Sunday, September 24, 2023
Home Tags Chief Minister Shivraj Singh Chauhan

Tag: Chief Minister Shivraj Singh Chauhan

कर्नाटक के बाद अब एमपी फतह के लिए जुटी कांग्रेस, पांच गारंटी के साथ मैदान में उतरेंगे कमलनाथ

0

भोपाल। कर्नाटक में कांग्रेस की जीत के बाद मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस के हौंसले बुलंद है। कर्नाटक में कांग्रेस ने जिस फॉर्मूले की मदद से बीजेपी को मात दी है अब उसी फॉर्मूले को मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी चुनाव लड़ने जा रही है। विधानसभा चुनाव में जनता से पांच गारंटी के वादे के साथ पार्टी पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ की हनुमान भक्त वाली छवि को जनता के बीच भुनाने की तैयारी में है। कर्नाटक में कांग्रेस की जीत की इबारत लिखने वाले सुनील कानुगोलू अब कर्नाटक चुनाव के बाद मध्यप्रदेश में पूरी तरह सक्रिय होंगे और पूरी चुनावी रणनीति तैयार करेंगे।

बताया जा रहा है कि कर्नाटक में कांग्रेस की प्रचंड जीत के लिए पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादे की बड़ी भूमिका मानी जा रही है। यहीं कारण माना जा रहा है कि कर्नाटक में जीत के बाद राहुल गांधी ने कहा कि चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने जनता से जो 5 प्रमुख वादे किए गए हैं उस सभी वादों पर सरकार बनते ही काम शुरू हो जाएगा।

दरअसल कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पांच गारंटी वादे के साथ चुनावी मैदान में गई थी। कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में वादा किया था कि राज्य की परिवार की हर महिला मुखिया को हर महीने 2,000 रुपये भत्ता दिया जाएगा, बेरोजगार स्नातकों को दो साल के लिए 3,000 रुपये प्रति माह और बेरोजगार डिप्लोमा धारकों को 1,500 रुपये हर महीने दिए जाएंगे।

वहीं कांग्रेस ने कर्नाटक के लोगों को गृह ज्योति योजना के माध्यम से 200 यूनिट मुफ्त बिजली देने का ऐलान किया था। अन्नभाग्य योजना के तहत 10 किलो चावल मुफ्त देने के साथ अगले 5 सालों में किसान कल्याण के लिए 1.5 लाख रुपये, फसल नुकसान की भरपाई के लिए 5000 करोड़ रुपये और नारियल किसानों और अन्य के लिए MSP सुनिश्चित करने का भी ऐलान किया था।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कांग्रेस की जीत जनता की जीत है। हमें आगे बहुत कुछ करना है। हमें वादे निभाने हैं, हमारी 5 गारंटी हम पूरी करेंगे।कर्नाटक में जिस तरह से कांग्रेस ने स्थानीय मुद्दों के उठाकर बीजेपी को करारी मात दी है। अब उसी तर्ज पर अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस स्थानीय मुद्दों को जनता के बीच ले जाकर चुनाव लड़ने की तैयारी में है।

जानकारी के अनुसार कर्नाटक में जीत के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस में चुनाव की रणनीति तैयार करने को लेकर बैठकों का सिलसिला तेज हो गया है। चुनाव में पार्टी के वचन पत्र को अंतिम रूप देने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के निवास पर पार्टी के बड़े नेताओं की बैठक हुई। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार बनाने पर नारी सम्मान योजना के तहत महिलाओं को 1500 रु देने का वादा करने के साथ 500 में गैस सिंलेंडर का वादा कर रही है।

मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस युवा वोटरों को साधने के लिए रोजगार देने का वादा करने के साथ सत्ता में आने पर बेरोजगारी भत्ता देने का वादा करने जा रही है। पार्टी अपने वचन पत्र में सत्ता आने पर बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के साथ-साथ दो से ढाई हजार तक बेरोजगारी भत्ता देने का वादा कर सकती है।

एमपी में कांग्रेस किसान वोट बैंक को साधने के लिए कर्जमाफी का वादा करने जा रही है। बताया जा रहा है कि पार्टी किसानों का बिजली बिल आधा करने, किसानों को फसल का उचित मूल्य देना , फसल में नुकसान होने पर उचित मुआवजा देने का वादा भी किया है।

