fbpx
Thursday, October 29, 2020
Home Tags Rahul gandhi

Tag: Rahul gandhi

हाथरस जा रहे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने धक्कामुक्की कर किया गिरफ्तार

0
Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

यूपी में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने जा रहे काग्रेस नेता राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उनके साथ प्रियंका गांधी भी मौजूद हैं। हिरासत में लिए जाने से पहले राहुल गांधी और पुलिस कर्मियों के बीच बहस और झूमाधटकी भी हुई।
पुलिस से सावल करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ”किस धारा में मुझे गिरफ्तार किया जा रहा है। अकेला जाना धारा 144 का उल्लंघन कैसे है।” राहुल गांधी की इस दलील पर मौजूद पुलिस अधिकारी ने कहा कि धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

इससे पहले राहुल गांधी को रोकने के लिए पुलिस कर्मी ने धक्का दिया। राहुल नीचे गिर गए। इस दौरान राहुल गांधी एबीपी न्यूज़ से बात कर रहे थे। घटना पर एबीपी न्यूज़ के संवाददाता ने राहुल गांधी से सवाल किया तो उन्होंने कहा कि थोड़ा सा धक्का लगा, कोई बात नहीं है। कभी-कभी ऐसा होता है। मैं दलित परिवार से मिलना चाहता हूं।

राहुल गांधी ने ट्वीट भी किया। उन्होंने कहा, ”इस घटना के बाद राहुल गांधी ने कहा, ”दुख की घड़ी में अपनों को अकेला नहीं छोड़ा जाता। UP में जंगलराज का ये आलम है कि शोक में डूबे एक परिवार से मिलना भी सरकार को डरा देता है। इतना मत डरो, मुख्यमंत्री महोदय!”

बता दें कि उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने के लिए करीब एक बजे राहुल गांधी अपने आवास से निकले। इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी मौजूद रहीं। उन्हें नोएडा में डीएनडी पर रोकने की कोशिश की गई। काफिले को ग्रेटर नोएडा पुलिस ने रोक लिया। जिसके बाद वे पैदल ही हाथरस के लिये निकल गये।

आगे कुछ दूर चलने के बाद यूपी पुलिस ने फिर उन्हें रोकने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस ने धक्कामुक्की की। राहुल नीचे गिर गए। राहुल को चोट भी लगी है।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को गाड़ी में बैठाकर पुलिस लेकर चली गई। वहां मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता का सिर फूट गया।

कांग्रेस के प्रदेश मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया कि प्रियंका और राहुल हाथरस कांड के पीड़ित परिवार से मुलाकात करने जा रहे थे। रास्ते में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने उनके काफिले को परी चौक इलाके में रोक लिया।

इस बीच, राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने राहुल और प्रियंका पर निशाना साधते हुए कहा, ‘ये जो भाई—बहन दिल्ली से चले हैं, उन्हें राजस्थान जाना चाहिये था। जहां भी ऐसी घटना होती है, वह जघन्य अपराध होता है। राजस्थान में भी वारदात हुई थी, मगर कांग्रेस हाथरस की घटना पर गंदी राजनीति कर रही है।’

उधर, हाथरस जिलाधिकारी पी।के। लक्षकार ने बताया कि जिले में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है, जो आगामी 31 अक्टूबर तक प्रभावी रहेगी। जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गयी हैं।

गौरतलब है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था। लड़की को रीढ़ की हड्डी में चोट और जीभ कटने की वजह से पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उसके बाद उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी।

इस घटना को लेकर देश भर में जगह—जगह प्रदर्शन किये गये। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फोन करके इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने को कहा था। राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिये विशेष जांच दल गठित किया है।

हो गई सुलह, राष्ट्रीय स्तर पर सचिन पायलट को मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी

0
FB IMG 1597068748138
FB IMG 1597068748138

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री और हाल ही में पार्टी से बागी हुए सचिन पायलट की आज राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से हुई मुलाकात के बाद घर वापसी की राह दिख रही है। मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार, मुलाकात में सचिन पायलट को राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी देने पर सहमति बनी है।

हालांकि कुछ समय बाद सचिन एक बार फिर राजस्थान में सक्रिय हो सकेंगे। आज हुई मुलाकात के बाद राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के ऊपर से खतरा फिलहाल टल चुका है।

