fbpx
सोमवार, मार्च 8, 2021
होम टैग्स Priyanka Gandhi

टैग: Priyanka Gandhi

रोबर्ट वाड्रा ने दिए राजनीति में आने के संकेत, राहुल- प्रियंका और सरकार पर की बात

0

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद और महासचिव प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने आज राजनीति में उतरने और चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। बेनामी संपत्ति के मामले में लगातार दो दिन पूछताछ किए जाने के बाद उन्होने यह बयान दिया है।

मीडिया से बात करते हुए वाड्रा ने कहा कि राजनीतिक परिवार से जुड़े होने के कारण उन्हें लगातार परेशान किया जा रहा है। राजनीति में न होने के बावजूद वह सियासी लड़ाई लड़ रहे हैं। सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होने कहा कि सरकार जब भी मुश्किल में होती है, वह पंचिंग बैग की तरह मेरा इस्तेमाल किया जाता है।

वाड्रा ने आगे कहा कि अब मुझे लगता है कि मैंने लंबे समय तक बाहर से लड़ाई लड़ी है। मैंने खुद को समझाया, लेकिन लगातार वे मुझे परेशान करते रहे। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि मैं राजनीति में नहीं हूं। मैं हमेशा राजनीति से दूर रहा।
रॉबर्ट वाड्रा ने समाचार एजेंसी आईएएनएस को गुरुवार को दिए इंटरव्यू में ये बातें कही हैं।
बता दें कि वाड्रा ने लोकसभा चुनाव के दौरान सोनिया गांधी के लिए रायबरेली और राहुल गांधी के लिए अमेठी में प्रचार किया था।

गांधी परिवार पर बात करते हुए उन्होने कहा कि, गांधी परिवार के लोगों ने देश के लिए जान दी है। मैं ऐसे परिवार से हूं, जो कई पीढ़ियों से इस देश की सेवा करता आया है। इस परिवार के लोगों ने देश के लिए जान दी है। मैंने उन्हें देखा है, उनसे सीखा है, मुझे लगता है कि मुझे इसी ताकत के साथ लड़ने के लिए संसद में जाना होगा।

सही समय आने पर लूंगा चुनाव लड़ने का फैसला
वाड्रा ने चुनाव लड़ने पर कहा कि मैं एक ऐसी जगह देखूंगा, जहां के लोग मुझे वोट देंगे और मैं उन लोगों की जिंदगी में फर्क ला सकता हूं। हालांकि, उन्होंने कहा कि इसमें परिवार की रजामंदी भी जरूरी होगी। पूरा परिवार, खास तौर से प्रियंका हमेशा मेरे फैसलों का सपोर्ट करती हैं। मैं पूरे परिवार के बारे में बात कर रहा हूं। जब वे इसके लिए हां कह देंगे, तो मैं राजनीति में आ सकता हूं।

असल मुद्दों से भटकाना चाहती है सरकार
मैं राजनीतिक परिवार का हिस्सा हूं और इसलिए दूसरी पार्टियों से निपटना होगा। वे भी मेरे बारे में बात करते हैं। देश के लोग और मीडिया भी हमारा पक्ष जानना चाहते हैं। सरकार असली मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए मुझे जरिया बना रही है। उन्होंने कहा कि इस समय कोरोना फैला हुआ है। किसानों के मुद्दे हैं। वे प्रदर्शन कर रहे हैं। खुदकुशी कर रहे हैं। ऐसे माहौल में सरकार सोचती है कि किसी एजेंसी को पूछताछ के लिए भेजना चाहिए। वे मुझसे वही सवाल पूछते हैं, जिनके मैं पहले जवाब दे चुका हूं।’


राहुल में नेतृत्व क्षमता

राहुल गांधी के पास कांग्रेस का नेतृत्व करने की क्षमता है। हालांकि, यह पार्टी को तय करना है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस लोकतांत्रिक पार्टी है। यहां हर किसी का अपना मत है। अगर पार्टी को लगता है कि उनमें संभावना है तो वे उन्हें अध्यक्ष चुन लेंगे। प्रियंका अपना काम ईमानदारी से कर रही हैं। देश के लोग चाहते हैं कि वे नेशनल लेवल पर ज्यादा एक्टिव रहें। उन्हें खुद को साबित करने के लिए और वक्त दिया जाना चाहिए।

