fbpx
Thursday, April 15, 2021
Home Tags Kamal nath

Tag: kamal nath

मध्यप्रदेश कांग्रेस के पूर्व मंत्री बीजेपी सरकार के खिलाफ कर रहे है आंदोलन

0

मध्य प्रदेश में कोरोना बेकाबू हो गया है। वहीं भोपाल में भी हालत गंभीर है। भोपाल में सोमवार को ऑक्सीजन की कमी से पांच कोरोना मरीजों की मौत हो गई थी। लेकिन सरकार बार बार दावा कर रही है कि राज्य में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है।

ऐसे में मध्यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आज मिंटो हॉल में गांधी जी की प्रतिमा के नीचे खाली ऑक्सीजन सिलिंडर लेकर अपना विरोध जता रहे है। विधायक पी सी शर्मा, पूर्व मंत्री जीतू पटवारी, विधायक कुणाल चौधरी तीनों ही सरकार के खिलाफ मोर्चा लेकर बैठे है।

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने ट्वीट किया कि , मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की डिमांड और सप्लाई में बड़ा अंतर है। भयावह स्थिति है। ऑक्सीजन की कमी से जानें जा रही है। .@narendramodi साँसों से आत्मनिर्भर करो मध्य प्रदेश को !

उन्होंने यह भी लिखा कि ,मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन की कमी को लेकर आज भोपाल में मिंटो हॉल स्थित गांधी प्रतिमा स्थल पर गांधीवादी तरीके से प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री @narendramodi जी से मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन भेजने का अनुरोध कर रहा हूं।

मध्य प्रदेश सरकार दावा कर रही है कि राज्य में ऑक्सीजन की मात्रा पर्याप्त है। लेकिन भोपाल के 20 से ज्यादा अस्पतालों में ऑक्सीजन को लेकर अफरा-तफरी मची हुई है।

मध्यप्रदेश में अब बीजेपी के मंत्री ही खोल रहें है सरकार की पोल

0

मध्य प्रदेश में कोरोना का कहर कम नही हो रहा है।प्रदेश में कही दावा की कमी है तो कही ऑक्सीजन की। प्रदेश के लगभग सभी जिलों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। ऐसे में मध्य प्रदेश के एक मंत्री जी ने सरकारी स्वास्थ्य सेवाएं चेक की और उन्होंने बताया कि सरकार इसमे फैल है।

प्रदेश के मंत्री प्रदुमन सिंह तोमर ने अपनी ही सरकार की व्यवस्थाओं की पोल खोल दी। दरअसल देर रात ग्वालियर के माधव डिस्पेंसरी में मरीज बनकर मंत्री जी पहुंचे थे ।अस्पताल में डॉक्टर ओर जांच की व्यवस्था ना होने पर अपनी नाराजगी जाता रहे थे।उसी समय मौके से ही कलेक्टर को फोन कर उन्होंने अपनी नाराजगी जताई थी।

ऐसे में विपक्ष भी कई सवाल करने लगा है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सवाल पूछते हुए ट्वीट किया कि प्रदेश के सागर , उज्जैन व खरगोन में ऑक्सिजन की कमी से मौत की खबरें बेहद झकझोर देने वाली व प्रदेश को शर्मशार करने वाली ?
उज्जैन में तो भाजपा के एक कार्यकर्ता ने रात में ही सोशल मीडिया पर ऑक्सिजन की कमी बता दी थी , फिर भी ज़िम्मेदार नहीं जागे ?

