Thursday, November 21, 2019
Home Tags Rahul gandhi

Tag: Rahul gandhi

तीसरी वर्षगांठ: राहुल ने नोटबंदी को बताया ‘टेरर अटैक’ जिसने अर्थव्यवस्था को किया तबाह

0

नोटबंदी को तीन साल पूरे होने पर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “नोटबंदी ‘टेरर अटैक’ के बाद यह तीसरा साल है, जिसने भारतीय अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया। कई लोगों की जान ले ली, लाखों छोटे व्यवसायों को मिटा दिया और लाखों भारतीयों को बेरोजगार कर दिया।”

मोदी सरकार कर खिलाफ बड़े आंदोलन की तैयारी, कांग्रेस अध्यक्ष ने बुलाई बैठक

0

मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों और गिरती अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस 5 नवंबर से पूरे देश में बाद आंदोलन करने की तैयारी में है। जिसकी तैयारियों को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2 नवंबर को बड़ी बैठक बुलाई है। बैठक में पार्टी के महासचिव और राज्यों के प्रभारी शामिल होंगे।

इसके साथ ही बैठक के लिए सभी संगठनों के प्रमुखों को भी तलब किया गया है। इस बैठक में 5-15 नवंबर के बीच होने वाले राष्ट्रव्यापी आंदोलन की तैयारी का जायजा लिया जाएगा।

पार्टी ने आंदोलन के माध्यम से आर्थिक मंदी, बेरोजगारी, किसान संकट, सार्वजनिक उपक्रम विनिवेश और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के मुद्दों को उठाने का फैसला किया है।

कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल ने कहा है कि ब्लॉक स्तर से लेकर राज्य स्तर तक के 10 दिवसीय आंदोलन में नई दिल्ली की एक बड़ी रैली भी शामिल होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विरोध प्रदर्शन के लिए समान विचारधारा वाले दलों को साथ लाने की कोशिश कर रही है।

सोनिया गांधी ने दिवाली की पूर्व संध्या पर सरकार पर हमला किया। नरेंद्र मोदी सरकार को किसानों के प्रति अपने राज धर्म की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि किसान सरकार की नीतियों के कारण पीड़ित हैं।

ये भी पढ़ें: सोनिया ने दिवाली संदेश में केंद्र सरकार को याद दिलाया ‘राजधर्म’

सोनिया गांधी ने एक विस्तृत बयान में कहा था कि सत्ता में आने के बाद भारतीय जनता पार्टी  (भाजपा) ने किसानों को धोखा देना शुरू कर दिया था।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को बढ़ाकर फसलों पर खर्च की गई राशि पर किसानों को 50 फीसदी अधिक रिटर्न देने का वादा किया। लेकिन साल दर साल भाजपा सरकार ने कुछ बिचौलियों और जमाखोरों के हित में किसानों के करोड़ों रुपये लुटाए।”

कृषि बाजारों की स्थिति का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि देशभर में उनमें से कई एमएसपी से कम दाम पर खरीफ की फसल खरीद रहे थे।

उन्होंने ट्रैक्टर, उर्वरक और अन्य कृषि उपकरणों पर लगाए गए जीएसटी को लेकर भाजपा सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि इससे किसानों पर बोझ बढ़ा है। यहां तक कि डीजल की कीमत भी लगातार बढ़ रही है। सोनिया ने मांग की कि सरकार किसानों को परेशान करना बंद करे और खेत की उपज का सही मूल्य सुनिश्चित करे।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत के लिए कांग्रेस ने बनाई नई रणनीति।

0

2020 में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने रणनीति बनानी शुरू कर दी है। इस चुनाव में राहुल गांधी या प्रियंका गांधी नही बल्कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित कांग्रेस का सबसे बड़ा चेहरा होंगी और पूरा चुनाव उनके कार्यकाल में किये गए कार्यों के इर्द-गिर्द लड़ा जाएगा।

नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने इसको लेकर अभी से फरमान जारी कर कह दिया है कि, पार्टी की तरफ जारी किये जाने वाले किसी भी पोस्टर पर शीला दीक्षित का चेहरा सबसे प्रमुखता के साथ दिखाया जाए।

पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली में कांग्रेस के पास दिखाने के लिए जो कुछ भी है, वह शीला दीक्षित के समय का कामकाज ही है। ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनाव में वह उन्हीं को भुनाएगी। इसके लिए नए नियुक्त किए गए अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा की अगुवाई में बैठक कर फैसला ले लिया गया है।

कई बड़े वादे कर सकती है कांग्रेस

कांग्रेस द्वारा हाल के विधानसभा चुनावों में किये वादों पर नजर डाली जाए तो उसने अपने घोषणा पत्र में कई बड़े-बड़े वादे किये। जिसका लाभ उसे मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में मिला। वहीं हरियाणा में भी उसे उम्मीद से अच्छे परिणाम मिले।