हाथरस जा रहे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने धक्कामुक्की कर किया गिरफ्तार

0
Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

यूपी में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने जा रहे काग्रेस नेता राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उनके साथ प्रियंका गांधी भी मौजूद हैं। हिरासत में लिए जाने से पहले राहुल गांधी और पुलिस कर्मियों के बीच बहस और झूमाधटकी भी हुई।
पुलिस से सावल करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ”किस धारा में मुझे गिरफ्तार किया जा रहा है। अकेला जाना धारा 144 का उल्लंघन कैसे है।” राहुल गांधी की इस दलील पर मौजूद पुलिस अधिकारी ने कहा कि धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

इससे पहले राहुल गांधी को रोकने के लिए पुलिस कर्मी ने धक्का दिया। राहुल नीचे गिर गए। इस दौरान राहुल गांधी एबीपी न्यूज़ से बात कर रहे थे। घटना पर एबीपी न्यूज़ के संवाददाता ने राहुल गांधी से सवाल किया तो उन्होंने कहा कि थोड़ा सा धक्का लगा, कोई बात नहीं है। कभी-कभी ऐसा होता है। मैं दलित परिवार से मिलना चाहता हूं।

राहुल गांधी ने ट्वीट भी किया। उन्होंने कहा, ”इस घटना के बाद राहुल गांधी ने कहा, ”दुख की घड़ी में अपनों को अकेला नहीं छोड़ा जाता। UP में जंगलराज का ये आलम है कि शोक में डूबे एक परिवार से मिलना भी सरकार को डरा देता है। इतना मत डरो, मुख्यमंत्री महोदय!”

बता दें कि उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड पीड़िता के परिजन से मुलाकात करने के लिए करीब एक बजे राहुल गांधी अपने आवास से निकले। इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी मौजूद रहीं। उन्हें नोएडा में डीएनडी पर रोकने की कोशिश की गई। काफिले को ग्रेटर नोएडा पुलिस ने रोक लिया। जिसके बाद वे पैदल ही हाथरस के लिये निकल गये।

आगे कुछ दूर चलने के बाद यूपी पुलिस ने फिर उन्हें रोकने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस ने धक्कामुक्की की। राहुल नीचे गिर गए। राहुल को चोट भी लगी है।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को गाड़ी में बैठाकर पुलिस लेकर चली गई। वहां मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता का सिर फूट गया।

कांग्रेस के प्रदेश मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया कि प्रियंका और राहुल हाथरस कांड के पीड़ित परिवार से मुलाकात करने जा रहे थे। रास्ते में ग्रेटर नोएडा पुलिस ने उनके काफिले को परी चौक इलाके में रोक लिया।

इस बीच, राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने राहुल और प्रियंका पर निशाना साधते हुए कहा, ‘ये जो भाई—बहन दिल्ली से चले हैं, उन्हें राजस्थान जाना चाहिये था। जहां भी ऐसी घटना होती है, वह जघन्य अपराध होता है। राजस्थान में भी वारदात हुई थी, मगर कांग्रेस हाथरस की घटना पर गंदी राजनीति कर रही है।’

उधर, हाथरस जिलाधिकारी पी।के। लक्षकार ने बताया कि जिले में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है, जो आगामी 31 अक्टूबर तक प्रभावी रहेगी। जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गयी हैं।

गौरतलब है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था। लड़की को रीढ़ की हड्डी में चोट और जीभ कटने की वजह से पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। उसके बाद उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी।

इस घटना को लेकर देश भर में जगह—जगह प्रदर्शन किये गये। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फोन करके इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने को कहा था। राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिये विशेष जांच दल गठित किया है।