“द- मोह” में मुख्यमंत्री ने की अपील, वोट डालने के लिए निकले बाहर

0

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए लोगों को घरों में रहने की अपील करते हुए तो आपने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सुना होगा। लेकिन दमोह पहुंचते ही उनके विचार कैसे बदल जाते हैं यह किसी ने सोचा नहीं होगा।

बीते दिनों कोरोना को लेकर चिंता जताने वाले शिवराज सिंह चौहान आज दमोह उपचुनाव में रंग बदलते नजर आए। हर बार उन्होंने मध्य प्रदेश की जनता से अपील की थी कि सभी घर पर रहे और सुरक्षित रहें लेकिन शुक्रवार को दमोह रैली में यह कहते हुए नजर आए कि ज्यादा से ज्यादा लोग बाहर निकलों और बीजेपी को जिताने में पूरी ताकत लगा दो।

पूरे प्रदेश की जनता के सामने सोशल डिस्टेंसिंग की दुहाई देने वाले मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को उपचुनाव की रैली में जो बयानबाजी की वो बेहद हैरान कर देने वाली है। उनकी इस रैली में न तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी और न ही कोरोना का खौफ था। रैली के संबोधन के दौरान शिवराज को न तो मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी का ख्याल रहा और न ही अस्पतालों में बेड और दवाइंयों की समस्या का।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि प्यार से यदि मनाया जाए तो पत्थर भी पिघल जाता है। सभी कार्यकर्ता बाहर निकलें, अधिक से अधिक लोगों को भाजपा के जीतने के लाभ बताएं! उन्हें भाजपा को आशीर्वाद देने के लिए अनुरोध करें। इतना ही नहीं सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि चुनाव में अब केवल आठ दिन बचे हैं। भाजपा को जिताने में पूरी ताकत लगा दो। घरों से बाहर निकल जाओ, यह चुनाव आपको ही लड़ना है।

शिवराज ने अपने ट्वीट में लिखा कि बीजेपी जहाँ पर सबसे अधिक वोट से जीतेगी, वहां सबसे पहले मैं आऊंगा। हर कार्यकर्ता पार्टी के लिए लड़ता है और पार्टी देश के लिए लड़ती है। यह चुनाव पार्टी के मान-सम्मान की लड़ाई है। भाजपा कार्यकर्ताओं की मां है। हर कार्यकर्ता को अपनी मां के दूध की लाज रखना है।

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने बीजेपी सरकार पर लगाया बड़ा आरोप, कहा ध्यान सिर्फ अभियान चलाने पर है कोरोना पर नहीं

0

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने सरकार पर आरोप लगाया कि वह कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में असफल रही है। प्रदेश में लगातार संक्रमण बढ़ता जा रहा है। इससे मरीजों की ना सिर्फ मृत्यु हो रही है और उन्हें अस्पतालों में इलाज भी नहीं मिल रहा है। फीवर क्लिनिकों में जांच तक नहीं हो रही है। जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य आग्रह कार्यक्रम को जनता का ध्यान मोड़ने का अभियान करार दिया।

पत्रकारवार्ता में पटवारी ने कहा कि पिछले एक साल से सरकार को रोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर अभियान चला रही है लेकिन उसका असर कहीं नजर नहीं आ रहा है। इसके बावजूद सरकार प्रभावी कदम नहीं उठा रही है। मंत्री बंगाल और दमोह विधानसभा के चुनाव में व्यस्त हैं।इसी के साथ साथ मुख्यमंत्री अभियान पर अभियान चलाए जा रहे हैं।

जिला आपदा प्रबंधन समूह में विपक्ष के विधायकों को नहीं रखा गया है और ना ही सर्वदलीय बैठक बुलाकर इस समस्या से निपटने के लिए कोई पहल की गई । अवैध शराब को लेकर जीतू पटवारी ने कहा कि आए दिन अवैध और जहरीली शराब से लोगों की मृत्यु हो रही है। सरकार माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने का दावा तो करती है पर हकीकत कुछ और ही नजर आती है। 

दमोह के कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ भाजपा करेगी इलेक्शन कमीशन में शिकायत

0

मध्यप्रदेश के दमोह विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी का आचारसंहिता का उल्लंघन करते हुए एक वीडियो वायरल हुआ है। अजय टंडन आज अपने विधानसभा क्षेत्र में वोट खरीदते हुए नज़र आ रहे है। अपनी विधानसभा में खुले आम पैसे बाटते अपने लिए वोट मांग रहे है।

