fbpx
सोमवार, मार्च 8, 2021
होम टैग्स Sonia gandhi

टैग: sonia gandhi

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

0

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह, पीसी शर्मा, कुणाल चौधरी भी शामिल रहे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की तरफ से लिखे गए इस ज्ञापन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से कृषि कानूनों को वापस लेने का आग्रह किया गया है।

नया कृषि कानून किसी भी रूप में देश के अन्न दाताओं के लिए सही नहीं हैं। चार पन्नों के इस ज्ञापन में कुल 9 बिंदुओं के आधार पर बताया गया कि कृषि कानूनों का क्यों इतना विरोध हो रहा है और इन्हें रद्द करना क्यों ज़रूरी है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की तरफ से यह ज्ञापन उनके अतिरिक्त सचिव राजेश कुमार कौल ने स्वीकार किया।

आज कांग्रेस ने भोपाल में कृषि कानूनों के खिलाफ ज़ोरदार प्रदर्शन किया। कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने कांग्रेस नेताओं पर बर्बरतापूर्ण कार्रवाई करनी शुरू कर दी। पुलिस ने लाठीचार्ज करने के साथ आंसू गैस के गोले भी छोड़े। पुलिस की इस कार्रवाई में कांग्रेस नेताओं के साथ किसानों, महिलाओं और मीडियाकर्मियों को भी चोट आईं।

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत 20 कांग्रेस नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने कांग्रेस नेताओं को गिरफ्तार कर केन्द्रीय जेल भेजा था। कांग्रेस ने इस कार्रवाई को लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। कांग्रेस नेताओं ने पुलिस की कार्रवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि कांग्रेस किसानों के लिए संघर्ष करती रहेगी। सरकार की इस दमनकारी नीति के विरुद्ध कांग्रेस दबने और डरने वाली नहीं है।

22 जनवरी को आयोजित होगी कांग्रेस की सीडब्ल्यूसी की बैठक

0

इंडियन नेशनल कांग्रेस(Indian National Congress) ने अपनी कार्यसमिति सीडब्ल्यूसी(CWC) की बैठक 22 जनवरी को बुलाई है। पार्टी इस बैठक में किसानों के मुद्दों, अर्नब गोस्वामी चैट लीक और कोविड-19 महामारी पर चर्चा करेगी। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने बताया कि यह बैठक वर्चुअल आयोजित की जाएगी और इसकी अध्यक्षता कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी।

हजारों किसान पिछले कई महीनों से राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं, जिसमें तीनों कानूनों को निरस्त करने की मांग की गई है। बुधवार को किसानों और सरकार के बीच 10वें दौर की वार्ता एक बार फिर बेनतीजा रही। मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने तीनों कृषि कानूनों को लेकर सरकार के ऊपर निशाना साधते हुए कहा था कि यह कानून कृषि क्षेत्र को तबाह करने के लिए लाए गए हैं।

कांग्रेस ने अर्नब गोस्वामी से जुड़े कथित चैट लीक को लेकर सरकार को घेरने के लिए पूर्व रक्षामंत्री एके एंटनी, पूर्व गृहमंत्री सुशील शिंदे, पूर्व कानून मंत्री और विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद को मैदान में उतारा। कांग्रेस ने देश की सुरक्षा से जुड़ी गुप्त सूचना लीक करने को देशद्रोह बताया और मामले की तत्काल जांच की मांग की।

सोनिया गांधी का मोदी सरकार पर हमला,बोली देश ने ऐसी निरंकुश,संवेदनहीन और निष्ठुर सरकार नहीं देखी

0

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए सरकार को निष्ठुर निरंकुश और संवेदनहीन बताया है।

सोनिया गांधी ने कहा कि देश में ऐसी सरकार कभी नहीं देखी जिस के राज में 44 दिन से अन्नदाता हैरान-परेशान दिल्ली की सड़कों पर जमा है और सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है

देश में बढ़ रही महंगाई,बेरोजगारी पर गांधी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतें अपने निम्नतम स्तर पर है तब यह सरकार देश के मध्यम वर्ग और कृषक वर्ग ₹84 लीटर का पेट्रोल बेच रही है जो 73 सालों में सबसे अधिक है

गांधी ने कहा कि यह सरकार अपने पूंजीपति दोस्तों स्वयं का खजाना भरने का काम कर रही है आज देश की कमर तोड़ महंगाई ने देशवासियों को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है लेकिन उससे निपटने के बजाय यह सरकार अपने चंद पूंजीपतियों दोस्तों को खुश करने में लगी हुई है।

गांधी ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमत भारत के मुद्रा के हिसाब से ₹23.62 पैसे के लगभग है इस कीमत पर सरकार को तेल बेचना चाहिए साथ ही घरेलू रसोई गैस सिलेंडर की जो कीमत यूपीए सरकार के समय थी उसी कीमत पर आम जनता को यह चीजें उपलब्ध कराई जाएं।

Withdrawal of Farm bill is a Rajdharm and true tribute to Late Farmers: Sonia Gandhi

0

“I feel too upset with the countrymen, seeing the condition of the Farmers (Annyadata) who have been struggling for 39 days in support of their demands at Delhi borders in the chilly cold and rain.” says Congress President Sonia Gandhi.

She also said that More than 50 farmers have lost their lives due to the government’s government’s reluctance to agitate. Some of them even took suicidal steps due to the government’s neglect. But the shameless Modi government neither the Prime Minister or any minister has a word of consolation till today. “I pay my respects to all the deceased peasant brothers and pray to the Lord to give their families the strength to bear this sorrow.” She added.

She further added that ensuring profits to a few industrialists has become the main agenda of this government. Rather than focusing to the public and peasants.

She urge that the Modi government should leave the arrogance of power and immediately withdraw all three farm laws unconditionally and end the agitation of the farmers. This is Rajdharma and a true tribute to the late farmers. she further added that Modi government should remember that democracy means protecting people and the peasant-workers.

सोनिया गांधी के साथ बैठक में कांग्रेस सांसदों ने की राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग

0
20200730 212800 0000
20200730 212800 0000

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ आज हुई पार्टी के राजसभा सांसदों की बैठक में एक बार फिर राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग उठी है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के ज़रिए हुई बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिहं के साथ 34 सांसदों ने इस बैठक में हिस्सा लिया।

दरअसल अगस्त की 11 तारीक को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी अंतरिम कार्यकाल पूरा हो रहा है लेकिन कांग्रेस अभी नया अध्यक्ष बनाने के मूड में नहीं दिखती।

एबीपी न्यूज़ में छपी खबर के अनुसार जैसे ही बैठक की शुरूआत हुई तो राजीव सातव, पी. एल पुनिया और छाया वर्मा ने कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी की कमान सौंपी जाए। लेकिन इस सांसदों की मांग पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इससे पहले सोनिया गांधी ने जब कांग्रेस के सभी लोकसभा सांसदों के साथ बैठक की थी तब भी यह मांग उठी थी।

इसके अलावा बैठक में कोरोना और राजस्थान के राजनीति पर भी चर्चा हुई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, कि राजस्थान के राज्यपाल बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे है जिससे लोकतंत्र की गरिमा तार-तार हो रही है। कोरोना पर चर्चा को दौरान सांसदों और कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना को रोकने पर सरकार पूरी तरह नाकाम रही है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राज्यसभा मे विपक्ष के नेता गुलामनबी आज़ाद ने सभी सांसदों से कहा कि, इस सभी विषय की लिस्ट बनाई जाए जो आने वाले समय में संसद में उठाने जाने चाहिए। वहीं सरकार जो अध्यादेश लाती उसे कैसा घेरा जाए इसके लिए एक कमेटी गठित की जाएगी।