हो गई सुलह, राष्ट्रीय स्तर पर सचिन पायलट को मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी

0
FB IMG 1597068748138
FB IMG 1597068748138

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री और हाल ही में पार्टी से बागी हुए सचिन पायलट की आज राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से हुई मुलाकात के बाद घर वापसी की राह दिख रही है। मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार, मुलाकात में सचिन पायलट को राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी देने पर सहमति बनी है।

हालांकि कुछ समय बाद सचिन एक बार फिर राजस्थान में सक्रिय हो सकेंगे। आज हुई मुलाकात के बाद राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के ऊपर से खतरा फिलहाल टल चुका है।

हालांकि अभी तक इस बारे में कोई अधिकारिक घोषणा पार्टी की तरफ से नही की गई है।

वहीं समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सकचिन पायलट खेमे के विधायक भावन शर्मा ने भी आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की है।

यूपी में फैला जंगलराज, पता नही सरकार कब तक सोएगी: प्रियंका गांधी

0

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को जिंदा करने में लगी पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश में बड़ती अपराधिक घटनाओं को लेकर एक बार फिर योगी सरकार पर हमला बोला है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि उप्र में जंगलराज फैलता जा रहा है और क्राइम और कोरोना कंट्रोल से बाहर है।

बुलंदशहर की एक घटना का जिक्र करते हुए प्रियंका ने लिखा कि बुलंदशहर में श्री धर्मेन्द्र चौधरी जी का 8 दिन पहले अपहरण हुआ था। कल उनकी लाश मिली। कानपुर, गोरखपुर, बुलंदशहर। हर घटना में कानून व्यवस्था की सुस्ती है और जंगलराज के लक्षण हैं। पता नहीं सरकार कब तक सोएगी?

डॉक्टर कफील की रिहाई को लेकर प्रियंका ने लिखा सीएम योगी को पत्र, बोली, संवेदनशीलता दिखाए

0
Priyanka Gandhi Doctor Kafeel Khan
Priyanka Gandhi Doctor Kafeel Khan

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज गोरखपुर अस्‍पताल के ऑक्‍सीजन कांड को लेकर चर्चा में आए डॉक्‍टर कफील खान की रिहाई को लेकर उत्‍तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्‍यनाथ को पत्र लिखा है। पत्र में प्रियंका ने कफील को न्‍याय दिलाने के मकसद से लिखा, ‘मुख्‍यमंत्री महोदय, इस पत्र के माध्‍यम से डॉक्‍टर कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं। ये अब तक लगभग 450 से ज्‍यादा दिन जेल में गुजार चुके हैं। डॉ कफील ने कठिन परिसिथतियों में निस्‍वार्थ भाव से लोगों से लोगों की सेवा की है।’


उन्‍होंने अपने लेटर में आगे लिखा-मुझे उम्‍मीद है क आप संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्‍याय दिलवाने का पूरा प्रयास करेंगे। मुझे अशा है कि गुरु गोरखनाथ जी की यह सही आपको मेरे इस निवेदन को मानने के लिए प्रेरित करेगी। लेटर का अंत उन्‍होंने इस संदेश से किया है-मन में रहिणों, भेद न कहिणों, बोलिबा अमृत वाणी, अगिला अगनी होईया हे अवधू आपणा होइबा पाणी। इसके मायने हैं किसी से भेद न करो, मीठीक वाणी बोले, यदि आपके सामने वाला आग बनकर जला रहा तो तो हे योगी तुम पानी बनकर उसे शांत करो।

गौरतलब है कि अगस्‍त 2017 में जब डॉ. कफील गोरखपुर अस्‍पताल में ड्यूटी पर थे तब अचानक ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई खत्‍म होने से आईसीयू विभाग में भर्ती कई नवजात और बच्‍चों की जान चली गई थी। उस वक्‍त डॉ कफील ने बाहर से ऑ‍क्‍सीजन सिंलेडर का इंतजार करके बच्‍चों को बचाने की भरसक कोशिश की। मीडिया ने उनके इस काम की भरपूर सराहना की थी हालांकि इसके बाद कफील को विभागीय लापरवाही और भ्रष्‍टाचार के मामले में निलंबित कर दिया गया था, उन्‍हें कई माह जेल में भी गुजारने पड़े थे।

