Monday, September 26, 2022
Home Tags Uttar pradesh

Tag: uttar pradesh

महिला अपराधों से जुड़े मामले दर्ज करने में देरी, हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को लगाई फटकार

0
yogi adityanath

उत्तर प्रदेश पुलिस पर एक बार सवाल उठाते हुए हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने महिलाओं के खिलाफ अपराध से जुड़े मामले दर्ज करने में पुलिस की देरी पर फटकार लगाई है। एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सख्ती दिखाते हुए राज्य सरकार से देरी के संबंध में स्पष्टीकरण मांगा। गौरतलब है कि तीन नाबालिग पोते-पोतियों की दादी ने एक जनहित याचिका दायर की थी, जिस पर मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल और न्यायमूर्ति जे. मुनीर ने सुनवाई की।

कोर्ट ने राज्य सरकार से कहा कि कभी-कभी केस दर्ज करने में छह महीने से ज्यादा का समय लग जाता है। कोर्ट ने पूछा कि राज्य में ऐसी स्थिति क्यों पैदा की जा रही है। याचिकाकर्ता बुजुर्ग महिला ने 14 मार्च को मुकेश नाम के शख्स पर नाबालिग पोती के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था।

ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद मरीज में मिला पीला फंगस, गाजियाबाद के निजी अस्पताल में मिला ये मरीज

0

देश में ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के बाद अब एक नया फंगस सामने आया है। ये पीला फंगस है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के बाद पीला फंगस का मामला सामने आया है।

ऐसा दावा किया जा रहा है कि गाजियाबाद में पीला फंगस का एक केस मिला है। साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि पीला फंगस ( yellow fungus) इन दोनों ब्लैक फंगर और व्हाइट फंगस से ज्यादा खतरनाक है।

दरअसल अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा है कि अस्पताल में मरीज के अंदर पीले फंगस का लक्षण मिला है। उन्होंने अपनी केस स्टडी में ऐसे लक्षण का मरीज नहीं देखा है। उन्होंने कहा कि इसमें अंदर सांस लेना परेशानी नजर आ रही थी।

उन्होंने ये भी कहा कि यह जो पीला फंगस है इसका ज्यादा इलाज पढ़ाई में नहीं है लेकिन जो ब्लैक फंगस में इंजेक्शन एंफोटरइसिन बी इस्तेमाल होता है वो इसमें कारगार है। उन्होंने कहा कि ये पीला फंगस ज्यादा खतरनाक है क्योंकि यह घाव को भरने नहीं देता है।

मुख्यमंत्री योगी के टीम में काम करने वाले युवक ने की आत्महत्या,माखनलाल विश्वविद्यालय की पूर्व छात्रा को बताया मौत का जिम्मेदार

0

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सोशल मीडिया टीम में काम करने वाले एक युवक ने ने फांसी लगा कर आत्महत्या करली। युवक का नाम पार्थ श्रीवास्तव है। पार्थ ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है और अपनी मौत का जिम्मेदार शैलजा श्रीवास्तव और पुष्पेंद्र सिंह को बताया है।

बता दे कि मौत से पहले पार्थ श्रीवास्तव ने सुसाइड नोट ट्विटर पर अपलोड कर मुख्यमंत्री को टैग करते हुए अपनी कंपनी की गुटबाजी और राजनीति के बारे में बताया है। सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरी आत्महत्या एक कत्ल है जिसके जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ राजनीति करने वाली शैलजा श्रीवास्तव और उनका साथ देने वाले पुष्पेंद्र सिंह है। शैलजा श्रीवास्तव माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के एमबीए विभाग की पूर्व छात्रा रह चुकी है।

दरअसल पार्थ ने अपने सुसाइड नोट में अपनी कंपनी के तीन-चार लोगों के नामों का जिक्र किया है। कंपनी में अपने साथ काम करने वाली शैलजा श्रीवास्तव और पुष्पेंद्र सिंह को अपनी मौत का जिम्मेदार ठैराय है। हालांकि यह सुसाइड नोट कुछ समय बाद पार्थ के सोशल मीडिया एकाउंट से गायब हो गया। यह सबकुछ उसकी मौत के बाद हुआ।

