fbpx
Monday, May 10, 2021
Home Tags Hindutva

Tag: Hindutva

News related to hindutva.

विश्व हिन्दू परिषद का राम जन्म भूमि को लेके एक बड़ा एलान

0

विश्व हिंदू परिषद ने राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को सहायता प्रदान करने लिए हिंदू समाज से मौद्रिक प्रसाद एकत्र करने के दायरे का विस्तार करने का संकल्प लिया है | इसी सिलसिले में रायसेन के दीवान सिंह गोर ने 1 लाख 1 हज़ार की राशि मंदिर निर्माण हेतु प्रदान की औरअयोध्या में श्री राम जन्मभूमि मंदिर एवं अन्य सुविधाओं के निर्माण में योगदान के लिये 4,00,000 गांवों और 11 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया था | VHP का एमपी के 50 हजार गांव तक पहुंचने का लक्ष्य है |

किन संस्थाओं का होगा योगदान ?

मंदिर निर्माण के लिए टाटा कंसलटेंसी सर्विस के इंजीनियर लार्सन एंड टूब्रो मंदिर निर्माण में लगे हुए हैं | इसके साथ ही आईआईटी मुंबई, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी चेन्नई, आईआईटी गुवाहाटी, और सीबीआरआई रुड़की के इंजीनियर भी मंदिर निर्माण में अपना सहयोग देंगे | 2024 तक श्री राम लला की भव्य मूर्ति मुख्य मंदिर के गर्भ गृह में स्थापित हो जाएगी, जिसके बाद भक्तों को भगवान के मंदिर के दर्शन करने के लिए आमंत्रण किया जा सकेगा |

यह एक विचार है

विश्व हिंदू परिषद का कहना है कि यह सिर्फ एक आंदोलन नहीं है बल्कि संपूर्ण हिंदू समाज के कायाकल्प का एक सचेता प्रयास है | इस सोच और विचार के साथ इस भव्य मंदिर का निर्माण कार्य संपन्न होने जा रहा है |लक्ष्य प्राप्त करने के लिए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र प्रांत उपाध्यक्ष पीतांबर राजदीप, प्रांत संगठन मंत्री खगेन्द्र भार्गव और अभियान प्रमुख मलखान सिंह राजपूत जैसे कई अधिकारी इस अभियान में शामिल हुए |

हिंदू परिषद की की धर्मसंसद में संतों का हंगामा, मंदिर निर्माण पूछी तारीख

0

संतों ने धर्मसंसद में किया हंगामा। कार्यक्रम में नीचे बैठे कई संत और लोग नारेबाजी करने लगे। संत राम मंदिर निर्माण की तिथि घोषित करने की मांग कर रहे हैं। मंच से बार बार संतो को शांत करने की अपील की गई। मोहन भागवत ने कहा- मंदिर उसी स्थान पर बनेगा सिर्फ 6 महीने तक इंतजार करें, केंद्र में मोदी की सरकार फिर से लाएं क्योकि कोई दूसरा राम के प्रति समर्पित नहीं है। यह निर्णायक दौर है इसमें धैर्य रखना जरूरी है। विहिप के द्वारा धर्म संसद पर लाये गए प्रस्ताव पर आरएसएसके सर संघचालक मोहन भगवत ने कहा कि, संघ राम जन्मभूमि आंदोलन का कार्यकर्ता है, हमें मंदिर से कम कुछ स्वीकार्य नहीं है। विहिप की दूसरे दिन की धर्म संसद शुरू हो चुकी है।

धर्मसंसद में संतों ने पीएम मोदी पर भरोसा जताते हुए लोकसभा चुनाव तक राम मंदिर निर्माण को लेकर आंदोलन स्थगित करने की बात कही है। धर्म संसद में कहा गया कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर देकर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर कर दी है। संतों को मोदी सरकार पर पूरा भरोसा है। कुंभ मेला क्षेत्र में विश्‍व हिंदू परिषद की ओर से आयोजित धर्म संसद का आज दूसरा दिन है। धर्म संसद के आखिरी दिन शुक्रवार को राम मंदिर निर्माण पर बड़े फैसले आने की संभावना है। कुंभ क्षेत्र में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा गरमाया हुआ है। पहले दिन इसे हिंदुओं की आस्था पर चोट करार देते हुए अयोध्या जैसे आंदोलन की घोषणा की गई। स्वामी वासुदेवानंद की अध्यक्षता तथा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत, योग गुुरु रामदेव समेत अनेक साधु संतों की मौजूदगी में ‘हिंदू समाज के विघटन का षड्यंत्र रोकने’ का प्रस्ताव भी पारित किया गया। गुरुवार को पूरे दिन कवायद चलती रही।

