Monday, June 5, 2023
Home Tags Bhopal

Tag: Bhopal

बीजेपी नेताओं को होगी जेल ! कांग्रेस अपने वचन पत्र में जारी करेगी करप्शन की सूची

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियां अपने चरम पर है। दोनों ही मुख्य पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हुई है। इसी बीच एमपी कांग्रेस अपना वचन पत्र तैयार कर रही है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के वचन पत्र में बीजेपी नेताओं को जेल भेजने का वचन देगी।

बता दें कि कांग्रेस अपने आने वाले वचन पत्र में करप्शन का मुद्दा लेकर आएगी। इसके अलावा वचन-पत्र में सरकारी विभागों में करप्शन की सूची जारी की जाएगी और जिन नेताओं पर आरोप है उन्हें जेल भेजने का वचन देगी। इसके अलावा कांग्रेस पुराने मामले फिर से खोलने का भी वचन देगी।

इस बारे में जानकारी देते हुए पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बताया कि जिस दिन कांग्रेस सरकार आएगा उसी दिन जिन्न बाहर निकलेगा। यह जिन्न घोटालों का होगा जो बाहर आएगा। इसमें व्यापमं, सिंहस्थ, पेंशन और बीजेपी सरकार ने जितने अन्य घोटाले किए है सब बाहर आएंगे।

सज्जन वर्मा के बयान और वचन पत्र पर पलटवार करते हुए बीजेपी प्रवक्ता राजपाल सिंह सिसोदिया ने कहा कि कांग्रेस हमेशा द्वेष से काम करती है। 15 महीने में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किए गए, मकान तोड़े गए। कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है जो वोट नहीं मिलने पर जनता से भी बदला लेती है। जनता को सब दिखता है और हमें जनता पर पूरा विश्वास है कि वे कांग्रेस को नहीं चुनेगी।

विधानसभा चुनाव 2023 से पहले प्रशासनिक अधिकारियों के तबादले, मनीष सिंह बने जनसंपर्क आयुक्त

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले प्रशासनिक अधिकारियों के तबादलों का दौर शुरू हो गया है। इसी तर्ज पर सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से जारी आदेश में जनसंपर्क विभाग के प्रमुख सचिव और आयुक्त व मध्यप्रदेश माध्यम के प्रबंध संचालक 1997 बैच के आईएएस अधिकारी राघवेंद्र कुमार सिंह को खनिज साधन विभाग का प्रमुख सचिव बना दिया गया है।

प्रदेश सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के चार अधिकारियों के ट्रांसफर/अतिरिक्त प्रभार संबंधी आदेश जारी किए हैं। इसके साथ ही 2009 बैच के आईएएस अधिकारी मनीष सिंह को जनसंपर्क आयुक्त बनाया गया है। वहीं, वर्तमान जनसंपर्क विभाग के प्रमुख सचिव और आयुक्त राघवेंद्र सिंह को खनिज विभाग का प्रमुख सचिव बनाया गया है। मुख्यमंत्री के सचिव 2000 बैच के आईएएस अधिकारी विवेक पोरवाल को जनसंपर्क सचिव बनाया गया है। 

ये आदेश सामान्य प्रशासन विभाग की तरफ से बुधवार को जारी किए गए हैं। पदस्थापना के लिए प्रतीक्षारत 2001 बैच के आईएएस अधिकारी नवनीत कोठारी को प्रबंधक संचालक, एमपी इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड व प्रबंधक संचालक, मध्यप्रदेश स्टेट इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड भोपाल तथा पदेन सचिव मध्यप्रदेश शासन औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन विभाग बनाया गया है।

NIA ने भोपाल और छिंदवाड़ा में मारी रेड, आतंकी संगठन के 11 सदस्यों को किया गिरफ्तार

0

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल और छिंदवाड़ा से एनआईए (NIA) और तेलंगाना एटीएस (ATS) की टीम ने मंगलवार को 11 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। टीम को सबूत मिले हैं कि पकड़े गए संदिग्ध आतंकी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर से जुड़े हुए हैं।