बता दें कि वह कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी के कट्टर हिंदुत्व के कार्ड और बजरंग दल विवाद को बजरंग बली से जोड़ने के बाद कांग्रेस ने सॉफ्ट हिंदुत्व का कार्ड खेलते हुए सत्ता में आने पर पूरे प्रदेश बजरंग बली के मंदिर बनवाने की घोषणा की थी। ठीक वैसे ही मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी के हिंदुत्व कार्ड को चुनौती देने के लिए कांग्रेस सॉफ्ट हिंदुत्व का कार्ड खेलने की तैयारी में है। चुनाव के लिए अपने वचन पत्र में पार्टी प्रदेश में राम वन गमन पथ का निर्माण करने, समस्त पंचायतों में गौशाला खोलने, नर्मदा परिक्रमा पथ का विकास करने, धार्मिक नगरों को पवित्र घोषित करने का वादा लोगों से करने जा रही हैं।

बीजेपी नेताओं को होगी जेल ! कांग्रेस अपने वचन पत्र में जारी करेगी करप्शन की सूची

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियां अपने चरम पर है। दोनों ही मुख्य पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हुई है। इसी बीच एमपी कांग्रेस अपना वचन पत्र तैयार कर रही है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के वचन पत्र में बीजेपी नेताओं को जेल भेजने का वचन देगी।

बता दें कि कांग्रेस अपने आने वाले वचन पत्र में करप्शन का मुद्दा लेकर आएगी। इसके अलावा वचन-पत्र में सरकारी विभागों में करप्शन की सूची जारी की जाएगी और जिन नेताओं पर आरोप है उन्हें जेल भेजने का वचन देगी। इसके अलावा कांग्रेस पुराने मामले फिर से खोलने का भी वचन देगी।

इस बारे में जानकारी देते हुए पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बताया कि जिस दिन कांग्रेस सरकार आएगा उसी दिन जिन्न बाहर निकलेगा। यह जिन्न घोटालों का होगा जो बाहर आएगा। इसमें व्यापमं, सिंहस्थ, पेंशन और बीजेपी सरकार ने जितने अन्य घोटाले किए है सब बाहर आएंगे।

सज्जन वर्मा के बयान और वचन पत्र पर पलटवार करते हुए बीजेपी प्रवक्ता राजपाल सिंह सिसोदिया ने कहा कि कांग्रेस हमेशा द्वेष से काम करती है। 15 महीने में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किए गए, मकान तोड़े गए। कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है जो वोट नहीं मिलने पर जनता से भी बदला लेती है। जनता को सब दिखता है और हमें जनता पर पूरा विश्वास है कि वे कांग्रेस को नहीं चुनेगी।

NIA ने भोपाल और छिंदवाड़ा में मारी रेड, आतंकी संगठन के 11 सदस्यों को किया गिरफ्तार

0

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल और छिंदवाड़ा से एनआईए (NIA) और तेलंगाना एटीएस (ATS) की टीम ने मंगलवार को 11 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। टीम को सबूत मिले हैं कि पकड़े गए संदिग्ध आतंकी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर से जुड़े हुए हैं।

जानकारी के अनुसार एनआईए और तेलंगाना एटीएस ने भोपाल के ऐशबाग, जवाहर कालोनी और बाग फरहत अफजा में धरपकड़ की है। इस दौरान पुलिस ने भोपाल से 4 युवकों को गिरफ्तार किया, जबकि 7 को छिंदवाड़ा से पकड़ा गया है।

अब तक एनआईए और तेलंगाना एटीएस ने कट्टरपंथी इस्लामी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर के 16 सदस्यों को गिरफ्तार कर चुकी है। इनमें भोपाल और छिंदवाड़ा के 11, और 5 संदिग्धों को तेलंगाना से गिरफ्तार किया है। इन संदिग्धों के पास से देश-विरोधी संदिग्ध दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

इस मामले को लेकर ऐशबाग पुलिस थाना प्रभारी चतुर्भुज राठौर ने बयान देते हुए कहा कि इस मामले में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। कुछ देर पहले तीन लोगों के परिवार थाने आए और उन्होंने बताया कि कुछ लोग खुद को पुलिसवाला बताकर उनके बेटों को पकड़कर साथ ले गए।

