Saturday, December 3, 2022
Home Tags Jnu

Tag: jnu

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

0
JNU Student attacked by ABVP
JNU Student attacked by ABVP

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएसन (AISA) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एन साई बालाजी ने ट्वीट कर एबीवीपी पर इस हिसां का आरोप लगाते हुए इस घटना की जानकारी दी है।


बालाजी ने ट्वीट कर बताया कि जेएनयू के एक छात्र विवेक के कमरे में एबीवीपी के 16 लोग घुस गए और उसपर लोहे के डंड़े और रॉड से हमला किया। बालाजी ने आगे बताया कि विवेक को बचाने आई जेएनयूएसयू की महिला पार्षद के साथ भी बदतमीजी की गई।


एन साई बालाजी ने ट्वीट में लिखा, “एबीपीवी के 16 गुंडों ने कमरे में घुसकर जेएनयू के एक छात्र विवेक पर लोहे के कड़े और रॉड से हमला किया। उन्होंने विवेक की सहायता के लिए आईं जेएनयूएसयू की महिला पार्षद के साथ भी दुर्व्यवहार किया। ये वे गुंडे हैं जिन्होंने 5 जनवरी को छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया था। दिल्ली पुलिस उन्हें आज तक गिरफ्तार नहीं किया। देखो उन्होंने क्या किया है।”



बताया जा रहा है कि हमले में विवेक के चहरे पर गंभीर चोटें आयी हैं। इसके अलावा हमलावरों ने उनके सिर पर कड़े से प्रहार किया। घायल छात्र विवेक का कहना है कि जब वह सोने की तैयारी कर रहा था तभी कोई कमरे के बाहर कोई आया और दरवाजा खोलने के लिए कहा। दरवाजा खोलने के बाद सभी अंदर आ गए। उनमें से एक ने कहा कि तुम विवेक हो और तुमने मेरी शिकायत की है। इस पर विवेक ने पूछा कि कैसी शिकायत। मैंने तो कोई शिकायत नहीं की है। इसी बात पर उसने विवेक के गाल पर तमाचा जड़ते हुए कहा कि नेता बनते हो और उस पर हमला कर दिया। घटना के बाद विवेक को हेल्थ सेंटर ले जाया गया जहां उनका प्राथमिक इलाज हुआ।


जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा हा कि एबीवीपी के गुंडों ने छात्र को जान से मारने की कोशिश की है और यह साफ-साफ हत्या का प्रयास है। उन्होंने सवालिया अंदाज में पूछा कि क्या कोई कानून अभी बचा भी है? उन्होंने कहा कि 5 जनवरी को हुए एबीवीपी के हमले को 8 महीने हो जाएंगे। और अब उसके बाद यह घटना घटी है।


उन्होंने एक ट्वीट में दिल्ली पुलिस के कमिश्नर को टैग करते हुए पूछा है कि क्या इनके खिलाफ कार्रवाई होगी या फिर छात्रों को गुंडों के हाथ मरने के लिए छोड़ दिया जाएगा? उन्होंने कहा कि यह बीजेपी-आरएसएस का न्यू इंडिया है। जो न केवल परेशान करने वाला है बल्कि बेहद उत्पीड़नकारी भी है।

Kanhaiya Kumar and others Charged with Sedition despite SC’s Stance

0

Mocking the constitutional bodies has become a new routine for the government. Even after the Supreme Court’s stance on Sedition, Delhi police filed its charge-sheet against former Jawaharlal Nehru University Students’ Union (JNUSU) president Kanhaiya Kumar and others in a sedition case lodged in 2016.

The police said they have evidence to proceed against former JNU Students’ Union leaders Kanhaiya Kumar, Umar Khalid, Anirban Bhattacharya and seven students from Jammu and Kashmir – Aquib Hussain, Mujeeb Hussain, Muneeb Hussain, Umar Gul, Rayeea Rassol, Bashir Bhat and Basharat.

The police alleged that Kanhaiya incited the crowd and was part of the mob that allegedly raised ‘anti-India’ slogans.