हालांकि अभी तक इस बारे में कोई अधिकारिक घोषणा पार्टी की तरफ से नही की गई है।

वहीं समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सकचिन पायलट खेमे के विधायक भावन शर्मा ने भी आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की है।

दिल्ली में राहुल और प्रियंका से हुई सचिन पायलट की मुलाकात, टल सकता है सरकार पर से खतरा

0
rahul gandhi with sachin pilot
rahul gandhi with sachin pilot

आज सुबह से ही राजस्थान में सियासी हलचल तेज है। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट कुछ अन्य बागी विधायकों के साथ कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के साथ मुलाकात करने वाले हैं।

मीडिया में जारी खबरों के अनुसार इस मुलाकात में पायलट और पार्टी के बीच उपजी कड़वाहट को मिटाने की कोशिश की जाएगी। सूत्रों के अनुसार कुछ दिनों पहले एनसीआर में प्रियंका गांधी और सचिन पायलट के बीच मुलाकात हुई थी। जिसके बाद यह तय हो पाया है। प्रियंका और सचिन की मुलाकात के बाद कई स्तरों पर बातचीत भी हो चुकी है।

ताजा घटनाक्रम विधानसभा सत्र बुलाए जाने के पांच दिन पहले हुआ है। जहां अशोक गहलोत अपना बहुमत साबित करने का दावा कर रहे हैं और अपने विरोधियों पर बीजेपी के साथ मिलकर सरकार गिराने के प्रयास का आरोप लगाया था।


वहीं इस जानकारी के उलट पायलट खेमा अपनी पुरानी बात पर अड़ा हुआ नजर आ रहा है। कांग्रेस की कामयाबी के दावे को खारिज करते हुए पायलट खेमे का कहना है कि हमारा मुख्य मुद्दा अभी भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पद से हटाना ही है।

Headline: कल सुबह 10 बजे नोबेल विजेता मोहम्मद यूनुस के साथ लाइव चर्चा करेंगे राहुल गांधी

0
20200730 224216
20200730 224216

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी विशेषज्ञों के साथ चल रही अपनी लाइव सीरीज के तहत कल सुबह 10 बजे नोबेल पुरस्कार से सम्मानित प्रोफेसर मोहम्मद यूनुस के साथ चर्चा करेंगे। अन्य चर्चाओं की तरह यह चर्चा भी उनके यूट्यूब चैनल पर लाइव होगी।

सोनिया गांधी के साथ बैठक में कांग्रेस सांसदों ने की राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग

0
20200730 212800 0000
20200730 212800 0000

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ आज हुई पार्टी के राजसभा सांसदों की बैठक में एक बार फिर राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग उठी है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के ज़रिए हुई बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिहं के साथ 34 सांसदों ने इस बैठक में हिस्सा लिया।

दरअसल अगस्त की 11 तारीक को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी अंतरिम कार्यकाल पूरा हो रहा है लेकिन कांग्रेस अभी नया अध्यक्ष बनाने के मूड में नहीं दिखती।

एबीपी न्यूज़ में छपी खबर के अनुसार जैसे ही बैठक की शुरूआत हुई तो राजीव सातव, पी. एल पुनिया और छाया वर्मा ने कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी की कमान सौंपी जाए। लेकिन इस सांसदों की मांग पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इससे पहले सोनिया गांधी ने जब कांग्रेस के सभी लोकसभा सांसदों के साथ बैठक की थी तब भी यह मांग उठी थी।

इसके अलावा बैठक में कोरोना और राजस्थान के राजनीति पर भी चर्चा हुई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, कि राजस्थान के राज्यपाल बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे है जिससे लोकतंत्र की गरिमा तार-तार हो रही है। कोरोना पर चर्चा को दौरान सांसदों और कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना को रोकने पर सरकार पूरी तरह नाकाम रही है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राज्यसभा मे विपक्ष के नेता गुलामनबी आज़ाद ने सभी सांसदों से कहा कि, इस सभी विषय की लिस्ट बनाई जाए जो आने वाले समय में संसद में उठाने जाने चाहिए। वहीं सरकार जो अध्यादेश लाती उसे कैसा घेरा जाए इसके लिए एक कमेटी गठित की जाएगी।