संघ, सरकार और संत तीनों अपनी-अपनी जिम्मेदारी के अनुसार रणनीति बनाने में व्यस्त रहे। इस कवायद से यह बात निकलकर आई है कि कुंभ क्षेत्र में मंदिर पर कोई चौंकाने वाला फैसला आ सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संघ प्रमुख मोहन भागवत की करीब डेढ़ घंटे तक चली वार्ता का मुख्य विषय था। राम मंदिर निर्माण। मुख्यमंत्री कुंभ क्षेत्र में संघ प्रमुख से मिलकर मंदिर मसले पर सरकार की स्थिति स्पष्ट करने आए थे। मुख्यमंत्री ने संघ प्रमुख से बताया कि सरकार मंदिर निर्माण करने पर दृढ़ प्रतिज्ञ है, लेकिन कोर्ट की वजह से इसमें समय लग रहा है। इस वजह से सरकार चाहकर भी इसमें जल्दीबाजी नहीं कर पा रही है। इसी तरह संतों से मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने मंदिर निर्माण पर सरकार का समर्थन मांगा। योगी ने शंकराचार्य निश्‍चलानंद को आश्‍वस्त किया कि अयोध्या में मंदिर अवश्य बनेगा लेकिन इसमें उसे मोहलत चाहिए।

देर शाम फिर चली बैठक

पहले दिन की धर्म संसद के समापन के बाद मोहन भागवत, सह सर कार्यवाह कृष्णगोपाल, विहिप के कें द्रीय अध्यक्ष वीएस कोंकजे, केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे के बीच शुक्रवार को मंदिर मुद्दे पर होने वाली धर्म संसद को लेकर बैठक हुई। जिसमें संतों में मंदिर निर्माण में देरी से चल रही नाराजगी को दूर करने और मंदिर पर किस तरह का फैसला लिया जाए, इस पर मंथन हुआ। इस बैठक में बाद पहली फरवरी की धर्म संसद के प्रस्ताव की रिपोर्ट में क्या-क्या लिखा जाएगा, यह भी पदाधिकारियों के बीच तय हुआ। कहा जा रहा है शुक्रवार को होने वाले फैसले के विषय में कुछ प्रमुख संतों को एक दिन पहले ही जानकारी दी गई है,जिससे आखिरी दिन माहौल बिगठने ना पाए। यह भी कोशिश हो रही है कि धर्म संसद के आखिरी दिन ज्यादा से ज्यादा से संत पहुंचे।

धर्म संसद पर लगी सरकार की निगाह

केंद्र और प्रदेश सरकार की निगाह भी धर्म संसद पर लगी हुई है। पहले दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद संतों, संघ, विहिप पदाधिकारियों के बीच उपस्थित रहे। प्रदेश सरकार के दोनों अहम व्यक्तियों की कोशिश रही कि मंदिर को लेकर संतों का समर्थन हासिल कर सकें। बताया जा रहा है कि पीएमओ भी कुंभ नगर में मंदिर मसले को लेकर क्या-क्या चल रहा है, इसकी लगातार रिपोर्ट ले रहा है।

क्या अब स्कूल यूनिफॉर्म का रंग भी हो जाएगा भगवा! पढ़िए बड़ी खबर

0

यूपी के सीएम की कुर्सी पर काबिज होने के बाद से योगी आदित्यनाथ धड़ाधड़ फैसले ले रहे हैं। यूपी के विकास के लिए योगी लगभग हर रोज अलग-अलग विभागों के अफसरों और मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं। सरकारी योजनाओं का लाभ आम जनता तक पहुंचे इसे लेकर वे बेहद गंभीर हैं। बीते दिनों बेसिक शिक्षा विभाग की हुई प्र‍ेजेंटेशन के दौरान कुछ ऐसा वाक्या घटित हुआ जिससे यह साफ़ है कि सीएम योगी जनता के लिए काम करना चाहते हैं।

गोंडा में दलित ने की आत्महत्या, गोहत्या के आरोप से बंद था हुक्का-पानी।

0

यूपी में गोंडा में गलती से गाय की हत्या करने वाले एक दलित नौजवान ने खुदकुशी कर ली. 18 साल के रामू को गांववालों के बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा था.
ट्रेन के सामने कूदा रामू
पुलिस को रामू का शव शनिवार की सुबह इटियाथोक थाना क्षेत्र के बहलोलपुर गांव के पास मिला. गांववालों के मुताबिक वो घास काटने की बात कहकर घर से निकला था. कुछ देर बाद ही उसकी मौत की खबर मिली. हालांकि उसके पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं किया गया.