A case was registered on February 11, 2016, under Sections of 124 A (sedition) and 120B (criminal conspiracy) of the IPC against unknown persons at Vasant Kunj (North) police station following complaints by BJP MP Maheish Girri and the ABVP.

In March 2016, a magistrate report into the event said that anti-India slogans were not raised and stated the videos were doctored to this effect. It is unclear if the police is using the same videos as evidence against the students.

Reacting to the 1,200-page charge sheet, Kanhaiya Kumar said it is “politically motivated”. “If the news is true that a charge sheet has been filed, I would like to thank police and Modi ji. The filing of charge sheet after three years, ahead of elections, clearly shows it to be politically motivated. I trust the judiciary of my country,” the former student leader told news agency ANI.

It may be recollected that on January 10, Assamese leaders and intellectuals Hiren Gohain, Akhil Gogoi and Manjit Mahanta were charged with sedition for opposing the Citizenship (Amendment) Bill. It doesn’t require a scientist to find the pattern and tag them politically motivated. Nowadays, criticizing the government means criticizing the country and it won’t take much time to charge them with treason or sedition or both.

JNU: March of Marches

0

JNU is quite different from other universities in the country. They are always in limelight due to reasons which are mostly non-academic. Just 2 years ago, JNU was protesting against the false sedition charges on its president, Kanhaiya Kumar. This time, other issues are fueling the furnace.

Image Source: PTI

JNU students and professors oppose the 75% attendance rule.

On December 22, 2017, the JNU Vice-Chancellor issued a circular making 75% attendance compulsory for all students. These included M.Phil and Ph.D students too.

On January 4, 2018, students led by JNU Student Union gathered in large numbers near the administration block. The purpose was to meet with the Vice Chancellor and submit a memorandum against the circular.

Members of the student body were fined of Rs 10,000 each for ‘protesting’ as they had violated the court order. In 2016, Delhi High court had issued an order prohibiting students from protesting or holding demonstrations within 100 meters of the administration block.

Bhaskar Jyoti, a research student at JNU, said “As far as undergraduate student attendance is considered, it’s fair enough but for students like us, who are pursuing M.Phil or Ph.D. which requires research, it’s unfair for us. We need time to research and complete our thesis but with this new rule of the university, it seems almost next to impossible to complete our work within the specific period of time.”

On February 15, 2018, when the students observed the passive nature of the authorities, they decided to protest. After few days, teachers also decided to boycott the university’s decision. The JNU Teachers Association had said it was “unproductive” and would lead to the teachers doing and “meaningless” form of bureaucratic work. Later in March, the teachers organized padyatra to the Parliament. They are against the removal of several department heads and a coordinator. They were accused for not complying with the institute’s new attendance rules.

Hike in Hostel fee

The JNU administration hiked the fees of hostel facilities by up to 400%. It drew objections from students. “Much like the decision of compulsory attendance”, this decision has also been arbitrary and without any discussion with the student representatives, they claimed.

“The administration had called us for an inter-hall administration meeting on January 17. They told us about a possible hike in hostel facilities like guest and mess admission charges; fine on late payments and a hike on certain food items,” said Simone Zoya Khan, JNU student union vice-president.

JNUSU president Geeta Kumari said the minutes of the meeting had not been released yet and it is “an autocratic decision”.

JNU granted autonomy

In a first, the University Grants Commission (UGC) awarded full autonomy to as many as 62 institutions of higher education.

JNU was awarded autonomy on the basis of high NAAC score (3.5 or above). They can now start new courses, collaborate with foreign institutions and will be reviewed based on self-reporting.

These include JNU, NALSAR, Jadavpur University, Osmania University, HCU, Jammu University, National Law University and TISS, among others.

Image Source: The Hindu

JNU against prof. Johri

The Jawaharlal Nehru University students were protesting on Wednesday, demanding the suspension of Professor Atul Johri for sexual harassment allegations levelled against him. The protests came after Delhi’s Patiala House court granted him bail within 80 minutes of his arrest.