बता दें कि कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन हिज्ब-उत-तहरीर का मुख्यालय लंदन में बताया जाता है। यह संगठन अपनी कट्टरपंथी विचाराधारा को तेजी से फैला रहा है। इस संगठन की पाकिस्तान और बांग्लादेश में बड़ी मौजूदगी है।

कमलनाथ ने लॉन्च की ‘नारी सम्मान योजना’, 1500 रुपये प्रतिमाह देने का किया वादा, CM शिवराज पर कसा तंज

0

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 9 मई मंगलवार को छिंदवाड़ा में ‘नारी सम्मान योजना’ लॉन्च की। इस योजना के बारे में बताते हुए कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश की हर महिला के बारे में सोचती है और इसलिए सभी को 1500 रुपये हर माह दिए जाएंगे और 500 रुपये में गैस सिलेंडर दिया जाएगा। कमलनाथ ने कार्यक्रम के दौरान जनता से सवाल किया कि मैं आप सभी से कुछ पूछना चाहता हूं, माता बहनों को हर महीने 1500 रूपये चाहिए, कर्मचारियों को पुरानी पेंशन चाहिए, सौ रुपये में सौ यूनिट बिजली चाहिए, किसानों को कर्ज माफी चाहिए, युवाओं को रोजगार और उद्योग चाहिए। अगर आप सभी को ये सब चाहिए तो कांग्रेस का साथ दीजिए।

कार्यक्रम के दौरान कमलनाथ बीजेपी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि शिवराज जी अब समय आ गया है। पांच महीने बचे हैं और जनता सामने है। मध्यप्रदेश की जनता आपको प्यार से विदा करेगी और घर बिठाएगी। एक बार फिर मध्यप्रदेश विधानसभा में कांग्रेस का झंडा लहराएगा। कमलनाथ ने बात आगे कहा कि 2018 में हमने जनता के वोट से सरकार बनाई थी और 2020 में बीजेपी ने सौदेबाजी से सरकार बनाई। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर कोयले की उन कंपनियों की लीज़ कैंसिल की जाएगी, जहां अब खदानें बंद हो गई हैं और उन पर कब्जा किया हुआ है। उनकी लीज़ निरस्त करके वो जमीन गरीबों को आवास के लिए दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि शिवराज जी के कान बेरोजगार नौजवानों की पुकार नहीं सुन सकते क्योंकि उनके कान बंद हैं, उनकी आंखें किसानों की बदहाली देखने के लिए बंद हैं। उनके आंख-कान बंद हैं लेकिन मुंह चलता है। आने वाले 5 महीने में चुनाव हैं और इसीलिए अब शिवराज जी जगह-जगह जा रहे हैं। वो घोषणाओं की मशीन बन गए हैं, झूठ की मशीन बन गए हैं। कमलनाथ ने सीएम शिवराज को घेरते हुए कहा कि शिवराज जी मुख्यमंत्री तो क्या हैं, ये तो शिलान्यास मंत्री हैं, ये भूमिपूजन मंत्री हैं। उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री बहुत व्यस्त हैं। उनका एक हाथ भ्रष्टाचार में और दूसरा अत्याचार में व्यस्त है।

उन्होंने कार्यक्रम के दौरान सीएम शिवराज से सवाल किया कि शिवराज जी जनता को जवाब दें कि बीजेपी ने 18 साल के शासनकाल में क्या दिया। सिर्फ महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, घर-घर में शराब और आदिवासियों को अत्याचार दिया है। वहीं कांग्रेस की संस्कृति जोड़ने की रही है लेकिन आज हमारी संस्कृति पर हमला हो रहा है। हमारी माताओं-बहनों ने हमेशा सामाजिक मूल्यों की रक्षा की है। भारत अपने सामाजिक मूल्य पर टिका है और आज आपको फिर इसका रक्षक बनना पड़ेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने महिलाओं से आह्वान किया कि आप सिर्फ अपना घर मत देखिए, आने वाली पीढ़ियों के बारे में सोचिए कि आपको कैसा प्रदेश और देश उन्हें सौंपना है, क्योंकि आज यही हमारी सबसे बड़ी चुनौती है। कांग्रेस ने महिलाओं का हमेशा सम्मान किया है। इसलिए कांग्रेस ने महिलाओं के लिए आरक्षण का कानून बनाया, घरेलू हिंसा के खिलाफ कानून बनाना, पहली महिला प्रधानमंत्री पहली राष्ट्रपति कांग्रेस के शासनकाल में ही बनी हैं।

