Saturday, June 19, 2021
Home Tags Rahul gandhi

Tag: Rahul gandhi

राहुल गांधी का तंज- आज से पेट्रोल पंप पर दिखेगा मोदी सरकार का ‘महंगाई वाला विकास’

0

देशभर में बढ़ती पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि आज से मोदी सरकार का मंहगाई वाला विकास पट्रोल पंप पर बिल देते समय दिखाई देगा।

राहुल ने ट्वीट में लिखा कि, ‘कई राज्यों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो रही है। पेट्रोल पंप पर बिल देते समय आपको मोदी सरकार द्वारा किया गया महंगाई में विकास दिखेगा। टैक्स वसूली महामारी की लहरें लगातार आती जा रही हैं।

इसके पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि को ‘अत्यधिक सार्वजनिक लूट’ करार दिया और कहा कि इसके लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है।

सुरजेवाला के अनुसार पिछले 13 महीनों में पेट्रोल-डीजल में 25.72 रुपये और 23.93 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा,’कुछ राज्यों में पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया है’। बता दें कि पेट्रोल- डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस लगातार सरकार की आलोचना कर रही है।

आपको बता दें कि इसके पहले भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी पेट्रोल-डीजल के अलावा कई मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी से लेकर वैक्सीनेशन अभियान तक राहुल गांधी केंद्र सरकार से कई सवालों के जवाब मांगते रहे हैं। हाल ही में उन्होंने जनता से भी फ्री वैक्सीनेशन की मांग उठाने की अपील की थी।

पीएम मोदी को राहुल गांधी का खत, आपकी विफलता के कारण आई कोरोना की सुनामी, दिए यह सुझाव

0
rahul gandhi corona scam
rahul gandhi corona scam

राहुल गांधी ने शुक्रवार को पीएम मोदी को पत्र लिखकर सरकार की विफलता को कोरोना महामारी को कारण बताया। साथ ही राहुल ने सरकार से आग्रह किया कि कोरोना वायरस के सभी स्वरूपों का वैज्ञानिक तरीकों से पता लगाने के साथ ही पूरी दुनिया को इस बारे में अवगत कराया जाए तथा सभी भारतीय नागरिकों को जल्द से जल्द टीका लगाया जाए।

गरीबों की तुरंत करें आर्थिक मदद

राहुल गांधी ने कहा कि सरकार की ‘विफलता’ के कारण देश एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर के लॉकडाउन के मुहाने पर खड़ा हो गया है। ऐसे में गरीबों को तत्काल आर्थिक मदद दी जाए ताकि उन्हें पिछले साल की तरह पीड़ा से नहीं गुजरना पड़े। पत्र में राहुल गांधी ने कहा, ‘‘मैं आपको एक बार फिर पत्र लिखने के लिए विवश हुआ हूं क्योंकि हमारा देश कोविड सुनामी की गिरफ्त में बना हुआ है।


देश की पीड़ा को समझें पीएम मोदी: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता ने कहा कि  इस तरह के अप्रत्याशित संकट में भारत के लोग आपकी सबसे बड़ी प्राथमिकता होने चाहिए। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप देश के लोगों को इस पीड़ा से बचाने के लिए जो भी संभव हो, वह करिए।’’उन्होंने कहा कि दुनिया के हर छह लोगों में से एक व्यक्ति भारतीय है। 

कोरोना को लेकर राहुल ने जताई चिंता

पत्र में राहुल ने कहा कि इस महामारी से अब यही पता चला है कि हमारा आकार, आनुवांशिक विविधता और जटिलता से भारत में इस वायरस के लिए बहुत ही अनुकूल माहौल मिलता है कि वह अपने स्वरूप बदले तथा अधिक खतरनाक स्वरूप में सामने आए। मुझे डर इस बात का है कि जिस ‘डबल म्यूटेंट’ और ‘ट्रिपल म्यूटेंट’ को हम देख रहे हैं, वह शुरुआत भर हो सकती है। उनके मुताबिक, इस वायरस का अनियंत्रित ढंग से प्रसारित होना न सिर्फ हमारे देश के लोगों के लिए घातक होगा, बल्कि शेष दुनिया के लिए भी होगा।