जानकारी के अनुसार एनआईए और तेलंगाना एटीएस ने भोपाल के ऐशबाग, जवाहर कालोनी और बाग फरहत अफजा में धरपकड़ की है। इस दौरान पुलिस ने भोपाल से 4 युवकों को गिरफ्तार किया, जबकि 7 को छिंदवाड़ा से पकड़ा गया है।

अब तक एनआईए और तेलंगाना एटीएस ने कट्टरपंथी इस्लामी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर के 16 सदस्यों को गिरफ्तार कर चुकी है। इनमें भोपाल और छिंदवाड़ा के 11, और 5 संदिग्धों को तेलंगाना से गिरफ्तार किया है। इन संदिग्धों के पास से देश-विरोधी संदिग्ध दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

इस मामले को लेकर ऐशबाग पुलिस थाना प्रभारी चतुर्भुज राठौर ने बयान देते हुए कहा कि इस मामले में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। कुछ देर पहले तीन लोगों के परिवार थाने आए और उन्होंने बताया कि कुछ लोग खुद को पुलिसवाला बताकर उनके बेटों को पकड़कर साथ ले गए।

बता दें कि कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन हिज्ब-उत-तहरीर का मुख्यालय लंदन में बताया जाता है। यह संगठन अपनी कट्टरपंथी विचाराधारा को तेजी से फैला रहा है। इस संगठन की पाकिस्तान और बांग्लादेश में बड़ी मौजूदगी है।

कमलनाथ ने लॉन्च की ‘नारी सम्मान योजना’, 1500 रुपये प्रतिमाह देने का किया वादा, CM शिवराज पर कसा तंज

0

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 9 मई मंगलवार को छिंदवाड़ा में ‘नारी सम्मान योजना’ लॉन्च की। इस योजना के बारे में बताते हुए कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश की हर महिला के बारे में सोचती है और इसलिए सभी को 1500 रुपये हर माह दिए जाएंगे और 500 रुपये में गैस सिलेंडर दिया जाएगा। कमलनाथ ने कार्यक्रम के दौरान जनता से सवाल किया कि मैं आप सभी से कुछ पूछना चाहता हूं, माता बहनों को हर महीने 1500 रूपये चाहिए, कर्मचारियों को पुरानी पेंशन चाहिए, सौ रुपये में सौ यूनिट बिजली चाहिए, किसानों को कर्ज माफी चाहिए, युवाओं को रोजगार और उद्योग चाहिए। अगर आप सभी को ये सब चाहिए तो कांग्रेस का साथ दीजिए।

कार्यक्रम के दौरान कमलनाथ बीजेपी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि शिवराज जी अब समय आ गया है। पांच महीने बचे हैं और जनता सामने है। मध्यप्रदेश की जनता आपको प्यार से विदा करेगी और घर बिठाएगी। एक बार फिर मध्यप्रदेश विधानसभा में कांग्रेस का झंडा लहराएगा। कमलनाथ ने बात आगे कहा कि 2018 में हमने जनता के वोट से सरकार बनाई थी और 2020 में बीजेपी ने सौदेबाजी से सरकार बनाई। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर कोयले की उन कंपनियों की लीज़ कैंसिल की जाएगी, जहां अब खदानें बंद हो गई हैं और उन पर कब्जा किया हुआ है। उनकी लीज़ निरस्त करके वो जमीन गरीबों को आवास के लिए दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि शिवराज जी के कान बेरोजगार नौजवानों की पुकार नहीं सुन सकते क्योंकि उनके कान बंद हैं, उनकी आंखें किसानों की बदहाली देखने के लिए बंद हैं। उनके आंख-कान बंद हैं लेकिन मुंह चलता है। आने वाले 5 महीने में चुनाव हैं और इसीलिए अब शिवराज जी जगह-जगह जा रहे हैं। वो घोषणाओं की मशीन बन गए हैं, झूठ की मशीन बन गए हैं। कमलनाथ ने सीएम शिवराज को घेरते हुए कहा कि शिवराज जी मुख्यमंत्री तो क्या हैं, ये तो शिलान्यास मंत्री हैं, ये भूमिपूजन मंत्री हैं। उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री बहुत व्यस्त हैं। उनका एक हाथ भ्रष्टाचार में और दूसरा अत्याचार में व्यस्त है।