“We want JNU to suspend him & declare that he cannot enter university premises,” said students.

Duty magistrate Ritu Singh had granted bail to Johri, a professor in the Department of Life Sciences, and directed him to furnish a bail bond of Rs 30,000 for each of the eight first information reports (FIRs) registered against him in Delhi’s Vasant Kunj North Police Station.

Over 150 scientists have signed a petition calling upon Indian scientists and “women scientists in particular” to support students of Jawaharlal Nehru University, protesting the grant of bail to Professor Atul Johri, who is accused of sexual harassment. The letter exhorts the authorities to punish sexual misconduct by “blacklisting” offenders from funding, academies and participation in scientific committees.

Image Source: Google

Harassment of reporter by SHO

Vidyadhar Singh, an SHO of Delhi Cantonment police station has been booked by the Delhi police and an FIR registered against him for alleged molestation charges on the basis of a written complaint by a woman journalist.

The complainant said she was standing in a service lane near the protest site along with a fellow journalist when the police started hitting the demonstrators with batons.

Singh pushed and groped her and other female journalists.

“Both of us at that point told Mr Singh that we are journalists and he backed off for two minutes. He then proceeded to come towards us again and hooked at my chest and placed his hand on my right breast and pushed me again,” she said in her complaint.

Concluding Views

Though it is fine to impose attendance rule on undergraduates but should not be arbitrary. Imposing attendance rule on masters and doctorate students is insane as it is completely impractical.

Hostel fee hike is inevitable but should not be that much. This would discourage under-privileged students. A hike of 10-20% is fine but not 400%.

Harassment case has already received a lot of fuel to keep nation burning for weeks. The only problem is that the public has a short-term memory and they forget very early. This should the turning point in the lives of victims and give adequate courage to come forward and speak about it.

 

PM मोदी के ‘छप्पन इंच’ के सीने पर हमला करते हुए कन्हैया ने भारत को बताया अमिर देशों का चमचा

0

NewBuzzIndia: जेएनयू छात्र नेता कन्हैया कुमार ने गुरुवार को कोलकाता में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला करते हुए कहा कि हमारे पास 56 इंच का सीना तो नहीं लेकिन 56 इंच से बड़ी सोच है। उन्होंने कहा कि भारत पहले गरीब देशों का प्रतिनिधि होता था और अब अमीर देशों का चमचा है।


कन्हैया ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि इस पार्टी का राम से लेना देना नहीं है, यह तो नाथूराम गोडसे को मानने वाले हैं। इनको राम का मंदिर नहीं राम के नाम पर वोट चाहिए।


कार्यक्रम के दौरान कन्हैया ने कहा कि मोदी जी नाटक अच्छा करते हैं बोलते हैं दलित को मत मारिए मुझे मारिए और त्रिलोकपुरी के दंगों में दलितों को मुसलामानों के खिलाफ खड़ा कर दिया। देशद्रोह के केस से जूझ रहे कन्हैया ने कहा कि हम देश के खिलाफ नहीं हैं हमारी लड़ाई राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के खिलाफ हैं। जब हम संघ के खिलाफ बोलते हैं तो हम पर देशद्रोह का मामला दर्ज हो जाता है।


कन्हैया कुमार के कार्यक्रम के बाद ABVP के कार्यकर्ताओं ने हवन कर कराया जगहों का शुद्धिकरण, AISF ने कहा ‘मनुवादी सोच।’

0

NewBuzzIndia:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के बेगुसराय में आगमन पर उनके और उनके कार्यक्रमों के विरोध में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने जम के विरोध किया। उन्होंने उन सभी जगहों पर गंगाजल का छिड़काव किया जहाँ जहाँ कन्हैया कुमार गए थें। एवीबीपी के कार्यकर्ताओं ने उन तमाम जगहों के शुद्धिकरण के लिए हवन का आयोजन भी कराया।

ये भी पढ़ें… 100 करोड़ लेने के मामले में Zee News के संपादक सुधीर चौधरी को सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार

वही कन्हैया कुमार ने इस कार्यक्रम की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर डाल कर अपना विरोध दर्ज किया। कन्हैया ने लिखा कि, ‘यहाँ हम “शिक्षा बचाओ- देश बचाओ” मुहीम में लगे हैं और ABVP हवनकुंड में देश और शिक्षा की आहुति दे रहा है।’
image

ये भी पढ़ें…शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भाजपा और संघ का बताया पाखंडी, पढ़ें पूरी खबर

एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने सबसे पहले कन्हैया के सभास्थल पर हवन किया। उसके बाद कार्यकर्ता कॉलेजिएट स्कूल पहुंचे, जहां उन्होंने पूरे परिसर में गंगाजल छिड़का। कॉलेजिएट स्कूल के बाद कार्यकर्ता शहर में स्थापित उन महापुरुषों की प्रतिमाओं को भी गंगाजल से धोया, जिन महापुरुषों की प्रतिमा पर कन्हैया ने माल्यार्पण किया था। इसके बाद एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उन प्रतिमाओं पर फिर से माल्यार्पण किया।

ये भी पढ़ें… बिहार टॉपर घोटाले के बहाने कन्हैया कुमार ने साधा भाजपा पर निशाना, कहा ‘प्रधानमंत्री और शिक्षा मंत्री की डिग्री फ़र्ज़ी तो नहीं!’

आरएसएस की छात्र शाखा एबीवीपी के प्रदेश सहमंत्री अजीत चौधरी ने कहा कि कन्हैया देशद्रोही है। उसके बेगूसराय आगमन से बेगूसराय की धरती अपवित्र हुई है। कन्हैया ने महापुरुषों को छूकर उन महापुरुषों को न सिर्फ अशुद्ध किया है, बल्कि उनके मान-सम्मान को भी कलंकित किया है।

ये भी पढ़ें…भाजपा विधायक की खुली धमकी, कहा ‘गोमांस खाने वालो का अस्तित्व मिटा देंगे, जला देंगे बूचड़खानों को।’

वही दूसरी तरफ ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन के जिला परिषद सदस्य रामकृष्ण ने इस पुरे घटनाक्रम पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, ‘यह एवीबीपी के युवकों की विकृत मानसिकता का उदहारण है। उनके इस विरोध के तरीके से मनुवादी,जातिवादी की सोच सामने आ रही है, जिसमे छुआ- छूत जैसी चीज़ों को सही ठहराया जाता है।’
गुरुवार को कन्हैया कुमार ने बेगुसराय में एक सभा को संबोधित किया था। वहां से वो अपने पैतृक निवास बिहटा चले गए।

ये भी पढ़ें… दो साल में ये हालात, 5 साल में देश को नर्क बना देगी मोदी सरकार।’

बिहार टॉपर घोटाला पर बोले कन्हैया कुमार, ‘प्रधानमंत्री और शिक्षा मंत्री की डिग्री तो फ़र्ज़ी तो नहीं।’

1

NewBuzzIndia:

जेएनयू छात्रसंघ अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार ने बुधवार को कहा कि जब देश के पीएम और केंद्रीय शिक्षा मंत्री की डिग्री शक के घेरे में है हैं, ऐसे में बिहार के स्‍टूडेंट्स की डिग्री पर चर्चा करना कहां तक सही है। उन्‍होंने कहा कि बिहार का मामला देश में शिक्षा के स्‍तर के बारे में बताता है। कन्‍हैया से बिहार बोर्ड एग्‍जाम में टॉपरों के नकल करने और बाद में हुई गिरफ्तारियों पर यह बात कही।