केंद्र पर लगाए कई आरोप
कांग्रेस नेता ने  प्रधानमंत्री को सुझाव दिया, ‘‘इस वायरस एवं इसके विभिन्न स्वरूपों के बारे में वैज्ञानिक तरीके से पता लगाया जाए। सभी नए म्यूटेशन के खिलाफ टीकों के असर का आकलन किया जाए। सभी लोगों को तेजी से टीका लगाया जाए। पारदर्शी रहा जाए और शेष दुनिया को हमारे निष्कर्षों के बारे में अवगत कराया जाए।’’राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के पास कोविड के खिलाफ टीकाकरण को लेकर कोई स्पष्ट रणनीति नहीं हैं और सरकार ने उसी समय इस महामारी पर विजय की घोषणा कर दी जब यह वायरस फैल रहा था।


राहुल गांधी ने दिया गरीबों की मदद का सुझाव
कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि इस स्थिति को देखते हुए कमजोर तबकों के लोगों को वित्तीय मदद और खाद्य सामाग्री उपलब्ध कराई जाए ताकि लॉकडाउन के कारण गरीबों को उस पीड़ा को न झेलना पड़े जो उन्हें पिछले साल के लॉकडाउन के समय झेलनी पड़ी थी। उन्होंने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में पूरे सहयोग का भरोसा दिलाते हुए कहा कि इस संकटकाल में विभिन्न पक्षों को विश्वास में लिया जाए ताकि सब मिलकर भारत को सुरक्षित रखने के लिए काम कर सकें।

West Bengal Election:जहां राहुल गांधी ने की रैली, वह सीटें भी नहीं बचा पाई कांग्रेस, हुई जमानत जब्त

0

पश्चिम बंगाल चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने इतिहास की सबसे बुरी हार का सामना किया है यहां पर कांग्रेस को एक भी सीट पर सफलता हासिल नहीं हुई है। कई सीटर तो ऐसी है जहां पर कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने रैली की थी वहां पर कांग्रेस उम्मीदवार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।

इस बार के पश्चिम बंगाल चुनाव में भले ही सीधी लड़ाई भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच सिमट कर रह गई हो लेकिन तीसरे मोर्चे के तौर पर कांग्रेस और लेफ्ट ने गठबंधन जरूर किया लेकिन एक भी सीट पर सफलता हासिल नहीं कर पाए।

कांग्रेस और लेफ्ट गठबंधन के कई उम्मीदवारों का हाल तो इतना भी बुरा था कि जहां पर राहुल गांधी ने रैलियां की वहां पर उम्मीदवार अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए कांग्रेस लिफ्ट गठबंधन के 85% उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हुई है।

आजादी के बाद बंगाल में यह पहला मौका है जब बंगाल की सत्ता में लगभग 60 साल तक सत्तासीन रहे लेफ्ट और कांग्रेस पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली इस बार बंगाल में 292 सीटों पर चुनाव हुए थे 2 सीटों पर उम्मीदवारों की निधन के कारण चुनाव रद्द हो गए थे 292 सीटों में ममता बनर्जी की पार्टी को 213 सीटें तो भाजपा को 77 मिली हैं वही एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार को तो एक सीट राष्ट्रीय सेक्युलर मजलिस पार्टी को मिली है।

आपको बता दें कि बंगाल की 292 सीटों पर हुए चुनाव में तीसरे मोर्चे यानी लेफ्ट और कांग्रेस के 49 उम्मीदवार ही अपनी जमानत बचा पाने में सफल हुए हैं बाकी 85% उम्मीदवार तो जमानत भी नहीं बचा पाए।

जहां राहुल ने की रैली वही जमानत जप्त

कांग्रेस वाले गठबंधन के उम्मीदवारों के लिए राहुल गांधी ने मटियारा नक्सलवाड़ी और गोलपोखर में सभाएं की थी जहां उम्मीदवारों को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा और दोनों उम्मीदवारों की जमानत जप्त हो गई। आपकी जानकारी के लिए बता दें मटियारा नक्सलवाड़ी एक दशक से कांग्रेस का गढ़ रहा है जहां पर मौजूदा विधायक शंकर मालाकार इस बार तीसरे नंबर पर आए हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