उन्होंने कार्यक्रम के दौरान सीएम शिवराज से सवाल किया कि शिवराज जी जनता को जवाब दें कि बीजेपी ने 18 साल के शासनकाल में क्या दिया। सिर्फ महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, घर-घर में शराब और आदिवासियों को अत्याचार दिया है। वहीं कांग्रेस की संस्कृति जोड़ने की रही है लेकिन आज हमारी संस्कृति पर हमला हो रहा है। हमारी माताओं-बहनों ने हमेशा सामाजिक मूल्यों की रक्षा की है। भारत अपने सामाजिक मूल्य पर टिका है और आज आपको फिर इसका रक्षक बनना पड़ेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने महिलाओं से आह्वान किया कि आप सिर्फ अपना घर मत देखिए, आने वाली पीढ़ियों के बारे में सोचिए कि आपको कैसा प्रदेश और देश उन्हें सौंपना है, क्योंकि आज यही हमारी सबसे बड़ी चुनौती है। कांग्रेस ने महिलाओं का हमेशा सम्मान किया है। इसलिए कांग्रेस ने महिलाओं के लिए आरक्षण का कानून बनाया, घरेलू हिंसा के खिलाफ कानून बनाना, पहली महिला प्रधानमंत्री पहली राष्ट्रपति कांग्रेस के शासनकाल में ही बनी हैं।

कमलनाथ ने कहा कि मुझे मध्यप्रदेश और छिंदवाड़ा की जनता पर पूरा विश्वास है। वो धैर्य रखकर सही निर्णय लेगी। वैसे भी अब शिवराज सरकार के पास पुलिस, पैसा और प्रशासन के अलावा बचा ही क्या है। 5 महीने में बीजेपी पुलिस , पैसा और प्रशासन का जितना उपयोग कर सकती है कर ले, क्योंकि अब जनता बीजेपी और सीएम शिवराज को पहचान चुकी है और आगामी विधानसभा चुनाव में वो उन्हें आईना भी दिखा देगी।

मिशन 2023 – चुनावी रणनीति बनाने में जुटी भाजपा, बंद कमरे में हो रही चर्चा

0

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में आगामी 2023 के विधानसभा चुनाव ( Assembly Elections) की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसी बीच गुरुवार को भोपाल (Bhopal) के भाजपा कार्यालय (Bjp Office ) में दो बड़ी बैठकों की खबर सामने आई है। इस बैठक में बूथ विस्तार और सशक्तिकरण के साथ मोर्चों के आगामी कार्यक्रम को लेकर रणनीति बनाई जा रही है।

सूत्रों की मानें तो इस बैठक में विधानसभा और 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर लेकर बूथ एक्शन प्लान बनाया जा रहा है, जिसमें करीब 64 हजार से ज्यादा बूथों का बूथ एक्शन प्लान तैयार होगा। हर बूथ का माइक्रो मैनेजमेंट किया जाएगा।

बता दें कि बूथ एक्शन प्लान में 51% वोट शेयर की प्लानिंग की जाएगी। हर एक बूथ पर वोट शेयर 51% करने की प्लानिंग की जाएगी। 4 मई से 14 मई तक 64 हजार से अधिक बूथों का, बूथ एक्शन प्लान तैयार होगा। 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी भी शुरू हो गई है। इसी कड़ी में 15 मई से 15 जून तक भाजपा का हर सांसद घर-घर जाकर संवाद करेगा।

मन की बात कार्यक्रम में मध्यप्रदेश भाजपा ने ये तय किया है कि लगभग 64 हजार 100 बूथों पर समाज के प्रबुद्ध, प्रभावी और विशेष तरह के काम करने वाले लोगों को सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा प्रदेश में आम लोगों को कनेक्ट करने के लिए 25 हज़ार स्थानों पर अलग से मन की बात का आयोजन किया जाएगा।