हरियाणा चुनाव के बाद उत्साह में आई कांग्रेस दिल्ली में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखना चाहती। वह पूरी रणनीति बनाकर दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और भाजपा का मुकाबला करने को तैयार है। दोनों ही दलों के ट्रंप कार्ड का बारीकी से अध्ययन कर उनका जवाबी उत्तर तैयार किया जाएगा। पार्टी के अध्यक्ष रह चुके एक नेता के मुताबिक विधानसभा चुनाव  में कांग्रेस अरविंद केजरीवाल के फ्री बिजली, पानी और बस-मेट्रो के मुकाबले शानदार योजनाएं पेश करेगी और लोगों का समर्थन फिर से प्राप्त करेगी।

दिल्ली में मजबूत होने की उम्मीद

अध्यक्ष पद को लेकर तमाम उलझनों के बाद भी कांग्रेस ने हरियाँणा में शानदार प्रदर्शन किया है। चूंकि, पड़ोसी राज्य होने के नाते दिल्ली के चुनाव पर हरियाणा काफी असर डालता है, कांग्रेस को उम्मीद है कि वह दिल्ली में भी मजबूती पाने में कामयाब रहेगी। इसके लिए हरियाणा के नेता ऐसे इलाकों में प्रचार करते नजर आएंगे जहां हरियाणा के लोगों की बसावट ज्यादा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दी श्रद्धाजंलि

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की जयंती पर ट्वीट करते हुए उन्हें श्रद्धाजंलि दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा की “हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि”।

प्रधानमंत्री मोदी के अलावा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी ने भी राजीव गांधी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

सोनभद्र मामले के बाद कांग्रेस में उठी प्रियंका गाँधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग

0
congress general secretory priyanka gandhi while protesting on sonbhadra voilence in uttar pradesh

सोनभद्र हिंसा के बाद जिस तरह प्रियंका गाँधी ने राज्य सरकार से लोहा लिया और पीड़ितों से मिलने के लिए धरने पर बैठ गयी और आखिर में जिस सरकार और प्रशासन को झुकाकर उन्होंने पीड़ितों से मुलाकात की उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में एक बार फिर उर्जा का संचार हुआ हैं। उत्तरप्रदेश के साथ ही पूरे देश में अब प्रियंका गाँधी को कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व सौंपने की मांग उठ गयी है।

कई छोटे-बड़े नेताओं के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह ने सोनभद्र मामले में प्रियंका के फैसले का ज़िक्र करते हुए कहा कि “वह पार्टी को संभालने में सक्षम हैं। आपने देखा होगा कि उन्होंने उत्तरप्रदेश में क्या किया।, वह सोनभद्र मामले को लेकर वहां टिकी रहीं और जो चाहती थीं उसे हासिल कर लिया”

नटवर सिंह ने आगे राहुल गाँधी के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि “राहुल को अपने इस फैसले को बदलना होगा कि कांग्रेस का नेतृत्व गांधी परिवार के बाहर का कोई शख्स करे। गाँधी परिवार को अब यह फैसला उलटना होगा कि कांग्रेस का नेतृत्व कोई गैर गांधी करे। सिंह ने आगे कहा कि अगर गाँधी के बाहर का कोई शख्स अगर कांग्रेस का नेतृत्व करता है तो 24 घंटे के भीतर कांग्रेस बिखर जाएगी।

प्रियंका जहां एक ओर अपना पूरा ध्यान उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव पर लगा रखी है तो वहीं राहुल गाँधी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देते समय ही साफ़ कर दिया था कांग्रेस पार्टी का अगला अध्यक्ष गाँधी परिवार से नही होगा।

9 अगस्त को अहमदाबाद कोर्ट के सामने पेश होंगे राहुल गांधी, कोर्ट ने भेजा समन

0

राहुल गांधी को अहमदाबाद की एक अदालत ने 9 अगस्त को पेश होने को लेकर समन भेजा है। अप्रैल को एक चुनावी रैली में गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ उनकी कथित टिप्पणी को लेकर दायर मानहानि के मुकदमे के सिलसिले में यह समन जारी किया गया है।

क्या है पूरा मामला ?

राहुल ने मध्यप्रदेश में चुनावी रैली के दौरान अमित शाह के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्प्णी करते हुए उन्हें ‘हत्या का आरोपी’ कहा था। राहुल ने 23 अप्रैल को हुई इस रैली में अमित शाह के खिलाफ हत्या के मामले का हवाला देकर राहुल गाँधी ने हमला बोला था। इस मामले में शाह पांच साल पहले बरी हो चुके हैं। राहुल ने शाह के बेटे जय शाह पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे।

रैली में अमित शाह पर हमला बोलते हुए राहुल ने कहा था, “हत्या के आरोपी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह… वाह! क्या आपने जय शाह का नाम सुना है? वह जादूगर हैं, उन्होंने तीन महीने में 50 हजार रुपये को 80 करोड़ रुपये में बदल दिया।”

एक गैंगस्टर शोहराबुद्दीन शेख के कथित फर्जी मुठभेड़ से जुड़े मामले में अमित शाह का नाम आया था। ये मामला 2005 का है। हालांकि 2014 में कोर्ट ने कहा कि उन्हें शाह के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है।

10 जुलाई को अमेठी दौरे पर जाएंगे राहुल गांधी

0

न्यूज ऐजेंसी ऐएनआई के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 10 जुलाई, बुधवार को अमेठी के दौरे पर जाएंगे। लोकसभा चुनावों में अमेठी लोकसभा से भाजपा नेत्री स्मृति ईरानी के हांथों मिली हार के बाद यह राहुल गाँधी का पहले अमेठी दौरा होगा. इससे पहले राहुल ने अपनी लोकसभा वायनाड का दौरा किया था.