मध्यप्रदेश से अब इन राज्यों के लिए परिवहन सेवा स्थगित

0

मध्य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सरकार ने चार राज्यों के बीच स्थगित की गई परिवहन सेवा की अवधि को एक बार फिर बढ़ा दिया है।

बता दे कि परिवहन विभाग ने आदेश जारी कर मध्यप्रदेश से महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के बीच स्थगित की गई बस परिवहन सेवा की तारीख को आगे बढ़ाते हुए 23 मई कर दिया है।

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। पिछले 24 घंटे में 7,571 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। पॉजिटिविटी रेट 10 दिन में 18% से घटकर 11% पर आ गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 5 जिले दतिया, भिंड, मुरैना, अशोकनगर और गुना में 50-50 से भी कम केस दर्ज किए गए।

बक्सर में गंगा किनारे मिली 40 लाशें, चारों तरफ मच रहीं है अफरा- तफरी

0

बिहार में बक्सर तक गंगा नदी में दर्जनों लाशें दिखने से हड़कंप मच गया है। दरअसल कोरोना से मौत के बाद इन्हें गंगा में बहाने की आशंका से लोग डर गए है। बिहार के अधिकारी यूपी से लाशों के बहकर आने की आशंका जता रहे है। बक्सर के डीएम ने कहा है कि इन शवों का पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

दरअसल बक्सर जिले के चौसा श्मशान घाट तक सोमवार को गंगा व कर्मनाशा नदी में करीब 35-40 लाशें बहती देखी गई थी। इससे पहले गाजीपुर जिले में भी करीब पांच-छह लाशों को गंगा के किनारे देखा गया था।

बताया जा रहा है कि संक्रमितों के मर जाने के बाद बहुत लोग गंगा व कर्मनाशा नदियों में जलप्रवाह कर चले जा रहे है जो लाशें बाद में किनारे पर लग जा रही हैं। बक्सर के डीएम अमन समीर ने इस मामले के उजागर होने के बाद शवों को बरामद कर पोस्टमार्टम कराने का आदेश दिया है।

बता दे कि कुछ लाशें सड़ी-गली अवस्था में भी थीं। इससे बदबू भी आ रही थीं। श्मशान घाट के आसपास के लोगों को रहना मुश्किल हो गया था। इसकी सूचना प्रशासन को दी गई। डीएम ने लाशों के बारे में पता लगाने के लिए सदर एसडीओ केके उपाध्याय को भेजा। 

मध्यप्रदेश से उत्तरप्रदेश जाने वाली सीमा को किया गया सील

0

कोरोना संक्रमण देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश से जुड़े राज्यों की सीमाओं को सील करने के निर्देश दिए है। और उन्होंने अब कलेक्टरों को भी इसकी शक्ति दे दी है।

बता दे कि शासन से निर्देश मिलने के बाद सतना से जुड़ी उत्तर प्रदेश की सीमाएं भी कलेक्टर अजय कटेसरिया के निर्देश के बाद सील कर दी गई है। अब उत्तर प्रदेश से आने जाने वाली सभी मार्गों को बुधवार को सील कर दिया गया है। इसके साथ ही चित्रकूट से मध्य प्रदेश में प्रवेश करने वाले मार्ग पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए है।

कलेक्टर ने निर्देश दिए कि बाहर के राज्यों से आने वाले सभी लोगों को केवल कोरोना का निगेटिव प्रमाण पत्र दिखाने पर ही प्रवेश दिया जाएगा। साथ ही साथ वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होकर आने वाले सभी लोगों को सात दिन तक क्वारंटाइन में रहना होगा। सतना जिले से ना तो कोई उप्र में जाएगा। बुधवार को पुलिस बल की मौजूदगी में चित्रकूट में दोनों प्रदेशो की सीमा में बेरिकेड और खंभे लगाकर पूरी तरह सील कर दिया गया।

मुख्यमंत्री शिवराज ने लगाया आरोप, कहा कुछ अधिकारियों ने रोके प्रदेश में आने वाले ऑक्सीजन टैंकर