मध्यप्रदेश भाजपा ने अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट करते हुए कहा है कि जब झूठे वादों पर बात नहीं चल पाती तो कांग्रेस अपने न्यूनतम स्तर पर उतर ही आती है। दमोह से कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन नोट के जरिये जनता को खरीदने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं, लेकिन दमोह की जनता समझदार है। कमलनाथ जी जनता भगवान है, बिकाऊ नहीं।

मध्यप्रदेश भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वी.डी शर्मा ने ट्वीट करते हुए कहा कि कांग्रेस को पहले दिन से पता है कि वो चुनाव बुरी तरह से हार रही है। इसीलिए पैसों का लालच देकर वोट खरीदने की कोशिश जारी है, लेकिन जनता कांग्रेस का असली चेहरा देख चुकी है। वो कांग्रेस के झूठे वादों और प्रलोभन में नहीं आएगी। सरकार इलेक्शन कमीशन में भी शिकायत दर्ज करने जा रही है।

साल 1984 में दमोह सीट कांग्रेस विधायक चंद्र नारायण टंडन के निधन के बाद रिक्त हो गया था। कांग्रेस ने उनके भतीजे अनिल टंडन को मैदान में उतारा था जो भाजपा उम्मीदवार जयंत मलैया से हार गए थे। मलैया की जीत ने उनके सियासी करियर को 2018 तक मजबूत बनाए रखा, तब तक वह भाजपा सरकार में मंत्री बने रहे। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या दमोह उपचुनाव लोधी या मलैया के करियर को पुनर्जीवित करेगा, या किसी नए नेता को उभारेगा।

मध्यप्रदेश के दमोह के कांग्रेस प्रत्याशी का नोट बाटते हुए वीडियो हुआ वायरल

0

मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) के दमोह(Damoh) विधानसभा(Vidhansabha) सीट पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी का आचारसंहिता का उल्लंघन करते हुए एक वीडियो वायरल हुआ है। अजय टंडन(Ajay Tandon) आज अपने विधानसभा क्षेत्र में वोट खरीदते हुए नज़र आ रहे है। अपनी विधानसभा में खुले आम पैसे बाटते अपने लिए वोट मांग रहे है।

दमोह के कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान नोट बांटने की घटना को भारतीय जनता पार्टी ने गंभीरता से लिया है । भाजपा के नेता इसकी शिकायत करने चुनाव आयोग जाएंगे। मध्यप्रदेश के भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पराशर ने कहा है कि जहा एक तरफ जहां कांग्रेस यह नारा देती है कि हम बिकाऊ नही टिकाऊ सरकार बनाने की कोशिश में है वही एक तरफ कांग्रेस का प्रत्याशी खुद तो बिका हुआ है उसके साथ ही अपनी जनता को भी खरीदने की कोशिश में जुटा हुआ है।

गौरतलब है कि कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन इसके पहले भी 2 बार अपनी किस्मत आजमा चुके हैं लेकिन दोनों ही बार उन्हें भाजपा के दिग्गज नेता जयंत मलैया के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। टंडन मौजूदा भाजपा प्रत्याशी राहुल लोधी के चुनाव में प्रबंधक की भूमिका में भी काम कर चुके हैं यही कारण है इसबार का उपचुनाव रोचक हो गया है।

साल 1984 में दमोह सीट कांग्रेस विधायक चंद्र नारायण टंडन के निधन के बाद रिक्त हो गया था। कांग्रेस ने उनके भतीजे अनिल टंडन को मैदान में उतारा था जो भाजपा उम्मीदवार जयंत मलैया से हार गए थे। मलैया की जीत ने उनके सियासी करियर को 2018 तक मजबूत बनाए रखा, तब तक वह भाजपा सरकार में मंत्री बने रहे। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या दमोह उपचुनाव लोधी या मलैया के करियर को पुनर्जीवित करेगा, या किसी नए नेता को उभारेगा।