सूत्रों के अनुसार राहुल गाँधी अमेठी में जनसंपर्क कार्यक्रम के दौरान जनता से मिलेंगे और साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बैठक ले सकते है.

राहुल गाँधी पर दिए विवादित बयान के बाद बड़ी सुब्रमण्यम स्वामी की मुश्किलें, 2 एफआईआर दर्ज

0

भाजपा नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी द्वारा दर्ज किये गये मानहानि केस मामले में राहुल गांधी को पटना हाई कोर्ट द्वारा जमानत दिए जाने के बाद अब छत्तीसगढ़ पुलिस ने कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के खिलाफ विवादित बयान देने को लेकर भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के खिलाफ शिकायत दर्ज की है।

छत्तीसगढ़ के साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा बारांबकी में भी इसी मामले में एक और एफआईआर दर्ज की गई।

कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ के प्रभारी पीएल पुनिया ने इस मामले पर कहा कि “हमने उनकी टिप्पणी पर कोतवाली नगर बाराबंकी में एफआईआर दर्ज की है,

दरअसल सुब्रमण्यम स्वामी ने कुछ दिनों पहले विवादित बयान देते हुए कहा था की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी कोकेन का सेवन करते हैं। जिसके खिलाफ कांग्रेस नेताओं ने केस दर्ज करवाया है ।

स्वामी की प्रतिक्रिया

आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता और राज्यसभा संसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, “मुझे आश्चर्य है कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने मेरे खिलाफ कथित रूप से यह मामला दर्ज किया है। यह एफआईआर बेवकूफी है क्योंकि पुलिस ने सत्यता की जांच के लिए डोप टेस्ट नहीं किया था। ”

छत्तीसगढ़ के पत्थलगांव पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज करवाने वाले जिला कांग्रेस अध्यक्ष पवन अग्रवाल ने कहा कि भाजपा नेता को इस तरह का बयान देने का कोई अधिकार और तथ्य नहीं था।

“स्वामी खुद जानते हैं कि उनका बयान राहुल गांधीजी का अपमान करने के लिए जानबूझकर दिया गया बयान था। स्वामी जानते हैं कि उनका बयान राजनीतिक दलों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा दे सकता है और लोगों को भड़का सकता है। इस तरह के बयान से लोगों में शांति भंग हो सकती है।”

इन धाराओं के तहत दर्ज हुआ केस

बता दें कि पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान), 505 (2) (किसी भी वर्ग या समुदाय के व्यक्ति को उकसाने का इरादा) के तहत मामला दर्ज किया है।

हार की जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कमलनाथ ने दिया इस्तीफा, राहुल गांधी के साथ कि बैठक

0

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद एक और राहुल गांधी राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके और पार्टी नए अध्यक्ष की तलाश कर रही है। तो वहीं दूसरी ओर पार्टी के कई वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता भी राहुल गांधी के समर्थन में इस्तीफा दे रहे है।

ज्ञात हो कि हरियाणा में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ हुई बैठक में राहुल गांधी ने कहा था की चुनाव के बाद आए नतीजों के बाद हार की जिम्मेदारी लेते हुए किसी भी महासचिव या प्रदेश अध्यक्ष ने इस्तीफा नही दिया। जिसके बाद कांग्रेस के लगभग 200 से ज्यादा नेता इस्तीफा दे चुके है।

इसी बीच अब बड़ी खबर आई है कि हार की जिम्मेदारी लेते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी अपने इस्तीफे राहुल गांधी के समक्ष रख दिये है। हालांकि अभी तक उनके इस्तीफे को मंजूर नही किया गया है।

आज पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ हुई बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि “राहुल जी के साथ हुई बैठक में मैंने और कमलनाथ जी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की पेशकश की। इस्तीफे नतीजे घोषित होने वाले दिन ही दे दिए गए थे। मुख्यमंत्रियों को हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देना चाहिए, बाकी फैसला पार्टी हाईकमान को करना है।”

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोहन मारकम को बनाया छत्तीसगढ़ कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष

0

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज शुक्रवार को छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पड़ पर मोहन मारकम की नियुक्ति कर दी। छत्तीसगढ़ के कोंडागांव से विधायक मोहन मारकम बस्तर इलाके से आते है और छत्तीसगढ़ के बड़े आदिवासी नेता है।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद से ही नए अध्यक्ष की तलाश शुरू हो गई थी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस पद के लिए मोहन मारकम से साथ ही मनोज मंडावी से मुलाकात की। इस बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रभारी पीएल पुनिया भी शामिल थे।