कन्‍हैया जेल में बंद अपने संगठन एआईएसएफ के कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे थे। बाद में वे एक विरोध मार्च में शामिल हुए। इस मार्च को गांधी भवन पर रोक लिया गया। वहां जुटी भीड़ को संबोधित करते हुए कन्‍हैया ने कहा, ‘बिहार में जो हुआ (टॉपर्स घोटाला) वो शर्मनाक है। हालांकि, इस देश में इससे ज्‍यादा शर्मनाक यह है कि लोग पीएम और केंद्रीय शिक्षा मंत्री की डिग्री पर सवाल उठा रहे हैं। मुझे नहीं पता कि पीएम और शिक्षा मंत्री की डिग्री असली हैं कि नहीं। मुझे नहीं पता कि आप (पीएम और शिक्षा मंत्री) ने शिक्षा ग्रहण की है कि नहीं। यह देश की शिक्षा मंत्री की डिग्री के बारे में नहीं है बल्‍क‍ि देश की शिक्षा के बारे में है।’ दरअसल, कन्‍हैया बिहार टॉपर्स घोटाले के बारे में बात कर रहे थे।

भारत माता बनी व्यक्ति के शिक्षित और अशिक्षित होने का मापदंड

0

NewBuzzIndia:

image
Smriti Zubin Irani, HRD Minister of India and BJP leader.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने यहां शुक्रवार को कहा कि कि भारत को मां मानने वाला ही शिक्षित कहा जाएगा। टुकड़े करने की बात करने वाला कतई नहीं। भारतीय शिक्षा पद्धति मनुष्य का निर्माण करती है और ऐसा नागरिक तैयार करती है, जिसमें राष्ट्र के प्रति समर्पण भाव होता है। स्मृति ने ये बातें लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित एक संगोष्ठी में कही।

उन्होंने कहा, “कुछ अंग्रेजी पढ़े बुद्धिजीवी भारतीय शिक्षा पद्धति को संस्कृत का गुणगान कहते हैं तो कुछ पत्रकार इसे भगवाकरण, पर इससे शिक्षा में संस्कार भरने के लिए उठे कदम रुकने वाले नहीं हैं।” स्मृति ने यूथ इन एक्शन द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी में राष्ट्रीय और भारतीय शिक्षा पद्धति पर व्याख्यान दिया। संगोष्ठी के दौरान स्मृति ईरानी ने कहा कि केंद्र की योजनाएं यूपी में जमीन पर नहीं उतर रहीं। साथ ही उन्होंने यूपी में महिला सुरक्षा पर भी चिंता जताई।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में शुक्रवार को ईरानी ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) प्रकरण की ओर इशारा करते हुए लोगों से पूछा, “आप ही बताइए, भारत के टुकड़े करने वाला शिक्षित है या जननी जन्मभूमिश्च की अवधारणा मानने वाला। क्या ऐसा करने वाले भारतीय शिक्षा पद्धति से परिचित होंगे या जो भारत को माता के रूप में पूजते हैं।” स्मृति ने भारतीय शिक्षा पद्धति को समाज को एकजुट करने वाला बताते हुए कहा, “ऐसे उद्देश्य को लेकर दी जाने वाली शिक्षा ही समाज को एकसूत्र में बांधती है। देश को विकास पथ पर अग्रसर करती है।”

अपने विरोधियों व पत्रकारों पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा, “समाज के कुछ बौद्धिक लोग मुझे संस्कृत का गुणगान करने वाला कहते हैं। इसमें पत्रकारों का एक गुट शिक्षा के भगवाकरण करने का आरोप लगाता है। शायद इन्हें भारतीय शिक्षा पद्धति का ज्ञान ही नहीं है। अब आप ही बताइए, शिक्षित कौन? डिग्रीधारी, भौतिक जीवन जीने वाला या फिर समाज की एकता के लिए मानवीय रूप अख्तियार करने वाला।”

जानिए वो 10 मुद्दें जिन पर मोदी कभी कुछ बोल ना पाए, सरकार भी रही बैकफुट पर

0

NewBuzzIndia | Exclusive:

केंद्र में भाजपा सरकार के आने के पूर्व भाजपा ने अनेकों वादे किए। इन वादों में से मोदी सरकार ने कुछ पुरे किए तो वहीं बहुत से वादों पर चुप्पी साधी रखी है। इसी तरह प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने भी कई मसलों पर कुछ नही कहा और बिलकुल चुप रहे।