भोपाल में भाजपा सरकार के एक वर्ष पूर्ण होने पर पूर्व महापौर आलोक शर्मा ने खेल खेल में कैबिनेट मंत्री का उड़ाया मज़ाक

0

मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) में शिवराज सरकार(Shivraj Government) के एक साल पूरा होने पर जश्न में डूबी हुई है। पूरे राज्य में इस मौके पर समारोह आयोजित किए गए हैं। इसी बीच भाजपा के एक कार्यक्रम में शिवराज सरकार में मंत्री गोविंद सिंह राजपूत(Govind Singh Rajput) को उड़ाए जाने का वीडियो वायरल हो रहा है। खेल-खेल में बीजेपी नेताओं ने सिंधिया के कट्टर समर्थक मंत्री गोविंद सिंह को ही उड़ा दिया।

बताया जा रहा है की शिवराज सरकार के एक साल पूरा होने के पूर्व संध्या पर भाजपा भोपाल के पूर्व महापौर आलोक शर्मा ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के लिए कौआ उड़, तोता उड़, मैना उड़ खेल का आयोजन किया था। इस दौरान खेल-खेल में आलोक शर्मा भावुक होकर एक बड़ी चूक कर दिए और कार्यकर्ताओं के साथ ‘गोविंद सिंह राजपूत उड़’ कह उन्हें भी उड़ा दिया।

कमलनाथ सरकार और उनके कैबिनेट के मंत्रियों का इस कार्यक्रम में मजाक उड़ाया जा रहा था। खेल में चिड़ियां उड़ाने के बाद आलोक शर्मा कहते हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की अलीबाबा और चालीस चोरों वाली सरकार थी। इसके बाद एक-एक कर कांग्रेस नेताओं का नाम लेते हैं और कार्यकर्ता उड़ बोलकर उन्हें उड़ाते हैं। इस दौरान आलोक शर्मा भूल गए कि कमलनाथ के कुछ मंत्री आज भाजपा सरकार में भी मंत्री हैं और गोविंद सिंह राजपूत उड़ भी बोला।

आज इस खेल के दूसरे दिन इस खेल का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो के वायरल होने के बाद मध्यप्रदेश में सियासी हलचल मच गई है। हालांकि, मामले पर अबतक गोविंद सिंह राजपूत या फिर आलोक शर्मा की ओर से कोई सफाई नहीं आई है।

मध्यप्रदेश के दमोह विधानसभा के लिए कांग्रेस ने घोषित किया अपना उम्मीदवार

0

मध्यप्रदेश(Madhya Pradesh) के दमोह विधानसभा(Damoh Vidhansabha) उपचुनाव(By-election) होने के साथ ही कांग्रेस पार्टी(Congress Party) ने जीत के लिए अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है। इसी बीच कांग्रेस ने सोमवार को दमोह उपचुनाव के लिए अपने उम्मीवार का ऐलान कर दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस ने अजय टंडन को अपना उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि अजय टंडन दमोह से कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हैं। वहीं भाजपा से राहुल लोधी अजय टंडन के सामने चुनाव लड़ेंगे। राहुल लोधी ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा था जिसके चलते दमोह में चुनाव हो रहे है।

गौरतलब है कि दमोह विधानसभा का उपचुनाव के लिए 17 अप्रैल को मतदान होगा और दो मई को मतों की गिनती होगी। 23 मार्च को चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। 30 मार्च तक उम्मीदवारों की नामांकन की अंतिम तिथि है। वहीं, 3 अप्रैल नाम वापसी की आखिरी तिथी रखी गई है।

मध्यप्रदेश भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष दिया बड़ा बयान, कहा जल्द हो सकती है निगम और मंडलो में नियुक्तियां

0

23 मार्च को मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सिंह चौहान की सरकार को एक साल पूरे होने जा रहे है। आज भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा (BJP State President VD Sharma) ने शिवराज सरकार के एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियां बताई है।

