Monday, August 2, 2021
Home Tags Bhopal

Tag: Bhopal

भोपाल में ब्लैक फंगस के कारण 2 दिन में भर चुके है आधे से ज़्यादा बेड

0

भोपाल में ब्लैक फंगस (Black fungus) का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। अब तक 70 से ज्यादा लोग इसके शिकार हो चुके है। पिछले 15 दिनों में तेजी से ब्लैक फंगस का संक्रमण फैला है। हमीदिया अस्पताल में इस बीमारी के इलाज के लिए बनाया गया वार्ड भी फुल होने के कगार पर आ चुका है। 2 दिन में आधे बेड फुल हो चुके है।

बता दे कि भोपाल में अलग-अलग अस्पतालों में ब्लैक फंगस के 70 से ज्यादा मरीजों का इलाज चल रहा है। हमीदिया अस्पताल में लगभग 23 मरीज भर्ती है। कोविड वार्ड में भर्ती 8 मरीजों का ब्लैक फंगस और कोरोना दोनों का एक साथ इलाज हो रहा है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि ब्लैक फंगल इंफेक्शन को लेकर सरकार अलर्ट मोड पर है। सरकार ने बीमारी की रोकथाम और उपचार के लिए तैयारी शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि पहले फेज में गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल और जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज में यूनिट शुरू की जा रही है।

वहीं ब्लैक फंगस इंफेक्शन से निपटने के लिए चार विंग काम कर रही है। जिसमे ईएनटी, नेत्र रोग विभाग, न्यूरोलॉजी और मेडिसन को मिलाकर एक  यूनिट बनायी गयी है।

भोपाल के सरकारी अस्पताल में वार्ड बॉय ने किया महिला मरीज के साथ रेप, अगले दिन हो गई मरीज की मौत

0

राजधानी के भोपाल मेमोरियल अस्पताल में भर्ती एक महिला मरीज के साथ वार्ड बॉय ने रेप की घटना को अंजाम दिया है। जानकारी मिली है कि अगले दिन उस महिला मरीज की मौत हो गई है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। लेकिन पीड़िता के परिवार को रेप की जानकारी नहीं दी है।

दरअसल पुलिस ने इस मामले में रेप का मामला दर्ज किया है। वहीं रेप की घटना के बारे में अस्पताल प्रबंधन और पुलिस ने परिवार को अब तक जानकारी नहीं दी है। साथ ही परिवार के लोगों से रेप की बात छिपाते हुए पुलिस ने आरोपी को जेल भेज दिया है। ये भी बताया जा रहा है कि आरोपी वार्ड बॉय पर एक नर्सिंग के छात्रा ने भी रेप का आरोप लगाया था।

बता दे कि आरोपी ने चेक करने के बहाने के महिला के साथ जबरदस्ती की थी। वहीं अब सवाल उठ रहे है कि पुलिस और अस्पताल के लोगों ने इस घटना की जानकारी उसके परिवार के लोगों को क्यों नहीं दी।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के कई शहरों में वार्ड बॉय की करतूतों से शर्मसार होना पड़ रहा है। कुछ दिन पहले ग्वालियर में भी वॉर्ड बॉय ने रेप की कोशिश की थी। और इंदौर में भी एक वॉर्ड बॉय पर छेड़छाड़ का केस दर्ज हुआ है।

राजधानी भोपाल में 14 साल से कम उम्र के बच्चे हुए कोरोना संक्रमित

0

मध्य प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर बच्चों के लिए भी घातक सिद्ध हो रही है। जानकरी के अनुसार दूसरी लहर में बड़ी संख्या में 14 साल से कम उम्र के बच्चे भी संक्रमित हुए है। अगर सिर्फ भोपाल में ही देखे तो 54000 मरीजों में 14 साल से कम उम्र के बच्चों की संख्या 2700 है।

दरअसल दूसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने से सरकार के भी कान भी खड़े हो गए है। ऐसा भी माना जा रहा है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए और भी ज्यादा खतरनाक हो सकती है। रिपोर्ट्स के अनुसार तीसरी लहर में 50 प्रतिशत मरीज 14 साल से कम उम्र के बच्चे हो सकते हैं।

बता दे कि इस आपदा से निपटने के लिए सरकार ने खास तौर पर बच्चों के लिए अस्पतालों में आईसीयू बनाए जाने के निर्देश दे चुकी है। भोपाल के हमीदिया अस्पताल में बच्चों के लिए अलग से 50 बिस्तरों का आईसीयू बनाया जाएगा।