कानपुर के जघन्य हत्याकांड में यूपी सरकार पूरी तरह फेल साबित हुई: प्रियंका गांधी

0

यूपी का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर और कानपुर में आठ पुलिस जवानों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को गुरुवार की सुबह मध्य प्रदेश के उज्जैन की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसके साथ ही उसके दो साथी भी गिरफ्तार किया गया है। विकास की गिरफ्तारी पर विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर हो गया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस मसले पर कई सवाल खड़े किए हैं।

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि तीन महीने पुराने पत्र पर ‘नो एक्शन’ और कुख्यात अपराधियों की सूची में ‘विकास’ का नाम न होना बताता है कि इस मामले के तार दूर तक जुड़े हैं। यूपी सरकार को मामले की CBI जांच करा सभी तथ्यों और प्रोटेक्शन के ताल्लुकातों को जगज़ाहिर करना चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि कानपुर के जघन्य हत्याकांड में यूपी सरकार को जिस मुस्तैदी से काम करना चाहिए था, वह पूरी तरह फेल साबित हुई। अलर्ट के बावजूद आरोपी का उज्जैन तक पहुंचना, न सिर्फ सुरक्षा के दावों की पोल खोलता है बल्कि मिलीभगत की ओर इशारा करता है।

मोदी सरकार कर खिलाफ बड़े आंदोलन की तैयारी, कांग्रेस अध्यक्ष ने बुलाई बैठक

0

मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों और गिरती अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस 5 नवंबर से पूरे देश में बाद आंदोलन करने की तैयारी में है। जिसकी तैयारियों को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2 नवंबर को बड़ी बैठक बुलाई है। बैठक में पार्टी के महासचिव और राज्यों के प्रभारी शामिल होंगे।

इसके साथ ही बैठक के लिए सभी संगठनों के प्रमुखों को भी तलब किया गया है। इस बैठक में 5-15 नवंबर के बीच होने वाले राष्ट्रव्यापी आंदोलन की तैयारी का जायजा लिया जाएगा।

पार्टी ने आंदोलन के माध्यम से आर्थिक मंदी, बेरोजगारी, किसान संकट, सार्वजनिक उपक्रम विनिवेश और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के मुद्दों को उठाने का फैसला किया है।

कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल ने कहा है कि ब्लॉक स्तर से लेकर राज्य स्तर तक के 10 दिवसीय आंदोलन में नई दिल्ली की एक बड़ी रैली भी शामिल होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विरोध प्रदर्शन के लिए समान विचारधारा वाले दलों को साथ लाने की कोशिश कर रही है।

सोनिया गांधी ने दिवाली की पूर्व संध्या पर सरकार पर हमला किया। नरेंद्र मोदी सरकार को किसानों के प्रति अपने राज धर्म की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि किसान सरकार की नीतियों के कारण पीड़ित हैं।

ये भी पढ़ें: सोनिया ने दिवाली संदेश में केंद्र सरकार को याद दिलाया ‘राजधर्म’

सोनिया गांधी ने एक विस्तृत बयान में कहा था कि सत्ता में आने के बाद भारतीय जनता पार्टी  (भाजपा) ने किसानों को धोखा देना शुरू कर दिया था।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को बढ़ाकर फसलों पर खर्च की गई राशि पर किसानों को 50 फीसदी अधिक रिटर्न देने का वादा किया। लेकिन साल दर साल भाजपा सरकार ने कुछ बिचौलियों और जमाखोरों के हित में किसानों के करोड़ों रुपये लुटाए।”

कृषि बाजारों की स्थिति का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि देशभर में उनमें से कई एमएसपी से कम दाम पर खरीफ की फसल खरीद रहे थे।