0

मध्य प्रदेश में चल रही ऑक्सीजन की कमी के बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को आरोप लगाया कि कुछ राज्यों के अधिकारी उनके राज्यों से मध्य प्रदेश में आ रहे ऑक्सीजन के टैंकर रोक रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह अनुचित है एवं अपराध भी है।

शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया कि , ‘‘कोविड-19 संक्रमण की विषम परिस्थितिया बनी हुई हैं, संकटकाल है। ऑक्सीजन संजीवनी है। ऐसे में कुछ राज्यों के अधिकारी ऑक्सीजन के टैंकर रोक रहे हैं, जो अनुचित है और अपराध भी है।’’

उन्होंने आगे लिखा, ‘‘कल (रविवार को) मध्यप्रदेश राज्य के ऑक्सीजन टैंकरों को अन्य राज्यों में कुछ अधिकारियों द्वारा रोका गया। इससे समय बर्बाद होता है और इस दौरान कुछ मरीजों की जान जाने का खतरा बना रहता है।’’

चौहान ने यह भी कहा, ‘‘मैं राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपील करता हूँ कि ऐसे अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें, जो संजीवनी ऑक्सीजन के टैंकरों को अकारण रोक रहे हैं।’

मायावती का भाजपा कनेक्शन सामने लाने के लिए दिया निर्दलीय को समर्थन: अखिलेश

0
Akhilesh Yadav Samajwadi Party UP
Akhilesh Yadav Samajwadi Party UP

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज कहा कि वह भाजपा व बसपा का सच सामने लाना चाहते थे इसलिए राज्यसभा चुनाव के लिए निर्दलीय प्रत्याशी प्रकाश बजाज को समर्थन दिया। अखिलेश यादव शनिवार को आचार्य नरेंद्र देव की पुण्य तिथि पर उन्हें श्रद्घांजलि देने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे।

मीडिया से बात करते हुए अखिलेश ने कहा कि हमने जनता के सामने सच ला दिया है कि बसपा, भाजपा की बी टीम है। अब सब बातें साफ हो गई हैं। वहीं, उन्होंने बसपा सुप्रीमो मायावती पर भी निशाना साधा और कहा कि कुछ लोग भाजपा से मिले हुए हैं। भाजपा चुनाव जीतने के लिए किसी के साथ भी गठबंधन कर सकती है। अखिलेश यादव ने कहा कि आज के दिन हम सरदार पटेल, आचार्य नरेंद्र देव जी और वाल्मीकि जी को याद कर रहे हैं।

अखिलेश यादव ने आगे कहा है कि भाजपा की गलत नीतियों के चलते प्रदेश के किसान बेहाल हैं। बिचौलियों और बड़े व्यापारियों के सरकारी तंत्र से मिलीभगत की वजह से किसान अपनी फसल उन्हें औनपौने दाम पर बेचने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि सरकार झूठे दावों के बल पर अपनी कमियों पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है। भाजपा सरकार किसानों की आय दुगनी करने और किसान की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं कृषि उपज की उत्पादन लागत का डेढ़ गुना करने का वादा भूल चुकी है। किसानों को इस वर्ष धान की फसल से बहुत उम्मीद थी, लेकिन किसानों को 1888 रुपये के घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य के बजाय 800 से 1000 रुपये या अधिकतम 1200 रुपये प्रति कुंतल की दर से धान बेचने को मजबूर होना पड़ रहा है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि धान केन्द्रों पर भी नमी के बहाने किसानों का शोषण हो रहा है। धान की खरीद में निजी एजेंसियों की चांदी है। मक्का माटी मोल बिक रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा लाये गए नए कृषि विधेयक से खेत पर किसान का मालिकाना हक समाप्त हो जाएगा। उसकी खेती कॉरपोरेट कंपनियों की शर्तों पर होगी। उन्होंने कहा कि देशवासियों को भाजपा से सावधान रहना चाहिए।

हाथरस जा रहे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने धक्कामुक्की कर किया गिरफ्तार