महाराष्ट्र में कांग्रेस के समर्थन के बाद महागठबंधन की सरकार बनना लगभग तय

0

महाराष्ट्र में पूरे दिन बातचीत, बैठक और विचार- विमर्श के दौर के बाद आखिरकार कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन का पत्र दे दिया है। समाचार चैनल एबीपी न्यूज़ के हवाले से यह खबर प्राप्त हुई है।

बता दें कि आज शाम लगभग 5 बजे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से संपर्क करके सरकार बनाने के लिए समर्थन मांगा था। जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने महाराष्ट्र कांग्रेस के विधयकों से बातचीत की।

विधायकों से बातचीत करने के बाद कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन पत्र दे दिया है।

बता दें कि शिवसेना को आज शाम 7:30 बजे तक गवर्नर के सामने सरकार बनाने का दावा पेश करना है। वहीं एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने पहले ही साफ कर दिया था कि वह समर्थन देने पर फैसला कांग्रेस प्रमुख से बात करने के बाद लेंगे।

ऐसे में कांग्रेस के समर्थन के बाद महाराष्ट्र में शिवसेना- एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार बनने का रास्ता साफ हो गया है।

बड़ी खबर: सरकार बनाने उद्धव ठाकरे ने की सोनिया गांधी ने बातचीत

0

महाराष्ट्र में चल रही सियासी उथल-पथल के बीच अब शिवसेना प्रमुख ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से फ़ोन पर बातचीत की है। सूत्रों के मुताबिक दोनों ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बातचीत की। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मिताबिक अभी से कुछ समय पहले ही दोनों नेताओं ने फ़ोन पर बातचीत की।

दता दें कि कुछ ही देर में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के गवर्नर से मुलाकात करने जाएंगे। उन्हें गवर्नर की तरफ से सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए 7:30 बजे तक का समय दिया गया है।

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस ने उठाया यह बड़ा कदम

0
Image of ncp chief sharad pawar with congress president sonia gandhi

महाराष्ट्र में शिवसेना और एनसीपी के साथ सरकार बनाने को लेकर चल रही असमंजस अब ख़त्म होने जा रही है. कांग्रेस वोर्किंग कमेटी और प्रदेश के बड़े नेताओं के बीच चली बैठक के दौर के बाद अब कांग्रेस फैसले के काफी करीब पहुँच गयी है. सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायक शिवसेना और एनसीपी के साथ सरकार में शामिल होना चाहते है तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस आलाकमान सरकार में शामिल होने के बजाय बहार से समर्थन देना चाहता है.

विधायकों और नेतृत्व के बीच चल रहे गतिरोध के बीच एक नया रास्ता सामने आया है. जिसके मुताबिक, कांग्रेस महाराष्ट्र में शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को बाहर से समर्थन दे सकती है। हालांकि, पार्टी सरकार में भले ही शामिल न हो, पर वह अपने लिए स्पीकर का पद मांग सकती है। वहीं, दूसरी तरफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का कहना है कि वह शिवसेना को समर्थन देने का फैसला कांग्रेस के रुख को देखकर तय करेगी।

सोनिया गाँधी के साथ बैठक में नही हो पाया फैसला

बता दें कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर होने वाली पार्टी की केंद्रीय कार्यसमिति की अहम बैठक में शिवसेना को समर्थन देने को लेकर कोई फैसला नहीं पाया। बैठक के बारे में जानकारी देते हुए मल्लिकार्जुल खड़गे ने कहा कि महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात पर चर्चा हुई और अब महाराष्ट्र के नेताओं के साथ चर्चा करके अंतिम फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शाम को 4 बजे महाराष्ट्र के बड़े नेताओं के साथ फिर बैठक होगी जिसमें आगे की रणनीति तय की जाएगी। माना जा रहा है कि 4 बजे की बैठक में पार्टी शिवसेना को बाहर से समर्थन देने और अन्य बातों पर ही चर्चा करेगी। NCP भी कांग्रेस के फैसले के बाद अपना रुख साफ कर देगी।

शिवसेना के साथ सरकार बनाने के पक्ष में चव्हाण

इससे पहले कांग्रेस ने रविवार को कहा था कि वह राज्य में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहती है। बीजेपी के राज्य में सरकार बनाने से इनकार के बाद कांग्रेस ने यह प्रतिक्रिया दी। कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि पार्टी के नव-निर्वाचित विधायक राज्य में राजनीतिक रूख को लेकर आला-कमान से सलाह लेंगे। उन्होंने कहा, ‘हम जयपुर में हैं। हम मुद्दे पर यहां चर्चा करेंगे और भविष्य के राजनीतिक रूख पर सलाह लेंगे। पार्टी राज्य में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहती है।’ चव्हाण ने कहा कि वह महाराष्ट्र में सरकार बनाने के पक्ष में हैं। आपको बता दें कि राज्यपाल ने सरकार बनाने का दावा करने के लिए शिवसेना को आज शाम 7:30 तक का वक्त दिया है।

मोदी सरकार कर खिलाफ बड़े आंदोलन की तैयारी, कांग्रेस अध्यक्ष ने बुलाई बैठक

0

मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों और गिरती अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस 5 नवंबर से पूरे देश में बाद आंदोलन करने की तैयारी में है। जिसकी तैयारियों को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2 नवंबर को बड़ी बैठक बुलाई है। बैठक में पार्टी के महासचिव और राज्यों के प्रभारी शामिल होंगे।

इसके साथ ही बैठक के लिए सभी संगठनों के प्रमुखों को भी तलब किया गया है। इस बैठक में 5-15 नवंबर के बीच होने वाले राष्ट्रव्यापी आंदोलन की तैयारी का जायजा लिया जाएगा।

पार्टी ने आंदोलन के माध्यम से आर्थिक मंदी, बेरोजगारी, किसान संकट, सार्वजनिक उपक्रम विनिवेश और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के मुद्दों को उठाने का फैसला किया है।

कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल ने कहा है कि ब्लॉक स्तर से लेकर राज्य स्तर तक के 10 दिवसीय आंदोलन में नई दिल्ली की एक बड़ी रैली भी शामिल होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विरोध प्रदर्शन के लिए समान विचारधारा वाले दलों को साथ लाने की कोशिश कर रही है।

सोनिया गांधी ने दिवाली की पूर्व संध्या पर सरकार पर हमला किया। नरेंद्र मोदी सरकार को किसानों के प्रति अपने राज धर्म की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि किसान सरकार की नीतियों के कारण पीड़ित हैं।

ये भी पढ़ें: सोनिया ने दिवाली संदेश में केंद्र सरकार को याद दिलाया ‘राजधर्म’

सोनिया गांधी ने एक विस्तृत बयान में कहा था कि सत्ता में आने के बाद भारतीय जनता पार्टी  (भाजपा) ने किसानों को धोखा देना शुरू कर दिया था।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को बढ़ाकर फसलों पर खर्च की गई राशि पर किसानों को 50 फीसदी अधिक रिटर्न देने का वादा किया। लेकिन साल दर साल भाजपा सरकार ने कुछ बिचौलियों और जमाखोरों के हित में किसानों के करोड़ों रुपये लुटाए।”

कृषि बाजारों की स्थिति का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि देशभर में उनमें से कई एमएसपी से कम दाम पर खरीफ की फसल खरीद रहे थे।

उन्होंने ट्रैक्टर, उर्वरक और अन्य कृषि उपकरणों पर लगाए गए जीएसटी को लेकर भाजपा सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि इससे किसानों पर बोझ बढ़ा है। यहां तक कि डीजल की कीमत भी लगातार बढ़ रही है। सोनिया ने मांग की कि सरकार किसानों को परेशान करना बंद करे और खेत की उपज का सही मूल्य सुनिश्चित करे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दी श्रद्धाजंलि

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की जयंती पर ट्वीट करते हुए उन्हें श्रद्धाजंलि दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा की “हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि”।

प्रधानमंत्री मोदी के अलावा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी ने भी राजीव गांधी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।