कमलनाथ ने कहा कि मुझे मध्यप्रदेश और छिंदवाड़ा की जनता पर पूरा विश्वास है। वो धैर्य रखकर सही निर्णय लेगी। वैसे भी अब शिवराज सरकार के पास पुलिस, पैसा और प्रशासन के अलावा बचा ही क्या है। 5 महीने में बीजेपी पुलिस , पैसा और प्रशासन का जितना उपयोग कर सकती है कर ले, क्योंकि अब जनता बीजेपी और सीएम शिवराज को पहचान चुकी है और आगामी विधानसभा चुनाव में वो उन्हें आईना भी दिखा देगी।

सागर में धर्मांतरण का मामला आया सामने ! जांच में हुए बड़े खुलासे

0

मध्य प्रदेश के सागर में ईसाई मिशनरी सेंट फ्रांसिस सेवाधाम आश्रम से बच्चों का धर्म परिवर्तन करने का मामला सामने आया है। राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने इस मामले की जानकारी देते हुए कहा कि आश्रम में दाखिले के समय एक लड़की का नाम हिन्दू था और अब जब वह बालिग हो चुकी है तो उसका नाम क्रिश्चियन हो गया है।

बताया जा रहा है कि सेंट फ्रांसिस सेवा धाम आश्रम के खिलाफ राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग को शिकायत मिली थी। जिसके बाद बाल संरक्षण आयोग की चार सदस्यों की टीम मंगलवार को सेवाधाम आश्रम पहुंची।

जांच के बाद बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष ने बताया कि सेवाधाम की जांच में बहुत सी खामियां मिली। जिसमें आश्रम में तीन अलग-अलग प्रकार के संस्थान चालू मिले है। सबसे ज़्यादा अनिमितता बालक और बालिका छात्रवास में मिली है। एक ही छात्रावास में लड़के और लड़कियों को रखा गया था। साथ ही एक पंजीयन पर दो संस्थान चल रहे थे।

आगे कहा कि बाल गृह में बड़ी उम्र के बच्चे भी छोटे बच्चे के साथ रह रहे थे। बच्चे कई सालों से यहां रह रहे थे। इनके परिवार के संबंध में इनके पास कोई भी पुख्ता जानकारी नहीं है। एक बच्चे से उसके परिवार के बारे में पूछने पर उसके पास पूरी जानकारी थी और उसको अपने घर का पता भी मालूम था।

वहीं आश्रम के रजिस्टर में चेक करने पर पाया गया इस बच्चे से संबंधित कोई भी जानकारी इनके पास नहीं थी। बच्चों को कई वर्षों से यहां रखा गया है, जबकि बच्चों के मां-बाप को ढूंढ कर उनको उनके मां-बाप को सौंप देना चाहिए।

प्रियंक ने बताया कि सेंट फ्रांसिस सेवाधाम में विदेशों से डॉलर के रूप में उगाही की जानकारी मिली है। जो बच्चों की फोटो भेजकर स्पॉन्सरशिप के नाम पर लिए गए हैं। ऐसे दस्तावेज भी मिले जो न तो हिंदी में हैं और न ही अंग्रेजी में। कुछ मलयालम भाषा के हैं तो कुछ लैटिन भाषा में दस्तावेज मिले हैं।

इसके अलावा निरीक्षण के दौरान एक कमरे से शराब की बोतलें भी मिली हैं। खेती से होने वाली पैदावार व अनाज बच्चों के कमरे में ठूंसा गया था। यह जांच का विषय है कि इनसे कहीं बालश्रम तो नहीं कराया जा रहा।

कूनो में एक और चीते ने तोड़ा दम, बचे कुल 17 चीते

0

मध्य प्रदेश के श्योपुर में स्थित कूनो नेशनल पार्क में एक और चीते की मौत हो गई। इस मौत का कारण चीतों से आपसी लड़ाई है। 3 महीने के अंदर नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका से लाए गए बीस चीतों में से अब तक तीन चीतों की मौत हो चुकी है।