भोपाल के वैक्सीनशन सेंटर पर हो रहा है नियमों का उल्लंघन, तोड़ी जा रही है कोरोना की गाइडलाइन

0

मध्य प्रदेश में कोरोना टीकाकरण के इंतजाम को लेकर सरकार गलत साबित हो रही है। देखा जा रहा है कि वैक्सीन के लिए लोग लंबी कतारों में अपनी बारी का इंतजार कर रहे है। ऐसा ही मंजर भोपाल के एक वैक्सीनेशन सेंटर पर देखने को मिला जहां लोगों की भारी भीड़ देखी गई।

दरअसलभोपाल के 2 स्टॉप स्तिथ नवीन स्कूल वैक्सीनेशन सेंटर है। वहां लोगों की भीड़ दखने को मिली है। ऐसे में प्रशासन की लापरवाही और अव्यवस्थाओं का अंदाजा लगा सकते है। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना गाइडलाइन का भी उल्लंघन होता दिखाई दिया है।

बता दे कि राज्य सरकार ये चाहती है कि अधिक से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो सके। जिससे लोग संक्रमण के खतरे से बच सके। लेकिन शासन और प्रशासन की इस लापरवाही से जनता को संक्रमण का मुख्य खतरा बन जाता है।

भोपाल में चलती हुई एम्बुलेंस में लगी आग,ड्राइवर ने गाड़ी से कूदकर बचाई अपनी जान

0

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मंगलवार को एक बड़ा हादसा टल गया। दरअसल एक चलती एंबुलेंस में अचानक आग लग गई थी। ड्राइवर ने समझदारी दिखाते हुए गाड़ी से कूदकर अपनी जान बचाई।

बताया जा रहा है कि नवोदय अस्पताल की एंबुलेंस मरीज को लेने जा रही थी और इसी बीच राजधानी शादी हॉल के सामने उसमें अचानक आग लग गई। जैसे ही ड्राइवर ने देखा वह एंबुलेंस रोककर तुरंत बाहर निकल आया। लेकिन आग लगने की वजह अब तक सामने नहीं आई है।

बता दे कि जिस जगह यह हादसा हुआ उससे कुछ दूरी पर ही पुलिस कर्मी मौजूद थे। और जैसे ही पुलिस कर्मियों ने उस जलती हुई एम्बुलेंस को देखा वे तुरंत फायर एक्सटिंग्यूशर की मदद से आग पर काबू करने के लिए पहुच गए।

मध्यप्रदेश में पेट्रोल ने मारा शतक

0

मध्य प्रदेश के भोपाल समेत कई शहरो में पेट्रोल शतक पार कर दिया है। तेल कंपनियों ने डीजल पेट्रोल के दाम में भारी बढ़त का सिलसिला जारी रखा है। और ऐसे में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बुधवार को एक बार फिर बढ़ोत्तरी हुई है।

बता दे इससे पहले सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों ने पश्चिम बंगाल सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के दौरान 18 दिनों तक कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया था।

प्रदेश में डीजल- पेट्रोल के दाम कुछ इस तरह से हैं-

भोपालः पेट्रोल- 100.08 पैसे/ली ,डीजल- 90.95 रूपए
ग्वालियरः 100.02 पैसे/ली,डीजल- 90.64 रूपए
जबलपुरः 100.16 पैसे/ली,डीजल- 91.04 रूपए
इंदौरः 100.17 पैसे/ली,डीजल- 91.05 रूपए

भोपाल में ऑक्सीजन सिलेंडर का दाम किया तय

0

मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे मरीजों के लिए सुखद खबर है। अब ऑक्सीजन सिलेण्डर के लिए लोगों को मनमाने पैसे नहीं देने पड़ेंगे। इसके लिए भोपाल कलेक्टर ने दाम तय कर दिए है। दिए गए आदेश के मुताबिक अब ज्यादा पैसे लेने वालों पर कालाबाजारी की धारा के तहत की जाएगी कार्रवाई।

दरअसल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने भोपाल में ऑक्सीजन सिलेंडर के मूल्य को निर्धारित कर दिया है। उससे अधिक राशि लेने पर कालाबाजारी करने की धारा में कानूनी कार्रवाई की जाएगी। ऑक्सीजन सिलेंडर के विक्रय मूल्यों में एकरूपता रखने के लिए मूल्य निर्धारित किये गए है।

7 क्यूबिक मीटर सिलेंडर वितरक और निर्माता रेट (जीएसटी सहित) 360 रुपए और सब वितरक रेट/अस्पताल तक रेट(परिवहन एवं जीएसटी सहित) 500 रुपए निर्धारित किया है।