कांग्रेस की पूरी जिम्मेदारी अब राहुल गांधी को सौंप देनी चाहिए: शरद पवार

0
NCP Chief Sharad Pawar
NCP Chief Sharad Pawar

एनसीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार ने बुधवार को एक नीजि टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कांग्रेस के भविष्य पर बात की। करते हुए कहा कि लंबे समय तक कांग्रेस में रहे शरद पवार ने कांग्रेस के बारे में अपने अनुभवों को साझा करते हुए कहा, ‘मैंने कई वर्षों तक कांग्रेस को देखा है और मैंने एक बात नोट की है कि कोई भी यह स्वीकार करे या नहीं, लेकिन गांधीवाद कांग्रेस के लिए एक मजबूत ताकत है। सोनिया गांधी कांग्रेस के विभिन्न गुटों को एक साथ लाने में सफल रहीं। अब कांग्रेसियों ने राहुल गांधी को स्वीकार कर लिया है। यह उनका आंतरिक मामला है और यह पार्टी की रैंक और फाइल तक है। लेकिन मुझे लगता है कि उन सभी लोगों को पार्टी की पूरी जिम्मेदारी राहुल गांधी को सौंप देनी चाहिए।’

राहुल गांधी को सलाह देते हुए पवार ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना छोड़कर कांग्रेस के उत्थान पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

शरद पवार ने कहा कि राहुल गांधी के लिए न केवल पार्टी का शासन संभालना महत्वपूर्ण है, बल्कि पार्टी के विभिन्न नेताओं के साथ बातचीत करना भी जरूरी है। उन्होंने कहा, ‘उन्हें सभी नेताओं के साथ बात करनी चाहिए, उन्हें साथ लाना चाहिए।’

यह पूछे जाने पर कि राहुल गांधी को ऑफिस कैसे संभालना चाहिए? एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा, ‘उन्हें देश का दौरा शुरू करना चाहिए। पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलना चाहिए। यह कुछ ऐसा है, जो उन्‍होंने कुछ समय पहले किया था। अब फिर उन्‍हें ये करना शुरू कर देना चाहिए। पार्टी कार्यकर्ताओं को जुटाना महत्वपूर्ण है।’ प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ राहुल गांधी की हालिया टिप्पणियों पर शरद पवार ने कहा कि बेशक ‘यह उनकी निजी राय हो सकती है, लेकिन हमने देखा है कि जब आप किसी एक व्यक्ति को व्यक्तिगत रूप से लक्षित करते हैं, तो आपकी विश्वसनीयता घट जाती है। इसे टाला जाना चाहिए।’

देश को बर्बाद कर रहे हैं मोदी, जल्द ही टूटेगा भ्रम: राहुल गांधी

0

राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोल रहे हैं। कभी चीन के सीमा विवाद तो कभी बेरोजगारी, राहुल लगातार पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं। राहुल ने गुरुवार को एक बार फिर ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला। 


राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘मोदी देश को बर्बाद कर रहे हैं। नोटबंदी, जीएसटी, कोरोना महामारी में दुर्व्यवस्था, अर्थव्यवस्था और रोजगार का सत्यानाश। उनकी पूंजीवादी मीडिया ने एक मायाजाल रचा है। ये भ्रम जल्द ही टूटेगा।’


इससे पहले, राहुल गांधी ने राफेल विमानों के भारत आने पर भारतीय वायुसेना को बधाई दी थी। साथ ही विमानों की खरीद को लेकर सरकार से सवाल पूछे थे। उन्होंने ट्वीट कर पूछा था, ‘राफेल विमान के लिए आईएएफ को बधाई। लेकिन क्या सरकार इन सवालों के जवाब देगी। 1)प्रत्येक विमान की कीमत 526 करोड़ की बजाए 1670 करोड़ क्यों दी गई? 2) 126 की बजाए सिर्फ 36 विमान ही क्यों खरीदे? 3) एचएएल की बजाए दिवालिया अनिल अंबानी को 30 हजार करोड़ का कांट्रैक्ट क्यों दिया गया?’


इससे पहले राहुल ने सोमवार को अपनी वीडियो सीरीज के अगले भाग के जरिए सरकार को घेरा और कहा कि वह चीन की घुसपैठ पर झूठ नहीं बोलने वाले हैं, चाहे उनका राजनीतिक जीवन ही क्यों न खत्म हो जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि चीनी सैनिकों की भारतीय सीमा में घुसपैठ को नकारने और इस विषय पर झूठ बोलने वाले देशभक्त नहीं हैं।

उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा, ‘एक भारतीय होने के नाते मेरी पहली प्राथमिकता देश और इसकी जनता है। उन लोगों के बारे में आपका क्या ख्याल है जो कहते हैं कि प्रधानमंत्री से चीन पर आपके सवाल भारत को कमजोर कर रहे हैं ? यह एकदम साफ है कि चीनी हमारे इलाके में घुस गए हैं। यह बात मुझे परेशान करती है। इससे मेरा खून खौलने लगता है कि कैसे एक दूसरा देश हमारे इलाके में घुस आया?’

