेश में 7 दिवसीय चुनावी दौरे के दौरान लगभग 28 जनसभाओं को संबोधित करेंगे। सूत्रों के अनुसार अमित शाह इसी बीच कुछ जगहों पर रोड शो भी कर सकते है।

अमित शाह का पूरा कार्यक्रम

अमित शाह के तय कार्यक्रम के अनुसार वह गुरूवार को इंदौर पहुंचेंगे और सबसे पहले बडवानी में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद शाह बडनगर और शाजापुर में जनसभाओं को संबोधित करेंगे।

16 नवंबर को शाह खजुराहो, टीकमगढ़, सागर और दमोह में जनसभा को संबोधित करेंगे।

18 नवंबर को शाह सिंगरोली, उमरिया, चुरहट और देवतालाब में भी जनसभा और रोड शो कर सकते है। तो 19 नवंबर को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरसिंहपुर, बैतूल और खातेगांव में जनसभा करेंगे।

23 नवंबर को शाह लखनादौन, बालाघाट और सीहोरा में जनसभाओं को संबोधित करेंगे तो 24 नवंबर को अशोक नगर में उनका रोड शो होगा। इसके साथ ही 26 नवंबर को नीमच कुक्षी और सांवेर में अमित शाह की जनसभा होगी।

सोशल वाणी: कमलनाथ के खिलाफ फेक न्यूज़ फैलाते पकड़े गये संबित पात्रा।

0
bjp spokeperson sambit patra at bjp headquaters in new delhi
संबित पात्रा की फाइल फोटो

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और मध्यप्रदेश के मीडिया प्रभारी संबित पात्रा ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ का एक विडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया जिसपर लोगों ने संबित पात्रा पर फेक न्यूज़ फ़ैलाने का आरोप लगाया. विडियो में कमलनाथ कुछ कार्यकर्ताओं से आरएसएस को बाद में देख लेने की बात कर रहे है. कमलनाथ ने विडियो में कहा कि आरएसएस के लोग जो प्रदेश में बीजेपी का प्रचार कर रहे है, उनका एक ही स्लोगन है ‘अगर हिन्दू को वोट देनी है तो हिन्दू शेर मोदी को वोट दो और अगर मुस्लिम को वोट देना है तो कांग्रेस को वोट दो’. यह आरएसएस की रणनीति है और इसमें आप लोगों को बड़ा सतर्क रहना पड़ेगा, यह आपको उलझाने की कोशिश करेंगे. हम निपट लेंगे इनसे बाद में लेकिन मतदान के दिन तक आपको सब-कुछ सहना पड़ेगा.”

कमलनाथ का यह विडियो शेयर करते हुए संबित पात्रा ने लिखा ” अभी अस्थायी जनेऊ पहन रखा है, निपट लेंगे इनसे बाद में. इन नकली हिन्दुओं की असलियत एक बार फिर सामने आ गयी है. कमलनाथ जी ने मुस्लिम लोगों से वादा किया है कि वह हिन्दुओं को चुनाव बाद देख लेंगे, फिलहाल मुस्लिमों को कांग्रेस के साथ रहना होगा.”

संबित पात्रा के इस ट्वीट पर पत्रकार अभिसार शर्मा ने लिखा “संबित, आप खुद में एक बेज्जती हो. कमलनाथ विडियो में आरएसएस से निपटने की बात कर रहे है हिन्दुओं से निपटने की नही.

संबित पात्रा के ट्वीट के जवाब में एक ट्विटर यूज़र ने लिखा ” संबित जी, आरएसएस को हिन्दू बता रहे हो. क्या ऐसे ही ठगी करके डाक्टर बने थे ? वहीं एक एक अन्य ट्विटर यूज़र ने लिखा “इस देश मे तुमहारे सिवा कोई हिन्दू ही नही ओर भाजपा से बड़ा कोई ठेकेदार भी नही है।”

पत्रकार रोहिणी सिंह ने भी संबित पात्रा पर झूठी ख़बरें फ़ैलाने का आरोप लगाते हुए लिखा “आश्चर्यजनक है कि संबित झूठी खबर फैला रहे है, संबित जैसा बोल रहे है विडियो में वैसा कुछ भी नही है.”

राजस्थान में एक और मंत्री ने छोड़ी भाजपा, पार्टी का झंडा जलाकर बोले बीजेपी मुर्दाबाद।

0

राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने आज अपनी पहली लिस्ट जारी कर दी है। लिस्ट में 131 विधानसभा सीटों पर भाजपा ने अपने प्रत्याशी घोषित किये है, जिसमे 23 मौजूद विधायकों के टिकट काटे गए है। टिकट कटने के बाद भाजपा के कई विधायक बगावत पर उतर गए है।

राजस्थान के वरिष्ठ बीजेपी नेता और वसुंधरा सरकार में कैबिनेट मंत्री सुरेंद्र गोयल ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सुरेंद्र गोयल ने टिकट कटने के बाद राजस्थान में भाजपा को हराने की कसम खाते हुए भाजपा का झंडा जलाया और भाजपा मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।

टिकट काटने पर गुस्साए सुरेंद्र गोयल ने कहा कि ‘मैंने बीजेपी के जिस वृक्ष को खड़ा किया है उसे उखाड़ कर फेंक दूंगा। जैतारण विधानसभा सीट पर मैंने भाजपा का कमाल खिलाया था पर अब में उस कमल को उखाड़ फेंकूँगा।”

जैतारण सीट से लगातार चार बार विधानसभा चुनाव जीत चुके सुरेंद्र गोयल को टिकट न मिलने से वहां के बीजेपी कार्यकार्य खासे नाराज है। सुरेंद्र ने कहा कि मैंने आज तक किसी भी भाजपा नेता की चापलूसी नही की इसलिए भाजपा नेतृत्व को लगता है कि मै संघ विरोधी हूं जिसके चलते मेरा टिकट काटा गया है।

सोशल मीडिया पर जुड़ें

38,231FansLike
0FollowersFollow
1,271FollowersFollow
1FollowersFollow
1,256FollowersFollow
785FollowersFollow

Recent Posts

708 POSTS0 COMMENTS
143 POSTS0 COMMENTS
47 POSTS0 COMMENTS
1 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS