Home Tags Shivsena

Tag: shivsena

शिवसेना , shivsena

राम मंदिर को लेकर शिवसेना का पीएम मोदी पर तीखा हमला, बोले- अभी नही तो कब बनेगा राम मंदिर

0

राम मंदिर के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए शिवसेना ने गुरुवार को कहा कि उसे इस बात पर ताज्जुब है कि अगर भाजपा के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार के कार्यकाल में राम मंदिर का निर्माण नहीं होगा तो फिर कब होगा। शिवसेना ने कहा कि अगर राम मंदिर का निर्माण 2019 चुनावों से पहले नहीं हुआ तो यह देश के लोगों को धोखा देने जैसा होगा जिसके लिए भाजपा और संघ को उनसे माफी मांगनी होगी।

केन्द्र की मोदी सरकार और महाराष्ट्र की राज्य सरकार में भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 1 जनवरी को दिए इंटरव्यू में राम मंदिर पर पीएम मोदी के बयान को लेकर उनपर हमला बोला है। दरअसल इंटरव्यू में मोदी ने कहा था कि मंदिर निर्माण पर सरकार कोई भी कदम न्यायिक प्रक्रिया खत्म होने के बाद ही उठाएगी। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में शिवसेना ने कहा, वह (मोदी) राम के नाम पर सत्ता में आए थे हालांकि उनके मुताबिक भगवान राम कानून से बड़े नहीं हैं। अब सवाल यह है कि अगर बहुमत वाली सरकार में मंदिर का निर्माण नहीं होगा तो कब बनेगा।’’

संपादकीय में शिवसेना ने आगे कहा कि मोदी सरकार ने गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल की भव्य प्रतिमा बनाई है लेकिन राम मंदिर के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘सरदार’ वाला साहस नहीं दिखा पाए। संपादकीय में आगे कहा कि राम मंदिर के लिए आंदोलन 1991-92 में शुरू हुआ था और सैकड़ों ‘कारसेवकों’ ने अपनी जान गंवाई थी। इसमें पूछा गया, किसने यह नरसंहार किया और क्यों? एक ओर सैकड़ो हिंदू कारसेवक मारे गए साथ ही मुंबई बम धमाकों में दोनों पक्ष ( हिंदू एवं मुस्लिम समुदाय) के सैकड़ों लोग मारे गए। अगर फैसला उच्चतम न्यायालय को ही करना था तो यह नरसंहार एवं खूनखराबा क्यों?’’

उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने आगे पूछा कि क्या भाजपा एवं आरएसएस इन हत्याओं एवं खूनखराबे की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार है। संपादकीय में कहा गया, सिखों के नरसंहार (1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद) के लिए जिस तरह से कांग्रेस को माफी मांगनी पड़ी उसी प्रकार हमें भी उन लोगों की भावनाओं को समझना होगा जो हिंदुओ के नरसंहार के लिए (भाजपा से) माफी की मांग करते हैं।’’

मध्यप्रदेश में शिवसेना सभी 230 विधानसभा सीटों पर लड़ेगी चुनाव,प्रत्याशियों की पहली सूची जारी

0

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार कई राजनीतिक पार्टियां अपना भाग्य आजमाने मैदान में उतर रही हैं। प्रदेश में पहली बार शिवसेना सभी 230 विधानसभा सीटों पर स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने जा रही है। शिवसेना ने विधानसभा चुनाव के उम्मीदवारों की प्रथम सूची घोषित कर दी है। इस सूची में 21 प्रत्याशियों के नाम हैं।

शिव सेना के प्रदेश प्रमुख ठाड़ेश्वर महावर और प्रदेश संगठक गुलाब चंद दुबे ने इन नामों की घोषणा की है। प्रत्याशियों की अगली सूची 25 अक्टूबर के बाद आएगी। वहीं शिवसेना प्रमुख उध्दव ठाकरे भी जल्द भोपाल आएंगे।

शिवसेना ने भाजपा से तोड़ा गठबंधन, 2019 में भाजपा के खिलाफ लड़ेगी चुनाव।

0

भाजपा की सबसे पुरानी सहियोगी शिवसेना ने भाजपा को बड़ा झटका देते हुए एनडीए गठबंधन से अपने आपको अलग कर लिया है। एनडीए से अलग होंते ही शिवसेना ने ऐलान किया कि वह 2019 का लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी। मंगलवार को हुई एक अहम बैठक में शिवसेना ने यह फैसला लिया।