कांग्रेस नेता ने कहा कि अब आप एक राजनीतिज्ञ के तौर पर चाहते हैं कि मैं चुप रहूं और अपने लोगों से झूठ बोलूं तो ऐसा नहीं होने वाला है। मैंने उपग्रह की तस्वीरें देखी हैं, मैंने पूर्व सैन्यकर्मियों से बात की है। अगर आप चाहते हैं कि मैं झूठ बोलूं कि चीनी इस देश में नहीं घुसे हैं तो मैं झूठ नहीं बोलने वाला। स्पष्ट कर दूं कि मैं ऐसा नहीं करने वाला। चाहे मेरा पूरा भविष्य डूब जाए लेकिन मैं झूठ नहीं बोल सकता।

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, गिनाई उपलब्धियां

0
rahul gandhi corona scam
rahul gandhi corona scam

देश में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर तंज कसते हुए ट्वीट किया। राहुल गांधी ने लिखा, “कोरोना काल में सरकार की उपलब्धियां:

● फरवरी- नमस्ते ट्रंप

● मार्च- MP में सरकार गिराई

● अप्रैल- मोमबत्ती जलवाई

● मई- सरकार की 6वीं सालगिरह

● जून- बिहार में वर्चुअल रैली

● जुलाई- राजस्थान सरकार गिराने की कोशिश

इसी लिए देश कोरोना की लड़ाई में ‘आत्मनिर्भर’ है।”

कोरोना संकट, लद्दाख में चीन के साथ तनाव, इन दोनों मुद्दों पर राहुल गांधी सरकार पर लगातार हमलावर हैं। राहुल गांधी ने सोमवार को एक वीडियो जारी कर पीएम मोदी पर निशाना साधा था। उन्होंने आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री ने अपनी ‘एक नकली मजबूत छवि’ गढ़ी है और यह देश की सबसे बड़ी कमजोरी बन गई है।

राहुल गांधी ने भारत चीन सीमा विवाद पर कहा था, “यह सिर्फ एक सीमा विवाद नहीं है। मेरी चिंता यह है कि चीनी आज हमारे इलाके में बैठे हैं। ऐसे में सवाल यह है कि चीन की सामरिक रणनीति क्या है? चीन बगैर रणनीतिक सोच के कोई कदम नहीं उठाते। चीन के दिमाग में संसार का नक्शा खिंचा हुआ है और वह अपने हिसाब से उसे आकार दे रहा है। वह दुनिया बदलना चाहता है।

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने में यह देश मजबूत से क्यों बना मजबूर ?

0

यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल को आज भी कॉमनवेल्थ और 2जी घोटालों को लेकर याद किया जाता है। उस समय पूरा देश भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने सड़क पर आ गया था। तब देश विरोध करना और अपने हक़ के लिए आवाज उठाना जानता था। पेट्रोल के दाम में रुपये की वृद्धि करने में भी सरकार का पसीना निकल जाया करता था। सरकार के खिलाफ आवाज़ उठाने का यह भाव जनता के बीच लाने में अरविंद केजरीवाल का “इंडिया अगेंस्ट करप्शन”, अन्ना हजारे का जन लोकपाल आंदोलन और बाबा रामदेव का काला धन के लिए किया गया आंदोलन प्रमुख है।

उस समय एक तरफ अरविंद केजरीवाल देश के युवाओं को सड़क पर ला रहे थे, अन्ना देश की जनता को सत्याग्रह में शामिल कर रहे थे और बाबा रामदेव हर रोज सुबह-सुबह योगा के साथ टीवी पर कालेधन पर बड़े-बड़े आंकड़े दे रहे थे। वहीं दूसरी और नरेंद्र मोदी देश की गरीब जनता को 15-15 लाख रूपये देने की बात कर रहे थे। भ्रष्टाचार मुक्त भारत, कालाधन, जन लोकपाल और 15 लोख, यह 2014 में वोट देने वाले मुद्दे बने।