गुरुवार शाम को सभी सांसदों और विधायकों की बैठक में विस्तृत दिशा निर्देश आलाकमान देगा। फिलहाल भाजपा में मोर्चा अध्यक्ष और जिलाध्यक्षों और जिला प्रभारियों की बैठक खत्म हो गई है। बैठक में पीएम मोदी के मन की बात के 100वें एपिसोड पर होने वाले कार्यक्रम को लेकर जरूर दिशा निर्देश दिए हैं। एमपी के 65 हजार से ज्यादा बूथों पर 30 अप्रैल को मन की बात का प्रसारण होगा। हर बूथ पर मन की बात के दौरान भाजपा के 100 कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे।

इसके साथ ही स्थानीय वरिष्ठ नागरिकों सहित समाज के विशिष्ठ नागरिकों को भी मन की बात में शामिल करने के निर्देश दिए हैं। सूत्रों की मानें तो इस बैठक में जिलाध्यक्षों को भाजपा के आगामी कार्यक्रमों में रूठे कार्यकर्ताओं को भी जोड़ने के निर्देश दिए हैं। वहीं जिलाध्यक्षों को नाराज कार्यकर्ताओं को भी मानने के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार इस बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा और मोर्चों के राष्ट्रीय पदाधिकारी सहित जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी और मोर्चा प्रभारी शामिल हैं।

शिवराज कैबिनेट के मंत्रियों को किया गया तलब, सक्रियता बढ़ाने को लेकर बंद कमरे में हुई चर्चा…

0

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 में होना हैं, हालांकि अभी तक चुनाव की तारीखों को लेकर किसी तरह की जानकारी सामने नहीं आयी है। लेकिन बीजेपी ने अपने स्तर पर चुनावी तैयारियां ज़रूर शुरू कर दी हैं। आज बीजेपी ने सीएम शिवराज कैबिनेट के निष्क्रिय नेताओं और मंत्रियों को प्रदेश कार्यालय में तलब किया। संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा और प्रदेश प्रभारी पी. मुरलीधर राव ने बंद कमरे में इन नेताओं के साथ काफी देर तक चर्चा की।

इस मीटिंग में पदाधिकारियों ने नेताओं और मंत्रियों की फीडबैक रिपोर्ट भी पेश की।
इस मीटिंग में प्रदेश के डिएक्टिव नेताओं और मंत्रियों को उनके जमीनी फीडबैक से अवगत कराया गया। घंटों चली इस मीटिंग में चुनावी साल होने पर मंत्रियों को उनके क्षेत्रों में सक्रियता बढ़ाने के लिए कहा गया।
BJP ने चुनाव पर फोकस करते हुए घर-घर कैंपेन जैसे कई प्लान तैयार किए हैं। जैसे मंत्रियों द्वारा प्रदेश की जनता के पास जाना, उनसे जुड़ना और उनकी समस्याएं सुनकर उनका निपटारा करना भी शामिल है।

मुख्यमंत्री शिवराज ने प्रदेश के सभी मंत्रियों को निर्देश दिए हैं कि वे नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगाकर जन मानस की समस्याएं सुनें और उन्हें सुलझाएं। प्रदेश की जनता की समस्याओं का निपटारा खुद मंत्री करेंगे। सभी मंत्री और नेता 10 मई से अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर जनता से मिलेंगे और जनसमस्याएं सुनेंगे।

लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली घोषित होंगी पंचायतें, कलेक्टरों से मांगे गए प्रस्ताव…

0

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने ग्राम पंचायतों को लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली घोषित करने का फैसला लिया है। इसके लिए प्रशासन ने कलेक्टरों से पंचायतों के प्रस्ताव भी मांगे गए हैं। ऐसी पंचायतें जिनमें पिछले एक वर्ष में एक भी बाल विवाह नहीं हुआ हो। सौ प्रतिशत लाड़ली लक्ष्मियां स्कूल जाती हों। इसके अलावा पंचायत में कुपोषण की समस्या न हो और पंचायत क्षेत्र में बालिकाओं के विरुद्ध कोई भी अपराध घटित न हुआ हो। ऐसी सभी पंचायतों को पुरस्कृत किया जाएगा।