शिवसेना का कहना है कि भाजपा के साथ गठबंधन करने के बाद उसे हमेशा समझौता ही करना पड़ा है। भाजपा हमेशा उसे नीचा दिखाने का कोई मौका नही छोड़ती। शिवसेना अब अपने आत्मसम्मान और गरिमा के साथ चलना चाहती है। पार्टी अपने आत्मसम्मान से कोई समझौता नही करेगी।

गठबंधन से अलग होने के बाद शिवसेना ने ट्वीट करके प्रधानमंत्री मोदी की 56 इंच की छाती पर तंज कसा । शिवसेना ने। ट्विटर पर लिखा कि ” यह। महत्वपूर्ण नही कि छाती कितने इंच की है, महत्वपूर्ण यह है कि आपमे बहादुरी कितनी है।

यह कोई पहली बार नही है जब शिवसेना ने भाजपा पर हमला बोला हो। इससे पहले भी शिवसेनाके मुद्दों पर मोदी सरकार पर हमलावर रही है।

मोदी लहर ख़त्म, राहुल गांधी देश का नेतृत्व करने के लिए तैयार : शिवसेना 

0

गुजरात चुनाव की तिथियों के ऐलान के ठीक बाद शिवसेना सांसद संजय राउत और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेवा के अध्यक्ष राज ठाकरे दोनों ने ही बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। राज ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव के बाद विपक्षी दल मजबूत बनेंगे और संजय राउत ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी लहर अब खत्म हो चुकी है और राहुल में नेतृत्व की क्षमता है। संजय राउत ने राहुल गांधी का समर्थन करते हुए कहा कि मतदाता किसाी को भी पप्पू बना सकते हैं।

ठाकरे ने कहा, मैं मानता हूं कि विपक्ष थोड़ा कमजोर हुआ है लेकिन गुजरात चुनाव के बाद यह मजबूत होगा। विपक्ष में बदलाव दिखाई देगा। उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा, मुझे हैरानी हो रही है कि प्रधानमंत्री समेत इतने मंत्री केवल एक राज्य में इतनी रैलियां क्यों कर रहे हैं? भले ही यह प्रधानमंत्री का गृह राज्य है, लेकिन यह अच्छा नहीं लगता कि देश का प्रमुख एक राज्य के लिए चुनाव प्रचार कर रहा है। ठाकरे ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने नोटबंदी के बाद और नोट छपवाए और बीजेपी को इससे फायदा हुआ।

शिवसेना के संजय राउत ने भी कहा है कि देश में मोदी लहर खत्म हो चुकी है और गुजरात में बीजेपी को कड़ी टक्कर मिल सकती है। संजय राउत ने राहुल गांधी का समर्थन भी किया और कहा, ‘मोदी लहर फीकी पड़ चुकी है और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी देश का नेतृत्व करने में सक्षम है।’ राऊत ने कहा कि जीएसटी के खिलाफ गुजरात के लोगों में रोष इस बात का संकेत है कि बीजेपी को चुनाव में एक कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि देश में सबसे बड़ी राजनीतिक शक्ति जनता है। मतदाता किसी को भी ‘पप्पू’ बना सकते हैं।

ठाकरे ने कहा कि 2019 चुनाव से पहले बीजेपी सरकार दाऊद को भारत ला सकती है। इसके बाद दावा किया जाएगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोशिशों से दाऊद को लाया जा सका। ठाकरे ने बताया कि दरअसल दाऊद खुद चाहता है कि वह भारत आ जाए। वह बहुत बीमार है और आखिरी पल भारत में गुजारना चाहता है। ठाकरे ने दावा किया कि इसके सहारे बीजेपी 2019 का चुनाव जीतना चाहती है। अगर किसी वजह से दाऊद को नहीं ला पाए तो उनकी कोशिश कोई दंगा या करगिल जैसे युद्ध का सहारा लेते हुए जीत हासिल करने होगी।

भाजपा को बड़ा झटका , महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस ने किया गठबंधन !

0

Newbuzzindia: ​बड़ी खबर इस समय महाराष्ट्र से आ रही है जहाँ शिवसेना ने भाजपा को बड़ा झटका देते हुए कांग्रेस से गठबंधन कर लिया है । हालाँकि यह गठबंधन रायगढ़ निकाय चुनाव के लिए यह गठबंधन स्थानीय स्तर पर किया गया है । राज्य और केंद्रीय स्तर के नेतृत्व का इस गठबंधन में कोई भूमिका नही है ।  इसमें न तो शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शामिल हैं और न ही महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण।