हम आपको उन महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में बता रहे है जिन पर आवश्यक होने पर भी मोदी चुप रहे है-

1. राम मंदिर :-
भाजपा ने जब पहली बार राजनीती में जगह बनाई थी तब से राम मंदिर के मुद्दे को सबसे ऊपर उठाया था, पर अभी भी मोदी इस मुद्दे पर चुप है। और यह मुद्दा वैसा ही है जैसा पहले था।

2. धारा 370 :-
लोकसभा चुनाव के वक़्त मोदी के वादों में धारा 370 सबसे ऊपर था, पर अब मोदी इससे यू-टर्न लेते हुए दिखाई दे रहे है।

3. JNU मुद्दा :-
यह एक ऐसा मुद्दा था जिसने सरकार की जड़े हिला कर रख दी, पर फिर भी मोदी इससे दूर ही रहे।

4. व्यापम :-
यह भाजपा सरकार के सबसे बड़े घोटालों में से एक है, जिसमे कई लोगों की जान तक चली गयी, यह मुद्दा अभी भी नही सुलझा है। इस पर भी मोदी ने कोई रिएक्शन नही दिया।

5. काला धन :-
भाजपा को जीत दिलाने का यह सबसे बड़ा हथियार था, जिसमे विदेशो में जमा काला धन वापस लाने की बात कही गयी थी, पर अब तक ऐसा कुछ भी नही हुआ।

6. अख़लाक़ :-
अख़लाक़ एक ऐसा मुद्दा बन गया जिसमे देश में सहिष्णुता और असहिष्णुता के बीच जंग छिड़ गयी, पर इससे भी मोदी दूर भागते दिखे।

7. महंगाई:
वादों पर ध्यान दिया जाए तो मंहगाई को कम करने की बात कही गयी थी, पर फिलहाल स्थिति इसके बिलकुल विपरीत है।

8. चीन:
लोकसभा चुनाव के वक़्त, प्रचार के महत्वपूर्ण मुद्दों में चीन का मुद्दा अहम था। लगातार चीन का भारत के ज़मीन पर कब्ज़ा, अरुणांचल प्रदेश के कई हिस्सों को अपना कहना जैसे कई मुद्दे थे जिनपर उम्मीद की जा रही थी कि मोदी सरकार का रुख सख्त होगा। पर जैसे जैसे दिन ढले, इन मुद्दों को ठंडे बस्ते में डाल के भूल गयी सरकार।

9. डिग्री विवाद:
केजरीवाल के द्वारा उछाला गया  मोदी की डिग्री का विवाद, इस पर भी मोदी कभी खुलकर सामने नही आये।

10. पत्नी:
यह मुद्दा मोदी के निजी जीवन का है। मोदी ने कभी सामने आकर अपनी पत्नी का नाम उजागर नही किया।

**Like us on facebook**
[wpdevart_like_box profile_id=”858179374289334″ connections=”show” width=”300″ height=”150″ header=”small” cover_photo=”show” locale=”en_US”]

JNU विवाद: कन्हैया-केजरीवाल फंसे, CBI जाँच से खुलासा; नारेबाजी की वीडियो थे असली !

0

#newbuzzindia/New Delhi | JNU विवाद एक ऐसा मुद्दा बन गया है जो रोज  नए मोड़ ले रहा है। अभी कुछ दिनों से यह मुद्दा थोडा शांत हुआ ही था कि फिर एक नया खुलासा हो गया है, जिससे JNU विवाद फिर से उभर कर सामने आया है।

CBI की जाँच में, देशविरोधी नारेबाजी करने वाली वीडियो असली पायी गयी और और CBI की ओर से कहा गया है कि इस वीडियो से किसी तरह की कोई छेड़छाड़ नही की गयी है।

दरअसल, JNU विवाद के समय मुख्या रूप से 4 वीडियो सामने आये थे जिन्हें केजरीवाल सरकार ने जाँच के लिए हैदराबाद भेज था और वहां की रिपोर्ट के अनुसार दो वीडियो से छेड़छाड़ की गयी थी।