0

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी(AICC) के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं राहुल ने इसकी जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी है।

राहुल गांधी का ट्वीट


राहुल गांधी ने लिखा हल्के लक्षण महसूस होने के बाद मैंने अपना टेस्ट करवाया था जिसमें मैं पॉजिटिव पाया गया हूं जो भी मेरे संपर्क में रहे हैं वह सभी भी कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करें।

आपको बता दें देश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर बहुत ही भयावह है कई बड़े नेता और मंत्री कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

कल देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी पॉजिटिव पाए गए जिन्हें दिल्ली एम्स में भर्ती किया गया है।इसके पहले पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और राज्यसभा सदस्य एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।

बंगाल चुनाव: बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच राहुल गांधी ने रद्द की जनसभाएं, बाकी दलों से भी की ये अपील

0

पश्चिम बंगाल में बढ़ते कोरोना संक्रमण से जनता की सुरक्षा के मद्देनजर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने अपनी सभी जनसभाएं रद्द कर दी हैं। पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में विधानसभा का चुनाव हो रहा है जिसमें अब अंतिम चरण के ही चुनाव बचे हैं।

राहुल ने अन्य दलों के नेताओं से भी अपील की है कि वह भी पश्चिम बंगाल की मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखकर जनसभाएं करना बंद कर दें जिससे भीड़ ना बढ़े और कोरोना संक्रमण को रोका जा सके।

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा के चुनाव चल रहे हैं विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा कांग्रेस तृणमूल कांग्रेस और वामदलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है प्रधानमंत्री गृहमंत्री लगातार पश्चिम बंगाल में सभाएं कर रहे हैं तो उधर ममता बनर्जी भी सत्ता वापसी का पूरा जोर लगा रही हैं।

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और वाम दल मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं बीते दिनों कांग्रेस के 1 उम्मीदवार की कोरोनावायरस कारण मौत भी हो चुकी है यही कारण है कि राहुल गांधी ने अपनी आगामी सभी जनसभाएं कैंसिल कर दी हैं।

पश्चिम बंगाल में कोरोना तेजी से बढ़ रहा है लेकिन चुनावों की आड़ में नेता कोरोनावायरस की गाइडलाइन का पालन नहीं कर पा रहे हैं जिसके कारण लोग अधिक मात्रा में संक्रमित हो रहे हैं।

राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर निशाना, बोले बीमारों और मृतकों की इतनी भीड़ पहली बार देखी है

0

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है राहुल ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट में लिखा “बीमारों और मृतकों की इतनी भीड़ पहली बार देखी है#रैली”

दरअसल राहुल ने यह बात प्रधानमंत्री के कल पश्चिम बंगाल में दिए उस बयान के खिलाफ दिया है जिसमें उन्होंने कहा था आज मेरी रैली में इतनी भीड़ आई है कि मैं जहां तक देख पा रहा हूं वहां तक भीड़ ही भीड़ दिखाई दे रही है।

आपको बता दें कि देश में कोरोना संक्रमण अपने चरम पर है कई राज्यों में तो यह बुरी तरह बेकाबू हो चुका है कोरोना संक्रमण के कारण देश में मृत्यु दर लगातार बढ़ रहा है। इसका प्रमुख कारण हमारी सरकारों का सजग ना होना है।

देश के कई राज्यों में तो हालात यह हो गए हैं कि श्मशान घाट तक में लोगों को अंतिम संस्कार करने के लिए तो कल लेने पड़ते हैं और लंबा इंतजार करना पड़ता है कल गाजियाबाद और लखनऊ में ऐसी ही तस्वीर है सामने आए जहां पर लोग अपने प्रिय जनों की अर्थों को लाइन लगाकर साइड में बैठे थे उन्हें लाउडस्पीकर के माध्यम से बताया जा रहा था कि फला टोकन नंबर का समय इतनी देर बाद आने वाला है।

ऐसा माना जा रहा है कि देश के बिगड़ते हालातों के मद्देनजर राहुल ने अपना ये बयान दिया है।

राहुल गांधी का केंद्र पर निशाना- लिखा कोविड रणनीति के तीन चरण, तुगलकी लॉकडाउन, घंटी बजाओ और प्रभु के गुण गाओ