बता दें कि इससे पहले कूनो नेशनल पार्क में चीते साशा और उदय की मौत हुई थी। मौत से पहले उदय का एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ था। वीडियो में चीता उदय बाड़े में चलते समय लड़खड़ाते हुए नजर आ रहा था। उदय को दक्षिण अफ्रीका से दूसरी खेप में लाया गया था।

जानकारी के अनुसार पहली खेप में नामीबिया से 8 चीते कूनो नेशनल पार्क लाए गए थे। 17 सितंबर को पीएम मोदी ने अपने जन्मदिन पर इन चीतों को बाड़े में रिलीज किया था। इसके बाद 18 फरवरी को दक्षिण अफ्रीका से 12 चीते लाए गए थे। जिनको सीएम शिवराज ने बाड़े में छोड़ा था।

कूनो में 70 साल बाद 20 चीते छोड़े गए थे। लेकिन 3 की मौत हो गई है। अब पार्क में 17 चीते ही बचे हैं। हालांकि मादा चीता सियाया ने 4 शवकों को जन्म भी दिया है।

शिवराज कैबिनेट ने दी किसानों को बड़ी सौगात , 2 हजार करोड़ की ब्याज राशि की जाएगी माफ

0

भोपाल। किसानों के हित को देखते हुए शिवराज कैबिनेट ने आज किसानों के लिए कई बड़े फैसले लिए। किसानों के लिए गेहूं खरीदी की तारीख 10 मई से बढ़ाकर 20 मई की गई है। 30 अप्रैल तक बेची जाने वाली फसल पर मिलने वाला जीरो प्रतिशत ब्याज का लाभ अब 20 मई तक कर दिया गया है।

प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया ने कहा कि कैबिनेट बैठक में किसानों के हित में बड़ा फैसला लिया गया है। 31 मार्च की 2023 तक में डिफॉल्टर किसान जिनका दो लाख रुपये का कर्ज बकाया है, सरकार उन सभी का ब्याज भरेगी।

जानकारी के अनुसार इसमें 11 लाख 19 हजार डिफॉल्टर किसानों की लगभग 2 हजार करोड़ से अधिक की ब्याज राशि माफ की जाएगी। इसके लिए 12 तारीख को सूची चस्पा की जाएगी। 13 से 15 मई तक पैक्स सोसाइटियों के ज़रिए आवेदन लिए जाएंगे। 16 से 18 मई तक आवेदनों की जांच की जाएगी और 22 मई को बैंकों में पैसा ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

वहीं 25 मई को राज्य स्तरीय किसान सम्मेलन होने जा रहा है, जिसमें प्रदेश के सभी किसानों को बुलाया जाएगा। 26 मई को समितियों के माध्यम से किसानों को डिफॉल्ट मुक्त प्रमाण पत्र दिया जाएगा। खाद बीज का वितरण 1 जून से किया जाएगा।

जानकारी देते हुए कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कैबिनेट में फैसला लिया गया कि अब गेंहू खरीद की तारीख 10 मई से बढ़ाकर 20 मई कर दी गई है। अब 20 मई तक जो भी किसान फसल बेचेगा उन सभी को जीरो परसेंट का लाभ मिलेगा।

प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि छतरपुर के गौरीहार में नए अनुभाग एवं 11 पद स्वीकृत किए गए हैं। देवास में नए अनुभाग टोंकखुर्द की स्वीकृति एवं इसमें कुल 69 पटवारी हल्के शामिल कर 11 पद स्वीकृत किए गए हैं। 10 मई से मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान पुन: प्रारंभ हो रहा है, इसमें 67 तरह की सेवाएं चिह्नित की गई हैं।

उन्होंने कहा कि पहले चरण के लंबित प्रकरणों को निपटाया जाएगा एवं सीएम हेल्पलाइन में लंबित समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। साथ ही मणिपुर से प्रदेश के 24 बच्चों को लाने एवं उनसे संवाद स्थापित किया जा रहा है। चीन में मृत हुई रीवा की रहवासी को भारत लाए जाने का खर्च मध्यप्रदेश सरकार उठाएगी।

CM शिवराज ने कहा दिग्विजय और कमलनाथ ने मध्यप्रदेश को किया तबाह

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले आरोप-प्रत्यारोप का दौर अब शुरू हो गया है। भाजपा और कांग्रेस के दिग्गज नेता अब आमने-सामने आ गए हैं। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ‘मैं बीजेपी और संघ के लिए कोरोना हूं’ वाले बयान पर अब सीएम शिवराज और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जमकर हमला बोला है।