10 क्यूबिक मीटर सिलेण्डर वितरक और निर्माता रेट (जीएसटी सहित) 510 रुपए, सब वितरक रेट/अस्पताल तक रेट (परिवहन एवं जीएसटी सहित) 650 रुपए नियत व अधिकतम दर है।

भोपाल के सरकारी अस्तपाल में हुआ बड़ा हादसा,6वी मंजिल से कूदा मरीज

0

भोपाल के हमीदिया अस्पताल की 6वीं मंजिल से एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने छलांग लगा दी है ।बताया जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों से बीमार था।

दरअसल हमीदिया अस्पताल के डी ब्लाक की 6वीं मंजिल से एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने शाम साढ़े पांच बजे छलांग लगा दी है। मृतक का नाम रईस खान बताया जा रहा है। इस घटना की सूचना के बाद पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गया था। और अस्पताल प्रबंधन भी मरीज से संबंधित जानकारी जुटाने में लगा है।

बात दे कि इससे पहले 4 मई को भोपाल के चिरायु अस्पताल की 5वीं मंजिल से एक कोविड संक्रमित व्यक्ति ने कूदकर आत्महत्या कर ली थी। अचानक वे अस्पताल की 5वीं मंजिल पर पहुंच गया और छलांग लगा दी थी । जमीन पर गिरने के बाद उन्हें गंभीर चोट आई थी ।

भोपाल में उड़ाई जा रहीं है कोरोना कर्फ्यू की धज्जियां,अभी भी पैसा कमाने में लगे है दुकानदार

0

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना के दौरान लगाए गए कर्फ्यू की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। यहां पर चिकन मटन से लेकर कपड़े जूते और अन्य दुकानें चलाने वाले लोग शटर बंद कर कारोबार कर रहे हैं। अब पुलिस प्रशासन ने धड़ल्ले से कार्रवाई शुरू की है।

दरअसल सोमवार सुबह नगर निगम का अतिक्रमण आमला काजी कैंप पहुंचा तब वहां एक चिकिन शॉप के शटर लगे हुए थे लेकिन अंदर कर्मचारी चिकिन साफ करने में लगे हुए थे। पूछताछ में पता चला कि शटर बंद कर सप्लाई की जा रही है। इसके बाद टीम ने काजी कैंप, बैरसिया रोड और सिंधी कॉलोनी समेत अन्य इलाकों में कार्रवाई शुरू की।

बता दे कि मार्केट की दुकानों के शटर गिरे हुए थे लेकिन जब कार्रवाई शुरू की गई तो पता चला सभी दुकानों के अंदर से कारोबार चल रहा है। अतिक्रमण अमला अब तब में 1 दर्जन से अधिक दुकानों पर कार्यवाही कर चुका है। इस पूरी कार्रवाई के दौरान हनुमानगंज सीएसपी और और नगर निगम के अतिक्रमण प्रभारी नासिर खान भी मौजूद रहे।

1000 बिस्तरों के साथ मध्यप्रदेश को मिला सबसे बड़ा क्वारेंटाइन सेंटर,मुख्यमंत्री ने किया इसका निरक्षण

0

कोरोना से लड़ने के लिए मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में प्रदेश का सबसे बड़ा क्वारेंटाइन सेंटर बनकर तैयार हो गया है। ये नेहरू स्टेडियम में बनाया गया है।

बता दें कि बीजेपी और जिला प्रशासन के सहयोग से यहां पर 1000 बिस्तर का क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। बताया जा रहा है कि यहां पर असिम्प्टमैटिक मरीजों को रखा जाएगा। और इसी के साथ इमरजेंसी के लिए ऑक्सीजन कन्संट्रेटर भी उपलब्ध रहेगा।

इस अवसर पर सीएम ने कहा कि यह कोविड केयर सेंटर समाज की ताकत का प्रतीक है जो सेवा करने आगे आई है। उन्होंने कहा कि इस समय प्रदेश में 78 हजार मरीज होम आइसोलेटेड है। उन्होंने आगे कहा जिनके घर छोटे या जगह की कमी है वे भी यहां आकर रह सकते है।

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने इसे लेकर कहा कि हमारे लिए सेवा सबसे पहले है बाद में राजनीति। भोपाल इकाई ने माधव सेवा केंद्र नाम से इस कोविड सेंटर को बनाया है। कोरोना की चेन ब्रेक करने में यह सेंटर अहम भूमिका निभाएगा।