ऐसे में सवाल उठता है कि भ्रष्टाचार और महँगाई के खिलाफ इतनी बड़ी औऱ लंबी लड़ाई लड़ने वाला देश आज प्रदर्शन तो दूर बल्कि आवाज उठाने से भी कतरा रहा है। हाल ही में रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक आरटीआई के जवाब में 50 विलफुल डिफॉल्टर्स की एक सूची जारी की है। यह देश वो बड़े उद्द्योगपति है जो जानबूझ कर बैंकों से लिए कर्ज को नही चुकाना चाहते है। आरबीआई ने आरटीआई में दी गई जानकारी में बताया कि वह 2019 में इन विलफुल डिफॉल्टर्स का 68,607 करोड़ का कर्ज माफ कर चुकी है।

आरटीआई के माध्यम से यह जानकारी प्राप्त की है सामाजिक कार्यकर्ता साकेत गोखले ने। आपको याद ही होगा राहुल गांधी ने संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से 50 सबसे बड़े डिफॉल्टर्स की सूची मांगी थी। तब निर्मला सीतारमण ने यह जानकारी देने से इनकार कर दिया था। जिसके तुरंत बाद साकेत गोखले ने आरटीआई लगाकर यह जानकारी आरबीआई से मांगी थी। अगर आपको याद नही तो राहुल गांधी ने एक बाद फिर संसद में पूछे गए अपने प्रश्न का वीडियो ट्विटर पे शेयर किया है। उसे आप यहां देश सकते है,

इन 50 विलफुल डिफाल्टर्स की सूची में मेहुल चौकसे की कंपनी गीतांजलि जेम्स लिमिटेड 5,492 करोड़ रुपये की देनदारी के साथ पहले स्थान पर है, दूसरे स्थान पर 4,314 करोड़ रुपए की देनदारी के साथ आरईआई एग्रो लिमिटेड है, जिसके निदेशक संदीप झुनझुनवाला और संजय झुनझुनवाला हैं। इसके बाद भगोड़े हीरा कारोबारी जतिन मेहता की विनसम डायमंड्स एंड ज्वेलरी का नाम है, जिसने 4076 करोड़ रुपये कर्ज ले रखा है, वहीं कानपुर स्थित रोटमैक ग्लोबल 2,850 करोड़ रुपये कर्ज ले रखा है. इसके अलावा सूची कुदोस केमी 2,326 करोड़ रुपए, रुचि सोया इंडस्ट्रीज लिमिटेड 2,212 करोड़ रुपए शामिल हैं।


इन सब के साथ ही सरकार ने पूर्व भाजपा सांसद विजय माल्या की कंपनी किंगफ़िशर एयरलाइन्स का भी 1943 करोड़ का कर्ज माफ किया है।

अब आप ध्यान से देखेंगे तो इस सरकार के दो चहरे आपके सामने आएंगे। एक जो यह सरकार कह रही है और एक जो यह कर रही है। सामने से प्रश्न पूछने पर तो यह सरकार नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या जैसे देशद्रोही भगोड़ों पर कठोर कार्यवाही करने की बात करती है। वहीं दूसरी तरफ इन्हें देश से भागने देती है और इनका कर्ज माफ कर जानकारी छिपाती है।

भरष्टाचार की लड़ाई

ऐसा नही है कि मोदी सरकार आने के बाद भ्रष्टाचार बंद हो गया लेकिन शायद भ्रष्टाचार के नाइ परिभाषाएं सामने आ गई है। अच्छा भ्रष्टाचार और बुरा भ्रष्टाचार। अब सरकार द्वारा किया गया भ्रष्टाचार न तो देश के सामने आता है और न ही उसकी जांच होती है। यह भ्रष्टाचार देशहित में हो रहा है और इसकड खिलाफ आवाज़ उठाना अब देशद्रोह है।

कहीं आप देशद्रोही तो नही ?

तीसरी वर्षगांठ: राहुल ने नोटबंदी को बताया ‘टेरर अटैक’ जिसने अर्थव्यवस्था को किया तबाह

0

नोटबंदी को तीन साल पूरे होने पर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “नोटबंदी ‘टेरर अटैक’ के बाद यह तीसरा साल है, जिसने भारतीय अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया। कई लोगों की जान ले ली, लाखों छोटे व्यवसायों को मिटा दिया और लाखों भारतीयों को बेरोजगार कर दिया।”