दिग्विजय सिंह के खुद के कोरोना वायरस बताने पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ये व्यक्ति हानिकारक है, इतना तो तय हो गया है। लोग कहते हैं ये वायरस तो ISI से आया है। कोरोना वायरस तो चीन से आया था, उस लिहाज से भी यह व्यक्ति हानिकारक है। खुद को इन्होंने कोरोना वायरस साबित कर लिया है।

भाजपा नेता ने कहा कि कमलनाथ ने तो कोविड-19 के दौरान मध्यप्रदेश की जनता को छोड़ दिया था कि जो करना है करो। कोविड आज पूरी तरह से कंट्रोल में है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दिग्विजय सिंह और कमलनाथ ने मिलकर मध्यप्रदेश को तबाह कर दिया। दिग्विजय सिंह ने बिल्कुल ठीक तुलना की है। कोरोना वायरस ने जितना नुकसान पहुंचाया था, उससे कई गुना ज्यादा नुकसान दिग्विजय और कमलनाथ ने मध्यप्रदेश को पहुंचाया है। मुझे तो आश्चर्य होता है कि तुलना के लिए उन्हें और कोई वायरस नहीं मिला। कोरोना वायरस से हाहाकार मच गया था, लोगों की जिंदगी अस्त व्यस्त हो गई थी। इसके अलावा अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई थी। ये तो मोदी जी थे जिनके नेतृत्व में दो-दो वैक्सीन बनी।

बता दें कि इंदौर में पिछले दिनों कैबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को कोरोना वायरस बताया था और कहा था उनका जन्म चीन में होना चाहिए। मंत्री तुलसी सिलावट के सवाल पर पलटवार करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा इंदौर के लोग जानते हैं कि तुलसी सिलावट ने कैसे काम किया। वह कितने धंधों में शामिल हैं और उससे कितना पैसा कमाते हैं ये सबको पता है। इसलिए मैं भाजपा और संघ के लिए कोरोना वायरस हूं।

मिशन 2023 – चुनावी रणनीति बनाने में जुटी भाजपा, बंद कमरे में हो रही चर्चा

0

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में आगामी 2023 के विधानसभा चुनाव ( Assembly Elections) की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसी बीच गुरुवार को भोपाल (Bhopal) के भाजपा कार्यालय (Bjp Office ) में दो बड़ी बैठकों की खबर सामने आई है। इस बैठक में बूथ विस्तार और सशक्तिकरण के साथ मोर्चों के आगामी कार्यक्रम को लेकर रणनीति बनाई जा रही है।

सूत्रों की मानें तो इस बैठक में विधानसभा और 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर लेकर बूथ एक्शन प्लान बनाया जा रहा है, जिसमें करीब 64 हजार से ज्यादा बूथों का बूथ एक्शन प्लान तैयार होगा। हर बूथ का माइक्रो मैनेजमेंट किया जाएगा।

बता दें कि बूथ एक्शन प्लान में 51% वोट शेयर की प्लानिंग की जाएगी। हर एक बूथ पर वोट शेयर 51% करने की प्लानिंग की जाएगी। 4 मई से 14 मई तक 64 हजार से अधिक बूथों का, बूथ एक्शन प्लान तैयार होगा। 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी भी शुरू हो गई है। इसी कड़ी में 15 मई से 15 जून तक भाजपा का हर सांसद घर-घर जाकर संवाद करेगा।

मन की बात कार्यक्रम में मध्यप्रदेश भाजपा ने ये तय किया है कि लगभग 64 हजार 100 बूथों पर समाज के प्रबुद्ध, प्रभावी और विशेष तरह के काम करने वाले लोगों को सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा प्रदेश में आम लोगों को कनेक्ट करने के लिए 25 हज़ार स्थानों पर अलग से मन की बात का आयोजन किया जाएगा।