पर सीबीआई की नई रिपोर्ट से अब JNU मामले में खलबली मच गयी है। अब कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान की मुश्किलें बड़ सकती है। आपको बता दे कि उमर खालिद और अनिर्बान को पहले जेल हो चुकी थी, पर हैदराबाद रिपोर्ट के बाद इन्हें जमानत मिल गयी थी।

सीबीआई की जांच रिपोर्ट आने के बाद केजरीवाल सरकार पर भी सवाल खड़े किये जा रहे है, क्योकि इससे पूर्व केजरीवाल सरकार के द्वारा करायी गयी जाँच रिपोर्ट के आधार पर ही वीडियो को फर्जी घोषित किया गया था।

वहीँ आपको बता दे कि पुलिस ने भी वीडियो की जाँच करवाई थी जिसके लिए वीडियो को गांधीनगर भेज गया था, उसकी रिपोर्ट में भी सभी वीडियो को सही बताया गया था।

सीबीआई के इस खुलासे के बाद जहाँ कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्बान की मुश्किलें बढ़ेगी वहीँ केजरीवाल की राजनैतिक छवि भी ख़राब होने के कयास लगाए जा रहे है।

कन्हैया कुमार पर हमला करने के बाद अमित शाह के साथ सेल्फी ! क्या भाजपा ने करवाया था हमला..?

0

Newbuzzindia: जेएनयू के कन्हैया कुमार पर हमले का आरोपी मानस डेका एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। दरअसल कन्हैया पर हमले का यह आरोपी अमित शाह के साथ सेल्फी लेते नजर आया है। यह फोटो वायरल होते ही विवाद शुरू हो गया है। मानस ने शाह के साथ ली गई फोटो अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट की है। बता दें कि मानस पर फ्लाइट में कन्हैया पर हमला करने का आरोप है। 

गौरतलब है की इसके पहले पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया कुमार पर हमला करने वाले वकीलों की भी भाजपा के प्रमुख नेताओं से कनेक्शन सामने आए थे । इसके बाद सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर लोगों का गुस्सा बाहर आने लगा है ।

अमित शाह रविवार को पुणे में थे। वे पुणे भाजपा के महासम्मेलन में शामिल होने यहां आए थे।  इस दौरान उन्होंने प्रमोद महाजन कौशल्य एवं उद्योजकता विकास अभियान को शुरू किया। इसी कार्यक्रम में असमीज यूथ डेलीगेशन के साथ मानस ने अमित शाह का मंच पर स्वागत किया और कार्यक्रम खत्म होने के बाद उनसे मुलाकात भी की। मानस ने यह तस्वीर उसी मुलाकात के दौरान खींची। बाद में उसने ये फोटो अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट कर दी। 
 

वहीं फोटो सामने आने के बाद भाजपा का मानस के साथ कनेक्शन बताया जा रहा है तो वहीं ट्विटर पर मानस की आलोचना हो रही है। मानस पर कमेंट करते हुए कई यूजर्स ने लिखा कि वह कन्हैया कुमार पर हुए हमले का स्पॉन्सर्ड था। 24 अप्रैल को जेट एयरवेज की मुंबई-पुणे फ्लाइट में कन्हैया कुमार पर कथित तौर पर हमला किया गया था। हालांकि, पुलिस ने उनके आरोपों को नकार दिया था। उस दौरान कन्हैया ने आरोप लगाया था कि भाजपा के सपोर्टर मानस डेका ने फ्लाइट में उनका गला दबाने की कोशिश की। कन्हैया के इस आरोप पर स्टेट भाजपा की ओर से सफाई आई थी कि, मानस का भाजपा से कोई सरोकार नहीं है।

NewBuzzIndia से फेसबुक पे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें..
**Like us on facebook**
[wpdevart_like_box profile_id=”858179374289334″ connections=”show” width=”300″ height=”150″ header=”small” cover_photo=”show” locale=”en_US”]