उन्होंने ट्रैक्टर, उर्वरक और अन्य कृषि उपकरणों पर लगाए गए जीएसटी को लेकर भाजपा सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि इससे किसानों पर बोझ बढ़ा है। यहां तक कि डीजल की कीमत भी लगातार बढ़ रही है। सोनिया ने मांग की कि सरकार किसानों को परेशान करना बंद करे और खेत की उपज का सही मूल्य सुनिश्चित करे।

बेरोजगारी के मुद्दे पर प्रियंका का मोदी- योगी सरकार पर हमला

0

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक बार फिर देश में बढ़ रही बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार को आड़े हांथों लिया है। प्रियंका ने उत्तरप्रदेश और बिहार में शिक्षकों के 4 लाख पद खाली होने की एक खबर को शेयर करते हुए अपने ट्विटर एकाउंट पर लिखा,

उत्तर प्रदेश में शिक्षकों के लगभग 2 लाख पद खाली पड़े हैं। युवा नौकरियाँ निकलने का रास्ता देख रहे हैं। धूप-बारिश में खड़े प्रदर्शन कर रहे हैं।

मगर रोजगार देने की बात पर BJP सरकार के लोग मुँह फेर लेते हैं या कहते हैं कि उत्तर भारत के युवाओं में योग्यता नहीं है।

– प्रियंका गांधी

दअरसा दरअसल प्रियंका गांधी अपने इस ट्वीट में केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार के उस बयान पर हमला बोल रहीं थी जिसमें उन्होंने कहा था कि देश में नौकरियों की कमी नही है बल्कि उत्तर भारत के युवाओं में योग्यता की कमी है।

प्रियंका गांधी का ट्वीट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दी श्रद्धाजंलि

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की जयंती पर ट्वीट करते हुए उन्हें श्रद्धाजंलि दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा की “हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि”।

प्रधानमंत्री मोदी के अलावा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी ने भी राजीव गांधी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

सोनभद्र मामले के बाद कांग्रेस में उठी प्रियंका गाँधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग

0
congress general secretory priyanka gandhi while protesting on sonbhadra voilence in uttar pradesh

सोनभद्र हिंसा के बाद जिस तरह प्रियंका गाँधी ने राज्य सरकार से लोहा लिया और पीड़ितों से मिलने के लिए धरने पर बैठ गयी और आखिर में जिस सरकार और प्रशासन को झुकाकर उन्होंने पीड़ितों से मुलाकात की उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में एक बार फिर उर्जा का संचार हुआ हैं। उत्तरप्रदेश के साथ ही पूरे देश में अब प्रियंका गाँधी को कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व सौंपने की मांग उठ गयी है।

कई छोटे-बड़े नेताओं के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह ने सोनभद्र मामले में प्रियंका के फैसले का ज़िक्र करते हुए कहा कि “वह पार्टी को संभालने में सक्षम हैं। आपने देखा होगा कि उन्होंने उत्तरप्रदेश में क्या किया।, वह सोनभद्र मामले को लेकर वहां टिकी रहीं और जो चाहती थीं उसे हासिल कर लिया”

नटवर सिंह ने आगे राहुल गाँधी के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि “राहुल को अपने इस फैसले को बदलना होगा कि कांग्रेस का नेतृत्व गांधी परिवार के बाहर का कोई शख्स करे। गाँधी परिवार को अब यह फैसला उलटना होगा कि कांग्रेस का नेतृत्व कोई गैर गांधी करे। सिंह ने आगे कहा कि अगर गाँधी के बाहर का कोई शख्स अगर कांग्रेस का नेतृत्व करता है तो 24 घंटे के भीतर कांग्रेस बिखर जाएगी।

प्रियंका जहां एक ओर अपना पूरा ध्यान उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव पर लगा रखी है तो वहीं राहुल गाँधी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देते समय ही साफ़ कर दिया था कांग्रेस पार्टी का अगला अध्यक्ष गाँधी परिवार से नही होगा।