गलती से हुई थी बछड़े की हत्या
रामू गोपालपुर बरंडी गांव में अपनी मां और तीन भाइयों के साथ रह रहा था. मजदूरी से पेट पालने वाले रामू की अभी शादी भी नहीं हुई थी. तीन दिन पहले खूंटा गाड़ते वक्त उसका हथौड़ा गलती से बछड़े के सिर पर जाकर लगा जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

बहिष्कार कर रहे थे गांववाले
घटना के बाद गांववालों की कई बैठकें हुईं. ये फैसला किया गया कि पंचायत के आखिरी फैसले तक रामू का बायकॉट किया जाएगा. गांव के रिवाज के मुताबिक गोहत्या करने वाले शख्स को साल भर के लिए गांव से बाहर अकेले रहना होता है. इस दौरान उसे खाना भी खुद ही बनाना पड़ता है. बछड़े की मौत के बाद गांव के लोग रामू से बोलचाल नहीं कर रहे थे.

इंसाफ के लिए बुलाई गई थी पंचायत
रामू की मां बहिष्कार के बाद अपने बेटे की परेशानी से वाकिफ थी. वो बेटे की बेगुनाही साबित करने के लिए पंचायत बुलाने की तैयारी कर रही थी. इस सिलसिले में गांव की प्रधान से मिलने के करीब घंटे भर बाद ही उसे बेटे की मौत की खबर मिली.

भाजपा सरकार नही चाहती राम मंदिर निर्माण काँग्रेस के पूर्व प्रधानमंत्री ने तैयार कर रखी थी मंदिर निर्माण की रूपरेखा: दिग्विजय सिंह

0

Newbuzzindia : कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन पर कभी मस्जिद थी ही नहीं। उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद ने जिसे मस्जिद बताकर गिराया था वो मंदिर था और इसके प्रमाण भी मिले है।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा मंदिर निर्माण कराना ही नहीं चाहती है। उन्होंने बताया कि 1996 में कांग्रेस सरकार बन जाती तो मंदिर निर्माण हो गया होता। पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंम्हा राव ने राम मंदिर निर्माण की रूपरेखा तैयार कर ली थी।

इस मौके पर गौ-हत्या पर भी दिग्विजय सिंह ने बयान दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस गौ-हत्या के खिलाफ है। वो चाहते है कि देशभर में गौ-हत्या बंद हो। लेकिन इस मामले में भाजपा का दोहरा चरित्र है। दिग्विजय ने कहा कि केरल में भाजपा नेता ने मतदाताओं से कहा है कि वो उन्हें जिता देंगे तो उनके लिए अच्छे बीफ की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा गोवा, अरूणाचल और मणिपुर में बीजेपी की सरकार है, तो फिर वहां गौ-हत्या क्यो हो रही है।
गोटेगांव में परमहंसी आश्रम पहुंचे एमपी के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने ईवीएम मशीन की निष्पक्षता पर खड़े किए सवाल करते हुए उसे भाजपा की साजिश बताया वही बैलेट पेपर से मतदान करने की वकालत की।

मांसबंदी: मीट पैक करता पकड़ा गया भाजपा नेता।

0

यूपी सरकार ने अवैध बूचड़खानों पर पाबंदी लगा दी है। तालाबंदी का दौर जारी है। इधर हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने भी अपने स्तर पर छापामारी शुरू कर दी है। मेरठ में बजरंग दल द्वारा की गई एक छापामारी में भाजपा नेता ही मीट पैकिंग यूनिट में काम करता मिला। आरोप है कि वह इस यूनिट का मालिक है।

यह घटना उस वक्त सामने आई जब योगी आदित्यनाथ की सरकार प्रदेशभर में अवैध बूचड़खानों और मीट की दुकानों पर लगातार कार्रवाई कर रही है। जयभीमनगर में जिन भाजपा कार्यकर्ताओं को पूछताछ चल रही है उसका नाम राहुल ठाकुर है, उसपर आरोप है कि वह अवैध तरीके से मीट पैकिंग का काम करता है। राहुल ने बताया कि इस मीट पैकिंग यूनिट का मालिक राहुल राघव और अनुज चौधरी है।

बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जब मौके पर छापेमारी की, इस दौरान इनपर वहां मौजूद पुलिसकर्मियों से झड़प करने का आरोप है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामला दर्ज कराया जा सकता है अगर राहुल ठाकुर इसके खिलाफ शिकायत करते हैं। वहीं भाजपा के जिला इकाइ के अध्यक्ष करुणेश नंदन गर्ग ने बताया कि वह इस मामले की जांच कराएंगे, इसके साथ ही वह राहुल ठाकुर के इस मामले में लिप्त होने की भी जानकारी हासिल करेंगे कि क्या वह अवैध बूचड़खाना चला रहे थे।

अनोखा मंदिर! यहां भगवान के दर्शन से डरते हैं लोग, करते हैं सिर्फ पीठ की पूजा

0

मंदिरों में देवी-देवताओं के दर्शन-पूजन की परंपरा तो सब जगह प्रचलित है, लेकिन उत्तराखंड में एक ऐसा भी मंदिर है जिसमें भगवान के चेहरे के बजाय उनकी पीठ के दर्शन किए जाते हैं। उत्तरकाशी के छोटे-से कस्बे नैटवाड़ में भगवान पोखूवीर का मंदिर है। इस इलाके में पोखूवीर को न्याय का देवता माना जाता है। लोगों की मान्यता है कि जो भी उनसे न्याय मांगता है, वे बिल्कुल सही और निष्पक्ष इंसाफ करते हैं, लेकिन उनके मुख के दर्शन नहीं किए जाते।

लोगों की आस्था इनसे गहराई तक जुड़ी है। पुराने समय में जब लोगों को निष्पक्ष न्याय नहीं मिलता था या जब वे न्याय प्रणाली को अपनाना पसंद नहीं करते थे, तो पोखूवीर से इसकी गुहार करते थे। लोगों का कहना है कि जो दोषी होता है, उसे पोखूवीर किसी भी रूप में दंड दे सकते हैं। 

यहां पोखूवीर से जुड़ी अनेक कथाएं भी प्रचलित हैं। कहा जाता है कि बहुत प्राचीन समय में जब किरिमर दानव ने इस इलाके में आतंक मचाया तो जनता की रक्षा के लिए राजा दुर्योधन ने उससे युद्ध किया। युद्ध में दानव हार गया और दुर्योधन ने उसकी गर्दन काटकर टोंस नदी में फेंक दी।

किरिमर दानव का सिर प्रवाह की दिशा के बजाय उलटा बहने लगा। जहां रूपिन और सूपिन नदी का संगम आता है, वहां ये नैटवाड़ में ये रुक गया। राजा दुर्योधन ने जब किरिमर दानव के सिर को देखा तो उसे नैटवाड़ में ही स्थापित कर दिया और यहीं उसका मंदिर बना दिया। आज यह पोखूवीर के नाम से जाना जाता है।

मंदिर से एक और कथा भी जुड़ी है। कहते हैं कि यह दानव नहीं बल्कि वभ्रूवाहन था। कृष्ण ने महाभारत के युद्ध से पूर्व ही उसका शीश काट दिया था। इस इलाके की खासियत है कि यहां कई स्थानों पर कौरवों की पूजा होती है। यहां तक कि दुर्योधन का मंदिर भी है। एक अन्य मंदिर में कर्ण की पूजा की जाती है।

बाबा रामदेव ने बनाई देशद्रोह की नई परिभाषा, कहा ‘नोटेबंदी के विरोधी देशद्रोही हैं।’

0

Newbuzzindia:​ नरेंद्र मोदी सरकार के नोटबंदी का समर्थन करते हुए इस फैसले की आड़ में बाबा रामदेव ने देश को देशद्रोह की एक नई परिभाषा दे दी है। बाबा का कहना है कि इस फैसले का विरोध करना राष्‍ट्रद्रोह जैसा है। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वे राष्‍ट्रद्रोह कर रहे हैं। उन्‍होंने संत समाज के साथ प्रेस कांफ्रेंस करतेे हुए कहा कि इस फैसले से आतंकवाद की फंडिंग बंद हुई है। आतंकवादियों को सबसे बड़ा नुकसान हुआ है। देश की आजादी के बाद से नक्‍सलवाद से सबसे ज्‍यादा नुकसान हुआ है। इस कदम से उन्‍हें भी नुकसान पहुंचा है। आतंकवाद और नक्‍सलियों की फंडिंग रूकेगी। पाकिस्‍तान से आने वाले जाली नोट भी बंद हुए हैंं।
रामदेव ने कहा कि नोटबंदी से बैंकों की ब्‍याज दर भी कम होगी। इससे लोगों के लिए घर बनाना आसान हो जाएगा। विदेशों में ब्‍याज दर 5 प्रतिशत के करीब रहती है। जबकि भारत में यह रेट 12-15 प्रतिशत के बीच रहती है। सरकार के फैसले से ब्‍याज दर सात प्रतिशत पर आ जाएगी। 