यहां लोग उस वक्त अपनी आंख मलने लगे, जब उन्होंने स्थानीय प्रत्याशियों के पोस्टरों और बैनरों पर दिवंगत शिवसेना नेता बाल ठाकरे और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की तस्वीरों को एक साथ देखा। इनमें लोगों से कांग्रेस-शिवसेना को मत देने की अपील की गई है। रायगढ़ में चुनाव 21 फरवरी को होने हैं। इस अप्रत्याशित घटनाक्रम से कांग्रेस का राज्य नेतृत्व बिफरा हुआ है और उसने जिला नेतृत्व से रिपोर्ट मांगी है।

गंभीर दिख रहे महाराष्ट्र कांग्रेस इकाई के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा, “हमने इस पर जानकारी मांगी है। पार्टी की स्थानीय इकाई ने राज्य नेतृत्व की अनुमति के बिना यह कदम उठाया है। हम मामले को देख रहे हैं।” भाजपा ने इस गठबंधन की आलोचना की है। पार्टी प्रवक्ता मोहन भंडारी ने अपना यह पुराना बयान दोहराया कि राज्य में हो रहे स्थानीय निकाय चुनावों में कांग्रेस व शिवसेना के बीच ‘मैच फिक्सिंग’ हो चुकी है। मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरूपम ने ‘मैच फिक्सिंग’ के आरोप को सिरे से खारिज किया है। उधर, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे सहयोगी भाजपा पर वार का एक भी मौका नहीं चूक रहे हैं।
उद्धव ठाकरे का ऐलान- मुंबई निगम चुनाव में अकेले लड़ेगी शिवसेना

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने गुरुवार (26 जनवरी) को ऐलान किया था कि नगर निगम चुनावों में उनकी पार्टी अकेले उतरेगी लेकिन इस बारे में कुछ नहीं बताया कि राजग सरकार में उनका दल गठबंधन सहयोगी बना रहेगा या नहीं। इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा के साथ कोई भी रहे लेकिन राज्य में परिवर्तन आएगा। वहीं प्रदेश भाजपा 
अध्यक्ष ने कहा कि राज्य सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। उद्धव ने शिव सेना के कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित करते हुए अपने आक्रामक भाषण में खाद्यी ग्रामोद्योग के कैलेंडर में महात्मा गांधी की तस्वीरें नहीं छापने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर प्रकाशित करने के मुद्दे को भी उठाया। उपनगर गोरेगांव में पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की सभा को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, ‘मुझे भाजपा के किसी वरिष्ठ नेता का फोन नहीं आया। शिवसेना 50 साल पुरानी है। हालांकि गठबंधन (भाजपा के साथ) में हमारे समय के 25 साल सबसे खराब रहे। हमने हिंदुत्व के मुद्दे पर हमेशा आपकी (भाजपा) सराहना की। शिवसेना का जन्म सत्ता के लिए नहीं हुआ लेकिन अगर कोई भी शिवसेना को कमजोर आंकने की भूल करेगा तो हम उसे उखाड़ फेंकेंगे।’

शिवसेना का पीएम मोदी पर सीधा हमला, बोले बाथरूम छाप राजनीती करना बंद करें मोदी !

0

Newbuzzindia: ​शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तगड़ा हमला बोलते हुए उन्‍हें बाथरूम छाप राजनीति ना करने को कहा है। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में छपे लेख के जरिए पीएम पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह‍ के ऊपर राज्‍यसभा में ‘रेनकोट’ वाले बयान को निशाना बनाया गया है। इस लेख का टाइटल ‘बाथरूम छाप राजनीति यह टाला जाना चाहिए’ है। इसमें लिखा है कि प्रधानमंत्री के पद पर बैठे व्‍यक्ति को इस तरह की टिप्‍पणियां नहीं करनी चाहिए। बाथरूम में झुककर देखना किसी को भी शोभा नहीं देता। यह टाला जाना चाहिए। प्रधानमंत्री के उत्‍तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान विपक्षी नेताओं की कुंडलियां निकालने के बयान पर भी ‘सामना’ में कटाक्ष किया गया है।

इसमें लिखा है, ”उत्‍तर प्रदेश की प्रचार सभा में मोदी ने ऐसी धमकी दी कि आप सभी की कुंडलियां हमारे पास हैं। इस पर अखिलेश यादव का जवाब ऐसा था कि गूगल पर सभी की कुंडलियां एक क्लिक पर मिलती है। उत्‍तर प्रदेश का चुनाव कितने निचले स्‍तर तक चला गया है इसका यह एक उत्‍तम नमूना है। इस तरह की कीचड़ फेंक में देश के प्रधानमंत्री या राज्‍य के मुख्‍यमंत्री को तो कम से कम शामिल नहीं होना चाहिए। दुर्भाग्‍य से लोकतंत्र के हमाम में सभी नंगे होने से प्रधानमंत्री और मुख्‍यमंत्री जैसे लोग भी कैसे दूर रहेंगे।”