0

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने कोविड-19 महामारी से निपटने की रणनीति को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है। राहुल ने आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र सरकार की रणनीति सिर्फ ‘तुगलकी लॉकडाउन’ लगाने और घंटी बजवाने की है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि केंद्र सरकार की कोविड रणनीति- पहला चरण- तुग़लक़ी लॉकडाउन लगाओ। दूसरा चरण- घंटी बजाओ। तीसरा चरण- प्रभु के गुण गाओ।

राहुल ने अपने पिछले साल के एक बयान का वीडियो इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हुए कहा कि एक साल बाद भी लोग परेशानी का सामना कर रहे हैं। पीड़ा झेल रहे हैं, हमारा स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचा ध्वस्त पड़ा है और हमारे प्रधानमंत्री अपनी जिम्मेदारियों से निरंतर पल्ला झाड़कर चुनाव में व्यस्त हैं।

वही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी लोगों से अपील की कि प्यारे देशवासियों, ये हम सबके लिए बहुत संकट का समय है। हम सबके प्रियजन, परिवारजन, आस-पास के लोग कोरोना महामारी की चपेट में आ रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि आप सब से निवेदन है कि मास्क लगाएं एवं कोविड सुरक्षा संबंधी सभी निर्देशों का पालन करें। सावधानी और संवेदना के साथ हमें मिलकर इस जंग को जीतना होगा।

आपको बता दें कि देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 2लाख 34 हजार नए मामले सामने आये हैं और देश मे 1400 से ज्यादा मौते इसके कारण हुई हैं कई जगहों पर हालात यह हैं कि लोगों को श्मशान घाट में भी लाइन लगाना पड़ रहा है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी के बयान के बाद कहा , उनकी ट्यूबलाइट काफी देर से जलती है

0

कांग्रेस(Congress) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष(Ex National President) राहुल गाँधी(Rahul Gandhi) ने उनकी दादी मां और तत्कालीन प्रधानमंत्री(Prime minister) इंदिरा गाँधी(Indira Gandhi) के इमरजेंसी(Emergency) लगाने के फैसले को एक भूल बताया है। राहुल गांधी ने कहा कि 1975 से 77 के बीच 21 महीने के आपातकाल के दौरान जो कुछ भी हुआ वो गलत था। वहीं राहुल के इस बयान के बाद बीजेपी को बड़ा मुद्दा मिल गया है। बीजेपी ने राहुल गांधी के इमरजेंसी वाले बयान पर अब उन्हें पूरी तरह से घेर लिया है।

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री(Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chouhan) ने राहुल गांधी को ट्यूबलाइट बताया है। उन्होंने कहा कि राहुल जी की दिक्कत यही है कि वह बहुत वर्षों बाद सोचते हैं। जब 1975 में इंदिरा गांधी ने इमरजेंसी लगाई थी तब हम बच्चे थे लेकिन उसके साथ जेल भी गए थे। आज जब राहुल गांधी बोल रहे हैं तो हम 61 साल के हो गए हैं।

शिवराज सिंह चौहान ने यह भी कहा कि राहुल गांधी की सोच बहुत पीछे चलती है और उन्हें यह बात अब समझ में आ रही है। हालांकि देर आए दुरुस्त आए लेकिन उन्हें सोचना चाहिए कि वह जो आज कह रहे हैं उन्हें अब कई वर्षों बाद लगेगा कि वह गलती कर रहे थे। तब उन्हें फिर गलती की माफी मांगनी पड़ेगी। उनकी ट्यूबलाइट देर से जलती है।

शिवराज सिंह चौहान ने खंडवा सांसद नंदकुमार सिंह चौहान के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि नंदू भैया के जाने से जो शून्य पैदा हुआ है वह मध्यप्रदेश के सार्वजनिक जीवन में तथा भाजपा के जीवन में तथा कार्यकर्ता के नाते मेरे भी निजी जीवन में वह शून्य कभी भरा नहीं जाएगा। नंदू भैया जैसा कोई नहीं वह सेवा की समर्पण की एक अलग शख्सियत थे।