गुरुवार शाम को सभी सांसदों और विधायकों की बैठक में विस्तृत दिशा निर्देश आलाकमान देगा। फिलहाल भाजपा में मोर्चा अध्यक्ष और जिलाध्यक्षों और जिला प्रभारियों की बैठक खत्म हो गई है। बैठक में पीएम मोदी के मन की बात के 100वें एपिसोड पर होने वाले कार्यक्रम को लेकर जरूर दिशा निर्देश दिए हैं। एमपी के 65 हजार से ज्यादा बूथों पर 30 अप्रैल को मन की बात का प्रसारण होगा। हर बूथ पर मन की बात के दौरान भाजपा के 100 कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे।

इसके साथ ही स्थानीय वरिष्ठ नागरिकों सहित समाज के विशिष्ठ नागरिकों को भी मन की बात में शामिल करने के निर्देश दिए हैं। सूत्रों की मानें तो इस बैठक में जिलाध्यक्षों को भाजपा के आगामी कार्यक्रमों में रूठे कार्यकर्ताओं को भी जोड़ने के निर्देश दिए हैं। वहीं जिलाध्यक्षों को नाराज कार्यकर्ताओं को भी मानने के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार इस बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा और मोर्चों के राष्ट्रीय पदाधिकारी सहित जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी और मोर्चा प्रभारी शामिल हैं।

जनगणना की मांग को लेकर भाजपा-कांग्रेस में खींचातानी, दोनों पार्टियों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी

0

2023 के चुनाव को लेकर सियासी सरगर्मियां तेज़ हो गई हैं। कांग्रेस के पूर्व मंत्री अरूण यादव ने यूपीए सरकार में हुई जातिगत जनगणना के आंकड़ों को सार्वजनिक करने की मांग की है। इसके अलावा कांग्रेस ने आबादी के हिसाब से आरक्षण देने की भी मांग की है। कांग्रेस की इस मांग के बाद बीजेपी ने भी इस पर पलटवार किया है।

 बीजेपी के पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य ने बयान दिया है कि कांग्रेस के नेताओं ने कभी हिंदुस्तान के दलित गरीब को आगे नहीं आने दिया। यूपीए की 57 साल केंद्र में सरकार रही वहीं मध्य प्रदेश में भी कई वर्षों तक सरकार रही, तब किसने मना किया था कि जातिगत जनगणना मत कीजिए। आर्य ने आगे कहा कि जब सत्ता उनके खुद के हाथ में थी उस वक़्त क्यों जातिगत जनगणना नहीं हुई?

लाल सिंह आर्य ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस का काम सिर्फ झूठे वादे करना, भ्रम फैलाना और वोट के लिए राजनीति करना है। हमेशा यही सब कांग्रेस के राज में होता आया है। 

पूर्व मंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि अगर कांग्रेस कुछ काम कर लेती तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आयुष्मान कार्ड ना बनाना पड़ता, ना ही शौचालय बनवाना पड़ता और ना ही बैंक में खाते खुलवाने पड़ते। दलित और पिछड़ा वर्ग कांग्रेस के लिए सिर्फ वोट बैंक हैं।

अरुण यादव ने इस पर कहा कि मनमोहन सरकार के समय जनगणना का काम किया गया था, सिर्फ रिपोर्ट जारी करना ही बाकी रह गया था। पर पिछले 10 साल में भाजपा सरकार ने कुछ नहीं किया।

वहीं जातिगत जनगणना की मांग को लेकर वरिष्ठ पत्रकार विजयदत्त श्रीधर का बयान भी सामने आया है। श्रीधर का कहना है कि ये पूरी तरह वोट की राजनीति है। जिन भी वर्गों के लिए ये मांग की जा रही है उन वर्गों का हक़ इसमें कैसे संरक्षित होगा। उन्होंने आगे कहा कि अंबेडकर हमेशा चाहते थे कि पिछड़े समाज के या अलग-अलग समुदायों से आने वाले लोग मुख्यधारा में किसी के साथ भी मुकाबला कर सकें। आज ज़रूरत सिर्फ इस बात की है कि ऐसे लोगों की योग्यता को बढ़ाया जाए। श्रीधर के अनुसार जातिगत जनगणना बिलकुल भी ज़रूरी नहीं है। इस तरह की मांगों से समाज में बिखराव बढ़ता है।  

जाति के आधार पर आबादी की गिनती को जातीय जनगणना कहते हैं। किस वर्ग को कितनी हिस्सेदारी मिली, कौन वंचित रहा, जातीय जनगणना से इन सभी बातों का पता लगता है। जातियों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति का भी पता चलता है।