 रामदेव ने कहा कि करप्‍ट लोग नहीं बदले तो मोदी जी ने नोट बदल दिया। बड़े नोट बंद होने से भ्रष्‍टाचारियों के लिए रिश्‍वत लेना मुश्किल हो जाता है। रामदेव ने कहा कि करप्‍ट लोग नहीं बदले तो मोदी जी ने नोट बदल दिया।  इससे पहले बाबा रामदेव ने कहा था कि नोटबंदी के फैसले से नरेंद्र मोदी की जान पर खतरा बढ़ गया है।

भारत में रहने के लिए मुसलमानों को अपनाना होगा हिन्दू धर्म : विश्व हिंदू परिषद्

0

भारत में रहना है तो “जय श्री राम” कहना है । यह नारा सुने आपको काफी समय हो गया होगा । विश्व हिंदू परिषद् ने इस नारे की आवाज फिर बुलंद करते हुए नया विवाद खड़ा कर दिया है । विश्व हिंदू परिषद् ने कहा है कि ” मुस्लिमों को अगर भारत में रहना है तो हिन्दू धर्म अपनाना होगा”

Newbuzzindia: न्यूज वेबसाइट Coastaldigest.com की रिपोर्ट के मुताबिक विश्व हिंदू परिषद के ज्वाइंट सेक्रेट्री सुरेंद्र कुमार जैन ने रविवार को ‘हिंदू जाया घोष’ मीटिंग में मुसलमानों के खिलाफ अपने कट्टरपंथी विचारधारा का प्रदर्शन करते हुए सभी मुसलमानों को हिंसक बताया और कहा, ‘मुस्लिमों में कुछ ऐसे ग्रुप हैं, जो कि एक दूसरों को नफरत करते हैं। सुन्नी शियाओं को मारते हैं और शिया सुन्नियों को मारते हैं।

मुस्लिम देशों में कोई शांति नहीं है। दुर्भाग्यवश, वे लोग इस देश में भी शांति भंग करना चाहते हैं।’ साथ ही जैन ने मुस्लिमों से कहा कि उनके पैतृक हिंदू ही थे। अगर वे इस्लाम को छोड़कर हिंदू धर्म अपना लेते हैं तो विश्व हिंदू परिषद उनकी पूरी सुरक्षा करेगा। अगर मुस्लिम भारत में रहना चाहते हैं तो मुस्लिमों को पैंगबर मोहम्मद की जगह, श्रीराम के रास्तों पर चलना होगा।’

गौरतलब है कि सुरेंद्र कुमार जैन पहले भी विवादित बयान देते रहे हैं। उन्होंने अप्रैल महीने में दारुल उलूम देवबंद पर बैन लगाने की मांग की थी। जैन ने देवबंद को आतंक की फैक्ट्री करार दिया था। बता दें, दारुल उलूम देवबंद ने भारत माता की जय को मुस्लिम विरोधी बताया था। उसके बाद जैन ने फतवा जारी करने वाली मौलवी के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की थी।

‘कांग्रेस के लिए वोट बैंक से बढ़कर कुछ भी नही है मुस्लिम समुदाय !’

0

Newbuzzindia: कांग्रेस ने मुस्लिम समुदाय को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया तथा उन्हें कभी विकास की राह पर आगे बढऩे नहीं दिया। इस वजह से मुस्लिम समुदाय विकास की मुख्य धारा से नहीं जुड़ पाया। अब मुस्लिम समुदाय कांग्रेस की इस चाल को समझ चुका है। उसका दामन छोड़ भाजपा के साथ जुड़ विकास के मार्ग पर अग्रसर हो रहा है। यह बात राजस्थान वक्फ बोर्ड के चेयरमेन अबुबकर नकवी ने कही।

शुक्रवार को नकवी ने सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा सामाजिक उत्थान के लिए शिक्षा अनिवार्य है तथा मुस्लिम समुदाय का युवा वर्ग आज शिक्षा को अंगीकार कर रहा है। भाजपा की केन्द्र व राज्य सरकार मुस्लिम समुदाय के उत्थान को लेकर वचनबद्ध है तथा कई कार्यक्रम हाथ में लिए हैं। समुदाय के लोग योजनाओं का लाभ उठाएं।

आपको बता दे की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से नबार्ड कीर योजना के तहत वक्फ की जमीन पर निर्माण करने तथा उसका सामाजिक कार्य में उपयोग करने विशेष सहयोग भी दिया जा रहा है। इससे यह सम्पत्तियां सुरक्षित हो जाएंगी।