बंगाल विधानसभा चुनाव: साथ लड़ेंगे कांग्रेस- लेफ्ट, सीटों को हुआ बटवारा

0

बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए हलचल शुरू हो गई है। कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों में गठबंधन को लेकर चल रही चर्चाओं ने अंतिम रूप ले लिया है। विधानसभा की 193 सीटों को लेकर कांग्रेस ने लेफ्ट के साथ बंटवारा कर लिया है। इन 193 सीटों में से 101 पर लेफ्ट पार्टियां और 92 पर कांग्रेस चुनाव लड़ेगी। वहीं बाकी सीटों के लिए अगली बैठक में फैसला किया जाएगा।

बता दें कि कांग्रेस ने 2016 के बंगाल विधानसभा चुनाव में भी वाममोर्चा के साथ गठबंधन किया था। जहां माकपा 148 सीटों पर चुनाव लड़ी थी और 26 सीटों पर उसे जीत मिली थी, जबकि कांग्रेस ने 92 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, जिसमें उसे 44 सीटों पर जीत मिली थी।

इसके अलावा वामदलों के सहयोगी के तौर पर ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक ने 25 सीटों पर चुनाव लड़ कर दो सीटें जीती थी। सीपीआई 11 सीटों पर चुनाव लड़कर 1 सीट जीती थी। इसके अलावा रिवॉल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी 19 सीटों पर चुनाव लड़कर 3 सीटें जीती थी।

इस तरह से देखें तो 2016 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस वाम मोर्चे के गठबंधन में सबसे अधिक फायदा कांग्रेस को ही हुआ था। कांग्रेस पार्टी ने मात्र 92 सीटों पर चुनाव लड़कर 44 सीटें जीती, जबकि वामपंथी दल 202 सीटों पर चुनाव लड़कर मात्र 32 सीटें ही जीत पाए थे। 44 सीटें जीतने के कारण कांग्रेस को विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल का दर्जा भी मिला था। इसके बाद कांग्रेस और लेफ्ट का गठबंधन टूट गया था और 2019 के लोकसभा चुनाव में दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी थी।

वहीं, इस बार कांग्रेस और लेफ्ट ने फैसला किया था कि साल 2016 के चुनाव में जीती हुई अपनी-अपनी सीटों पर कांग्रेस और लेफ्ट के प्रत्याशी उतरेंगे। इस तरह कांग्रेस को अपनी जीती हुई 44 सीटों के साथ 92 सीटें मिली है और लेफ्ट को अपनी जीती हुई 33 सीटों के साथ 101 सीटें मिली है।इसके बाद बाकी बची सीटों पर अभी पेच फंसा हुआ है, जिस पर दोनों दलों के साथ सहमति बनने बाद बंटवारे का ऐलान होगा। इससे साफ जाहिर है कि कांग्रेस इस बार बंगाल में पिछले चुनाव से ज्यादा सीटों पर किस्मत आजमाएंगी।

पीएम मोदी से ज्यादा समझदार हैं किसान, उन्हें पता कि देश में क्या हो रहा है: राहुल गांधी का सरकार पर हमला

0

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश की आम जनता की लड़ाई आज किसान लड़ रहे हैं। वे हमारे भोजन की लड़ाई लड़ रहे हैं। हमें उनका पूरा समर्थन करना चाहिए। अभी तक खेती में किसी का एकाधिकार नहीं था। इन कृषि कानूनों से किसानों का हाल आजादी से पहले वाला हो जाएगा। सरकार को इन तीनों कानून को वापस लेना होगा। हम सरकार पर दबाव बना रहे हैं। ये प्रेस कॉन्फ्रेस भी सरकार पर दबाव बनाने के लिए की जा रही है। किसानों को न थकाया जा सकता है और न ही बेवकूफ बनाया जा सकता है। किसान प्रधानमंत्री मोदी से ज्यादा समझदार हैं। उन्हें पता है कि देश में क्या हो रहा है।

“आज देश के सामने एक त्रासदी आ गई है, सरकार देश की समस्या नजरअंदाज करना चाहती है और गलत सूचना दे रही है। मैं अकेले किसानों के बारे में बोलने वाला नहीं हूं क्योंकि यह त्रासदी का हिस्सा है। यह युवाओं के लिए महत्वपूर्ण है। यह वर्तमान के बारे में नहीं बल्कि आपके भविष्य के बारे में है।”