‘सामना’ में लिखा है कि प्रधानमंत्री को दलगत राजनीति से दूर रहना चाहिए। जिस सरकारी कवच-कुंडल और सरकारी मशीनरी में वे घूमते हैं और बोलते हैं कि वह एक तरह का चुनावी भ्रष्‍टाचार है। भाजपा के उत्‍तर प्रदेश में खराब कानून-व्‍यवस्‍था के लिए सपा सरकार पर आरोपों पर भी निशाना साधा गया है। इसमें लिखा है कि सूबे में भाजपा के पास 70 सांसद हैं वे क्‍या कर रहे हैं। जिस तरह से मुंबई में शिवसैनिक लोगों की रक्षा को निकलते हैं वैसे ही उन्‍हें भी बाहर आना चाहिए। वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे मुंबई और ठाणे के निकाय चुनावों के प्रचार के दौरान भाजपा व पीएम मोदी पर हमले बोल रहे हैं। उन्‍होंने रैली के दौरान नोटबंदी का मामला उठाते हुए लोगों से कहा कि वे इस तरह से मतदान करें कि वह भाजपा पर सर्जिकल स्‍ट्राइक की तरह वार हो।

गौरतलब है कि मुंबई नगर निगम के चुनावों में भाजपा और शिवसेना अलग-अलग लड़ रहे हैं। दोनों के बीच सीटों को लेकर बात नहीं बनी थी। इसके बाद से शिवसेना के भाजपा पर तेवर तल्‍ख है। वह नोटबंदी और अच्‍छे दिन के नारे पर लगातार भाजपा पर करारे हमले बोल रही है। उद्धव ठाकरे तो कह चुके हैं कि मोदी सरकार ने नोटबंदी से जनता को परेशान किया है।

चुनाव के बाद भगवान राम को वनवास पे भेज देती है , चुनाव के समय राम-राम जपने वाली भाजपा : शिवसेना

0

Newbuzzindia : ​मुंबई महानगर पालिका में 25 साल पुराना गठबंधन टूटने के बाद भारतीय जनता पार्टी औऱ शिवसेना के रिश्तों में लगातार दरार बढ़ती जा रही है।लेकिन एनडीए औऱ महाराष्ट्र सरकार में अभी भी सहयोगी बनी हुई हैं।

शिवसेना नोटबंदी के बाद भाजपा पर एक के बाद एक बड़े आरोप लगा रही है। कभी नोटबंदी फैसले को तानाशाही करार देना तो कभी राम मंदिर के बार-बार राग अलापने पर तीखा जवाब देना।

आज शिवसेना सांसद संजय राउत ने राम मंदिर मुद्दे पर बीजेपी पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि, जब चुनाव नजदीक होते हैं तब बीजेपी को राम मंदिर की याद आती है लेकिन जैसे की चुनाव के बाद भाजपा राम को वनवास पर भेज देती है।

क्योंकि भाजपा की नीयत ही ठीक नहीं है। भाजपा नेता राम के नाम का इस्तेमाल सिर्फ चुनाव में वोट पाने के लिए करते हैं। चुनाव जीतने के बाद उन्हें भूल जाते हैं।

आपको बता दें कि, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में तमाम भाजपा नेता राम मंदिर का राग अलापने लगे हैं। नेताओं के साथ-साथ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी कल पार्टी के घोषणा पत्र में राम मंदिर का मुद्दा शामिल करा। जिसके बाद सहयोगी दल ने हमला बोला।

संघ की शिक्षा को सर्जिकल स्ट्राइक से जोड़कर रक्षामंत्री ने किया सेना का अपमान : शिवसेना

0

Newbuzzindia: सर्जिकल स्ट्राइक पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर पर बड़ा हमला बोला है । उद्धव ठाकरे ने रक्षामंत्री के बयानों को राजनीतिक फायदा लेने की कोशिश करार देते हुए कहा कि युद्ध देश के लिए लड़े जाते हैं चुनाव के लिए नहीं । शिवसेना प्रमुख ने रक्षा मंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि संघ की शिक्षा के नाम पर भारतीय सेना के शौर्य को कम करने का प्रयास न करें।

उन्होंने कहा, हमें सर्जिकल स्ट्राइक के लिए मोदी की तारीफ करनी चाहिए लेकिन यह आखिरी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं है। यह पाकिस्तान के खिलाफ स्ट्राइक की शुरुआत है।

