fbpx
सोमवार, जनवरी 25, 2021

यहाँ हम कैराना में उलझे हैं और उधर इराक में 39 लोग लापता, हत्या की आशंका

NewBuzzIndia:

देश के कई लोग नौकरी के सिलसिले में देश के बाहर जाते हैं। पैसा कमाने की चाह लोगों को खतरों से भरे अरब देशों में भी ले जाती है। भारत के ऐसे ही 39 लोग साल 2014 से इराक में लापता हैं। उन लोगों के परिवारवालों को अबतक समझ नहीं आ रहा कि उनके सगे-संबंधी जिंदा भी हैं या फिर नहीं। मामला 2014 का है जब आईएस ने ईराक पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद से इन लोगों की कोई खबर नहीं आई। हालांकि, सुषमा स्वराज का कहना है कि वे सभी लोग ईराक में सही सलामत हैं, पर इन लोगों को वहां ले जाने वाले शख्स का दावा है कि उन सभी को उसके सामने ही आतंकियों ने मार दिया था।
जिस शख्स ने यह दावा किया है उसका नाम हरजीत मसीह है। बटला में रहने वाले इस शख्स को पुलिस ने विदेश मंत्रालय के कहने पर गिरफ्तार किया था। लापता लोगों के परिवारवालों ने हरजीत पर आरोप लगाए हैं कि वह ही उन लोगों को इराक लेकर गया था। परिवारवालों ने अपनी शिकायत में यह भी कहा है कि हरजीत ने विदेश भेजने के बदले 1.5-2 लाख रुपए लिए थे। हरजीत भी इराक में ही काम करता था। विदेश मंत्रालय ने हरजीत के साथ उसके एक रिश्तेदार राजबीर को भी पकड़ने को कहा है। परिवारवालों को लगता है कि हरजीत और राजबीर ने मिलकर उन लोगों को आईएस को बेच दिया।
हालांकि, पकड़े जाने के बाद हरजीत ने बताया था कि उसके सामने ही आईएस के आतंकियों ने सभी लोगों को मार दिया था। उसके मुताबिक, वह किसी तरह भागने में कामयाब हो गया था। उसके एक गोली लगने का निशान अब तक है। हरजीत की इस बात पर परिवारवाले भरोसा करना भी चाहें तो विदेश मंत्रालय उन्हें करने नहीं देता। सुषमा स्वराज ने सभी लोगों से कहा है कि उनके सगे-संबंधी इराक में जिंदा हैं और ठीक हैं। सुषमा उन्हें सही सलामत लाने का वादा भी करती हैं। अमृतसर से लापता मनजिंदर सिंह की बहन गुरपिंदर सिंह कहती हैं, ‘जब भी मैं सुषमा स्वराज से हरजीत के बारे में कहती हूं तो वह बोलती हैं कि मुझ से उसके बारे में बात मत करो। तुम्हें उसपर भरोसा है या मुझपर।’
वहीं, अपनी सफाई में हरजीत का कहना है, ‘मेरे खिलाफ मानव तस्करी का आरोप कैसे लग सकता है। सभी लोग अपने परिवारवालों को पैसा भेजते थे। सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट करते थे। तस्करी करके ले जाए गए लोगों को सैलरी नहीं मिलती है।’
फिलहाल हरजीत और राजबीर विदेश मंत्रालय की निगरानी में हैं। मंत्रालय का कहना है कि उन्हें जान का खतरा हो सकता है। वहीं, दूसरी तरफ 39 लोगों के परिवारवालों को 2 साल बाद भी समझ नहीं आ रहा कि उनके भाई, पति, बेटा जिंदा है या नहीं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह,...

शुक्रवार को भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन में पुलिस प्रशासन ने की यह बड़ी कार्यवाही

किसानों का प्रदर्शन पूरे भारत मे अब उर्ग हो चुका है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) ने भी किसानों के खिलाफ प्रशासन को...

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस...

Related Articles

विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी को लगा एक और झटका, अब इस मंत्री ने दिया इस्तीफा

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले TMC अध्यक्ष और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक और झटका लगा है अब...

मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से भाजपा शासित राज्यों में शराब बंदी के लिए अनुरोध किया

मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री(Ex- Chief Minister) उमा भारती(Uma Bharti) ने शराबबंदी को लेकर अपनी राय सोशल मीडिया के माध्यम से रखी है।...

केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच नहीं बन पा रही है कृषि कानून को लेकर सहमति

बुधवार को किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच 10वें दौर की बातचीत खत्म हो गई और किसी भी नतीजे पर नहीं पहुची। बैठक...