इसके अलावा लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली पंचायतों को बेटियों की सुरक्षा, उनके सर्वांगीर्ण विकास के लिए अलग से बजट देने का प्रावधान भी किया जा रहा है। लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली पंचायत घोषित करने के लिए सरकार द्वारा पंचायतों से ही प्रस्ताव लिए जाएंगे, जिन्हें जिला स्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित टास्क फोर्स के समक्ष रखा जाएगा।

समिति अच्छे-बुरे हर पहलू के आधार पर पंचायतों को लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली घोषित करेगी। दरअसल, टास्क फोर्स बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत गठित की गई है। लाड़ली लक्ष्मी फ्रेंडली पंचायत घोषित करने से पहले जिले में पंचायतवार वर्तमान लिंगानुपात की समीक्षा की जाएगी, जो प्रत्येक तीन माह में होगी। इसके अनुसार लिंगानुपात में पिछले साल की इस साल सुधार करने वाली पंचायतों को पुरस्कार दिया जाएगा। पंचायतों में बेटी के जन्म पर उत्सव मनाने के साथ ही बाल विवाह को लेकर भी जागरूक किया जाएगा।

पति के अवैध संबंध के कारण महिला ने फांसी लगाकर दी जान, सुसाइड नोट में लिखा- पति ना दे चिता को अग्नि

0

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक महिला ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। महिला ने मरने से पहले सुसाइड नोट लिखा है जिसमें उसके पति के किसी अन्य महिला के साथ संबंधों की बात लिखी है। महिला ने लिखा है, ” मेरे पति के किसी अन्य महिला के साथ संबंध हैं। वह उसके साथ अधिकांश समय गुजारते हैं। मैं अपने पति के किसी दूसरी महिला के साथ संबंध को बर्दाश्‍त नहीं कर सकती और न ही मैं उन्हें छोड़ सकती हूं। इसलिए मैं अपनी जिंदगी समाप्त कर रही हूं। मेरा शव मेरे पति को न सौंपा जाए और न ही वह मेरी चिता को अग्‍नि दें। मेरे बेटे के पालन-पोषण की जिम्‍मेदारी भी मेरे माता-पिता को दी जाए।” यह लिखकर महिला ने अपने मायके में फांसी लगा ली है।

यह घटना सोमवार रात की है। घटना की खबर मिलते ही पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। बता दें, महिला का एक छह साल का बेटा भी है। पुलिस मंगलवार को महिला के मायके वालों के साथ-साथ पति और ससुराल वालों के बयान दर्ज करेगी। हबीबगंज थाना पुलिस के मुताबिक रानू कुडोका पुत्री बालसिंह वीरपाचे (30) ने ग्यारह सौ क्वार्टर में सोमवार रात अपने मायके में फांसी लगा ली थी।

उसके पास से मिले सुसाइड नोट में कारणों का खुलासा हुआ है। करीब सात साल पहले माता मंदिर इलाके में रहने वाले एक पीएचई कर्मचारी से रानू की शादी हुई थी। रानू कुडोपा 15 दिन पहले अपने पति से झगड़े के बाद मायके आकर रहने लगी थी। विवेचना अधिकारी उप निरीक्षक सुडील देशमुख ने बताया कि महिला की 30 वर्ष से कम उम्र होने के कारण मामला नवविवाहिता का है। पुलिस ने भी पोस्टमार्टम कराकर महिला का शव उसके पिता के सुपुर्द कर दिया। मायके और ससुराल वालों के मंगलवार को बयान दर्ज होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

भोपाल के वन विहार लाए जाएंगे विदेशी जिराफ और जेब्रा, प्रबंधन ने शुरू की तैयारियां

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में चीतों के बाद अब विदेशी जिराफ और जेब्रा देखने को मिलेंगे। विदेशी जिराफ और जेब्रा को बसाने की तैयारियां प्रारंभ हो गई हैं। राजधानी भोपाल के वन विहार नेशनल पार्क इन जानवरों के लिए तैयार किया जा रहा है। नेशनल पार्क ने इस प्रोजेक्ट के लिए शासन से डेढ़ करोड़ रुपये की डिमांड की है।