उद्धव ठाकरे शिवसेना कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा भारत के पास पाकिस्तान के खिलाफ ऐसी कई सर्जिकल स्ट्राइक करने की क्षमता है और भारत को PoK पर कब्जा करने के लिए फिर से सर्जिकल स्ट्राइक शुरू कर देनी चाहिए। उद्धव ने कहा, ‘युद्ध देश के लिए होने चाहिए चुनाव के लिए नहीं’। मैं आरएसएस का सम्मान करता हूं। आरएसएस हिदुत्व के लिए लगातार काम कर रहा है, लेकिन संघ को सर्जिकल स्ट्राइक से जोड़कर सेना के शौर्य को कम न करें।

शिवसेना प्रमुख ने सर्जिकल स्ट्राइक के लिए पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि भारत के पास ऐसी कई सर्जिकल स्ट्राइक करने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि भारत को फिर से पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) पर कब्जा कर लेना चाहिए।

उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी के संयोजक पर निशाना साधते हुए कहा कि जो कह रहे हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई है उन्हें देश के बाहर भेज देना चाहिए। उन्होंने कहा, जब सेना के एक अधिकारी ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक हुई है तो किसी को उसपर सवाल उठाने का हक नहीं है। उन पर सवाल खड़े कर हम सेना का अपमान कर रहे हैं।

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा की होगी करारी हार : शिवसेना

0

NewBuzzIndia: महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ गठबंधन की हुई शिवसेना ने यूपी में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है । शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी पर बड़ा हमला करते हुए अपने मुखपत्र ‘सामना’  में लिखा है ‘लखनऊ जाकर नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर बनाने की घोषणा करनी चाहिए।

पीएम का अगला लक्ष्य पीओके और बलूचिस्तान की आजादी है, इसलिए अगर मोदी बलूचिस्तान में दीवाली मनाएं तो हमें कोई आश्चर्य नहीं होगा।’

शिवसेना ने मुखपत्र यह भी लिखा है कि ‘अपोजिशन का मानना है कि अगर मोदी यूपी की यात्रा करते हैं तो वहां एक पॉलिटिकल माहौल पैदा होगा।  मोदी वहां जाकर अयोध्या में राम मंदिर बनाने की घोषणा करें।’ शिवसेना के मुताबिक मोदी के लखनऊ में दशहरा मनाने के बाद भी बीजेपी को कुछ हासिल नहीं होगा, क्योंकि उनका हाल यूपी में भी बिहार की जैसा ही होगा।

शिवसेना का यह भी कहना है कि बीजेपी वालों ने बिहार चुनाव के दौरान मोदी की छवि का दांव पर लगाया था फिर भी उनको जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा था। बता दें कि उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना भी यूपी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएगी। साथ ही इस चुनाव में जीत हासिल करने के लिए पार्टी अध्यक्ष यूपी में चुनाव प्रचार करेंगे।

सहयोगी शिवसेना का भाजपा पर बड़ा हमला, कहा ‘यूपी चुनाव में होगी बिहार वाली हालत।’

0

NewBuzzIndia: महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ गठबंधन में की हुई और यूपी में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान करने वाली शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी पर अपने मुखपत्र ‘सामना’  में लिखा है ‘लखनऊ जाकर नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर बनाने की घोषणा करनी चाहिए। पीएम का अगला लक्ष्य पीओके और बलूचिस्तान की आजादी है, इसलिए अगर मोदी बलूचिस्तान में दीवाली मनाएं तो हमें कोई आश्चर्य नहीं होगा।’

शिवसेना ने मुखपत्र यह भी लिखा है कि ‘अपोजिशन का मानना है कि अगर मोदी यूपी की यात्रा करते हैं तो वहां एक पॉलिटिकल माहौल पैदा होगा।  मोदी वहां जाकर अयोध्या में राम मंदिर बनाने की घोषणा करें।’ शिवसेना के मुताबिक मोदी के लखनऊ में दशहरा मनाने के बाद भी बीजेपी को कुछ हासिल नहीं होगा, क्योंकि उनका हाल यूपी में भी बिहार की जैसा ही होगा।

शिवसेना का यह भी कहना है कि बीजेपी वालों ने बिहार चुनाव के दौरान मोदी की छवि का दांव पर लगाया था फिर भी उनको जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा था। बता दें कि उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना भी यूपी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएगी। साथ ही इस चुनाव में जीत हासिल करने के लिए पार्टी अध्यक्ष यूपी में चुनाव प्रचार करेंगे।

सोशल मीडिया पर जुड़ें

38,206FansLike
0FollowersFollow
1,238FollowersFollow
1FollowersFollow
1,256FollowersFollow
787FollowersFollow

ताजा ख़बरें