कोरोना के बढ़ते हुए क्रम के दौरान बनी भाजपा सरकार ने चुनौतियों को अवसर में बदलते हुए समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए कार्य किया और कमलनाथ सरकार द्वारा बंद करवाई गई जनहितकारी योजनाओं को दुबारा शुरू कर गरीबों को उनका हक वापस दिया।

उन्होंने कहा कि, कमलनाथ सरकार ने आते ही वैचारिक आक्रमण शुरू कर दिए थे। वंदे मातरम् का गान बंद किया गया, मीसाबंदियों की सम्मान निधि / पेंशन बंद की, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय की सुरक्षा को हटा दिया गया था। कमलनाथ सरकार के पास जनहितकारी कार्यों के लिए पैसे नहीं थे लेकिन उसके बाद भी IIFA के लिए कोई कमी नहीं थी।

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार के एक साल पूर्व होने पर पार्टी द्वारा अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान में 22 मार्च को भाजपा सेवा का संकल्प दिलाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि जनप्रतिनिधियों द्वारा 23 मार्च को स्वीकृत हुए कामों पर विकास का नारियल फोड़ेंगे। हमारी पार्टी इस दौरान जनता के बीच उसके 12 महीने के कार्यकाल और कांग्रेस के 15 महीनों के कार्यकाल में हुए कार्यों को लेकर जनता के बीच जाएगी।

प्रदेश अध्यक्ष ने इस दौरान संकेत देते हुए कहा कि निगम और मंडलों में जल्द नियुक्ति हो सकती है । संगठन ने इसके लिए सरकार के समक्ष बात रखी है। उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री निगम मंडलों को लेकर गंभीर है और जल्द ही निगम मंडलों में नियुक्ति को लेकर फैसला हो सकता है।

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

0

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस दौरान पुलिस ने कांग्रेस नेताओं पर लाठी चार्ज की और साथ ही साथ आंसू गैस के गोले भी दाग दिए। इस प्रदर्शन की अध्यक्षता पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ की अगुवाई में हुआ था।

कांग्रेस नेताओं की रैली जवाहर चौक से प्रारंभ हुई थी। वहां से कांग्रेस के नेता राजभवन ज्ञापन देने जा रहे थे। रोशनपुरा के पास पुलिस ने बैरीकेड लगाकर कांग्रेस जाने से रोक दिया गया था। मध्य प्रदेश के तमाम बड़े नेताओं जैसे दिग्विजय सिंह, कुणाल चैधरी , जीतू पटवारी , सज्जन सिंह वर्मा और कई अन्य नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया। उसके बाद वहां कांग्रेस के नेता बैरीकेड तोड़ने का प्रयास करने लगे। इस दौरान सरकार विरोधी नारे भी लगाए गए।

प्रदर्शन के दौरान आधा दर्जन से ज्यादा आंसू गैस के गोले दागे गए। वहीं वाॅटर कैनन से पानी की बौछारें छोड़कर भीड़ को हटाने की कोशिश की गई। प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के द्वारा पथराव भी हुआ था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के जख्मी होने के भी समाचार है। जिसके संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा है कि , किसानो के समर्थन में आज मध्यप्रदेश के भोपाल में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हज़ारों किसान भाइयों व कांग्रेसजनो पर शिवराज सरकार के ईशारे पर किये गये बर्बर लाठीचार्ज , आंसू गैस व वाटर केनन छोड़े जाने की व गिरफ़्तारी की कड़ी निंदा करता हूँ।

कमलनाथ ने यह भी कहा कि ,इस लाठीचार्ज में कई किसान भाइयों, कांग्रेसजनो , महिलाओं व मीडिया के साथियों को चोटे आयी है। उनके स्वस्थ होने की कामना करता हूँ। किसानो के समर्थन में हमारा संघर्ष जारी रहेगा, हम ऐसे दमन से डरने-दबने वाले नहीं है।