बता दें कि मध्यप्रदेश में अब विदेशी जिराफ और जेब्रा बसाए जाएंगे। यूरोप और मध्य पूर्व देशों के जिराफ और जेब्रा को भोपाल में बसाने की तैयारी की जा रही है। चीतों के बाद यह दूसरी अंतरमहाद्वपीय परियोजना है।

वहीं वन विहार की डायरेक्टर पदम प्रिया बालकृष्णन ने जानकारी देते हुए बताया कि वन विहार इन जानवरों के लिए करीब 3 महीने में तैयारी हो जाएगा। जिराफ और जेब्रा के लिए वातावरण तैयार है। सरकार से अनुमति मिलने पर हमें सिर्फ तीन महीने का समय चाहिए होगा।

जानकारों की मानें तो भोपाल की जल-वायु विदेशी जिराफ और जेब्रा के अनुकूल है। उनके आहार के लिए वन विहार में बबूल की प्रजातियों की पत्तियां, फल और फूल मौजूद हैं। देश में 11 चिड़ियाघरों में 30 जिराफ हैं, लेकिन कोई चिड़ियाघर उन्हें भोपाल को देने के लिए तैयार नहीं हुआ।

नगर निगम की कचरा गाड़ी में फेंकी गईं भगवान परशुराम की तस्वीरों वाली होर्डिंग्स, कांग्रेस ने जताया विरोध

0

भोपाल। 22 अप्रैल का दिन बेहद खास है। आज अक्षय तृतीया का पर्व है और इसी तिथि को भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी की जयंती भी है। आज जहां सीएम शिवराज ने गुफा मंदिर में इस पावन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लिया वहीं राजधानी भोपाल में भगवान परशुराम का अपमान भी देखने को मिला है। भोपाल नगर निगम ने होर्डिंग में लगीं भगवान परशुराम की तस्वीरों को निकालकर कचरा गाड़ी में डाल दिया। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है।

इस मामले पर अब कांग्रेस तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रही है। मामला भोपाल के अशोका गार्डन के 80 फिट रोड़ का है, जहां परशुराम जयंती पर कचरे की गाड़ी में परशुराम जी की तस्वीरों वाले होर्डिंग्स रखे मिले। जानकारी के मुताबिक कांग्रेस नेता मनोज शुक्ला ने ये होर्डिंग लगवाए थे जिसमें परशुराम जयंती का बधाई संदेश था जिन्हें नगर निगम के कर्मचारियों ने निकालकर कचरा गाड़ी में डाल दिया। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस मामले पर कांग्रेस नेता मनोज शुक्ला का कहना है कि मुख्यमंत्री एक तरफ ब्राम्हण कल्याण बोर्ड बनाने की बात करते हैं, दूसरी तरफ हमारे आराध्य भगवान परशुराम कचरे की गाड़ी में फेंके जा रहे हैं। आने वाले समय में बीजेपी सरकार सत्ता में नहीं रहेगी। 2023 में तस्वीर साफ है अब परशुराम भगवान के अपमान का बदला समूचा ब्राह्मण समाज चुनाव में देगा।

वहीं अब भगवान परशुराम के अपमान पर ब्राह्मण समाज और संगठनों में भी नाराज़गी है। अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज ने परशुराम के अपमान पर उग्र आंदोलन की चेतावनी तक दी है। समाज के अध्यक्ष पुष्पेंद्र मिश्रा ने मेयर मालती राय से माफी मांगने की मांग की है और कहा है कि वे माफी मांगें और कर्मचारियों को बर्खास्त करें। कार्रवाई न होने पर प्रदेश में उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

चेन्नई में होने वाले भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा वनडे से जुड़े 6 रोचक आंकड़े लाड़ली बहना योजना का ऐसे उठाएं लाभ, हर महीने मिलेंगे 1000 रुपये