0
Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

यूपी में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने जा रहे काग्रेस नेता राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उनके साथ प्रियंका गांधी भी मौजूद हैं। हिरासत में लिए जाने से पहले राहुल गांधी और पुलिस कर्मियों के बीच बहस और झूमाधटकी भी हुई।
पुलिस से सावल करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ”किस धारा में मुझे गिरफ्तार किया जा रहा है। अकेला जाना धारा 144 का उल्लंघन कैसे है।” राहुल गांधी की इस दलील पर मौजूद पुलिस अधिकारी ने कहा कि धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

इससे पहले राहुल गांधी को रोकने के लिए पुलिस कर्मी ने धक्का दिया। राहुल नीचे गिर गए। इस दौरान राहुल गांधी एबीपी न्यूज़ से बात कर रहे थे। घटना पर एबीपी न्यूज़ के संवाददाता ने राहुल गांधी से सवाल किया तो उन्होंने कहा कि थोड़ा सा धक्का लगा, कोई बात नहीं है। कभी-कभी ऐसा होता है। मैं दलित परिवार से मिलना चाहता हूं।

राहुल गांधी ने ट्वीट भी किया। उन्होंने कहा, ”इस घटना के बाद राहुल गांधी ने कहा, ”दुख की घड़ी में अपनों को अकेला नहीं छोड़ा जाता। UP में जंगलराज का ये आलम है कि शोक में डूबे एक परिवार से मिलना भी सरकार को डरा देता है। इतना मत डरो, मुख्यमंत्री महोदय!”

बता दें कि उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने के लिए करीब एक बजे राहुल गांधी अपने आवास से निकले। इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी मौजूद रहीं। उन्हें नोएडा में डीएनडी पर रोकने की कोशिश की गई। काफिले को ग्रेटर नोएडा पुलिस ने रोक लिया। जिसके बाद वे पैदल ही हाथरस के लिये निकल गये।

आगे कुछ दूर चलने के बाद यूपी पुलिस ने फिर उन्हें रोकने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस ने धक्कामुक्की की। राहुल नीचे गिर गए। राहुल को चोट भी लगी है।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को गाड़ी में बैठाकर पुलिस लेकर चली गई। वहां मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता का सिर फूट गया।

कांग्रेस के प्रदेश मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया कि प्रियंका और राहुल हाथरस कांड के पीड़ित परिवार से मुलाकात करने जा रहे थे। रास्ते में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने उनके काफिले को परी चौक इलाके में रोक लिया।

इस बीच, राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने राहुल और प्रियंका पर निशाना साधते हुए कहा, ‘ये जो भाई—बहन दिल्ली से चले हैं, उन्हें राजस्थान जाना चाहिये था। जहां भी ऐसी घटना होती है, वह जघन्य अपराध होता है। राजस्थान में भी वारदात हुई थी, मगर कांग्रेस हाथरस की घटना पर गंदी राजनीति कर रही है।’

उधर, हाथरस जिलाधिकारी पी।के। लक्षकार ने बताया कि जिले में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है, जो आगामी 31 अक्टूबर तक प्रभावी रहेगी। जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गयी हैं।

गौरतलब है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था। लड़की को रीढ़ की हड्डी में चोट और जीभ कटने की वजह से पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उसके बाद उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी।

इस घटना को लेकर देश भर में जगह—जगह प्रदर्शन किये गये। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फोन करके इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने को कहा था। राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिये विशेष जांच दल गठित किया है।

यूपी में फैला जंगलराज, पता नही सरकार कब तक सोएगी: प्रियंका गांधी

0

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को जिंदा करने में लगी पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश में बड़ती अपराधिक घटनाओं को लेकर एक बार फिर योगी सरकार पर हमला बोला है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि उप्र में जंगलराज फैलता जा रहा है और क्राइम और कोरोना कंट्रोल से बाहर है।

बुलंदशहर की एक घटना का जिक्र करते हुए प्रियंका ने लिखा कि बुलंदशहर में श्री धर्मेन्द्र चौधरी जी का 8 दिन पहले अपहरण हुआ था। कल उनकी लाश मिली। कानपुर, गोरखपुर, बुलंदशहर। हर घटना में कानून व्यवस्था की सुस्ती है और जंगलराज के लक्षण हैं। पता नहीं सरकार कब तक सोएगी?