Home Tags Bhopal News

Tag: Bhopal News

Bhopal News : First of all Bhopal is a city in the central Indian state of Madhya Pradesh. It’s almost one of India’s greenest cities. There are mainly two main lakes, the Upper Lake and the Lower Lake. On the banks of the Upper Lake and Van Vihar National Park . Almost  home to tigers, lions and leopards. Therefore for news related to bhopal you should probably visit newbuzzindia.com.
Newbuzzindia the no 1 political news website for central india for bhopal news .
Tags for Bhopal News

Bhopal live news
Bhopal today news
Bhopal live news
News from bhopal
Hindi News Bhopal
Bhopal MP news
Bhopal headline news
Bhopal update news

भारत देश में मध्य प्रदेश राज्य की राजधानी है और भोपाल ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। भोपाल को झीलों की नगरी भी कहा जाता है क्योंकि यहाँ कई छोटे-बडे ताल हैं। भोपाल से जुड़े समाचारों के लिए क्लिक करें newbuzzindia.com

भोपाल समाचार
भोपाल न्यूज़
भोपाल न्यूज़ टुडे
भोपाल ताजा समाचार

छात्रों ने गांव- अस्पताल में बांटे खजूर

0
भोपाल के संत हिरदाराम नगर स्तिथ मिट्ठी गोबिंदराम पब्लिक स्कूल की कक्षा तीसरी से छठवीं तक के छात्रों ने ‘शेयरिंग एवं केयरिंग’ गतिविधि के अन्तर्गत गाँव दमानिया, परवलिया, बरखेड़ी एवं सिविल अस्पताल में भ्रमण किया। इस दौरानछात्रों ने गाँव के अभावग्रस्त, जरूरतमंद लोगों और संत हिरदाराम नगर स्थित सिविल अस्पताल के मरीजों को स्वास्थ्यवर्धक पिंड खजूर प्रसाद स्वरूप वितरित किया। इस कार्यक्रम का का मुख्य उद्देश्य छात्रों में निर्धन परिवारों के प्रति सहानुभूति एवं दयाभाव अपनाना रहा। इसके साथ ही इस कर्मक्र्म के माध्यम से विद्यालय ने छात्रों को यह अहसास कराया कि वे कितने भाग्यशाली हैं कि र्इश्‍वर ने उन्हें वो सब कुछ प्रदान किया है जो हर किसी के नसीब में नहीं होता।
कार्यक्रम के दौरान छात्रों को गाँव में उपस्थित प्राथमिक विद्यालय का भी भ्रमण कराया गया, जहाँ उन्होंने देखा कि छात्र जमीन पर बैठकर पढ़ार्इ कर रहे है। जिससे छात्रों को पता चला कि सुविधाओं के अभाव में भी वे लगन और शिद्दत के साथ शिक्षा अर्जित करने के लिए प्रयासरत हैं।

लखानी पब्लिक स्कूल की छात्राओं ने किया वृद्धाश्रम का दौरा 

0
हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी शहीद हेमू कालानी एजुकेशनल सोसायटी द्वारा संचालित नवनिध हासोमल लखानी पब्लिक स्कूल के कक्षा तीसरी व चौथी की छात्राओं ने वृद्धाश्रम और दृष्टिबाधित छात्रावास का दौरा किया। जहाँ उन्होंने अपने हाथों से सभी को खजूर के पैकेट वितरित किए। स्कूल की छात्राएं हर साल इन सभी शुभकार्यों के लिए ‘शेयर एंड केयर’ में स्वेच्छानुसार रुपए जोड़ते है। वहीं इस वर्ष उन रुपयों से छात्रों ने खजूर लेकर दृष्टिबाधित बच्चों के छात्रावास तथा वृद्धाश्रम के लोगों के साथ छात्राओं ने खुशियाँ बाँटी। इस दौरान छात्राओं ने वहाँ मौजूद लोगों के साथ मिलकर प्रार्थना गीत गाया और उनके साथ अनुभव साँझा किए।
दृष्टिबाधित छात्रावास के बच्चों ने गीत तथा स्वरचित कविता सुनार्इ, जिसे सभी के द्वारा सराहा गया। छात्राओं ने वहाँ जाकर कठिन परिस्थितियों के बावजूद जीवन में अग्रसर रहने की प्रेरणा ग्रहण करते हुए उन लोगों के प्रति सहानुभूति तथा सहयोग की भावना रखने के संस्कार ग्रहण किए।

संविधान बचाओ दिवस के तहत संगोष्ठी कल

0
cpi logo communist party of india

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा अपने देशव्यापी संविधान बचाओ दिवस के आह्वान पर ‘संवैधानिक मूल्यों पर संकट और हमारा दायित्व’ विषयपर गुरूवार को संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम का आयोजन भाकपा जिला ईकाई,राष्ट्रीय सेकुलर मंच, भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन व इंसानी बिरादरी संयुक्तरूप से कर रहा है। भाकपा जिला सचिव शैलेन्द्र कुमार शैली ने बताया कि हमने भारत केसंविधान की रक्षा के लिए कट्टरपंथी-प्रतिगामी-फासिस्ट ताकतों का कड़ा प्रतिरोध करनेके लिए आम जनता से आह्वान किया है।

‘रन भोपाल रन’ कार्यक्रम में हिस्सा लेने भोपाल आए टाइगर श्रॉफ और करीना कपूर

0

भोपाल में रविवार को आयोजित मैराथन ‘रन भोपाल रन’ में हजारों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया। मैराथन में हिस्सा लेने के लिए लोग सुबह-सुबह मोतीलाल नेहरू स्टेडियम पर पहुंच गए। जिसमें युवाओं के साथ-साथ महिलाओं  और सीनियर सिटीजन ने बड़-चड़कर हिस्सा लिया। मैराथन का आयोजन 3 केटेगरी में किया गया। जो 5 किलोमीटर, 11 किलोमीटर और 21 किलोमीटर की थी।

यह मैराथन मोतीलाल नेहरु से शुरू हुई और न्यू मार्केट के पास टी टी नगर स्टेडियम में समाप्त हुई। जहाँ बॉलीवुड एक्ट्रेस करीना कपूर और एक्टर टाइगर श्रॉफ ने मैराथन में भाग लेने वालों का स्वागत किया। कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए टाइगर श्रोफ और करीना कपूर का स्वागत मंच पर पौधे भेंट करके किया गया। मैराथन के माध्यम से क्लीन एंड ग्रीन भोपाल, ऑर्गन डोनेशन और रोड सेफ्टी का मैसेज दिया गया। कार्यक्रम में पहुंची करीना कपूर ने भोपाल की तारीफ करते हुए कहा कि भोपाल उनका दूसरे घर जैसा है और वह अक्सर यहां आती रहती हैं। कार्यक्रम में करीना ने लोगों को अंगदान और स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए भी प्रोत्साहित किया।

वहीं मैराथन में शामिल हुए लोगों को टाईगर ने फिट रहने के टिप्स दिए और भोपाल की हरियाली की तारीफ करते हुए कहा कि भोपाल, सुंदर और हरा-भरा शहर है। 

EPL में प्रदेश के प्रणय खरे ने 2 स्वर्ण समेत कुल 7 पदक

0

बेंगलुरु में आयोजित इक्वेस्ट्रीयन प्रीमियर लीग (ई.पी.एल) के जम्पिंग और ड्रेसाज इवेंट्स में घुड़सवारी का शानदार प्रदर्शन करते हुए मध्यप्रदेश घुड़सवारी अकादमी के खिलाड़ी प्रणय खरे ने दो स्वर्ण, एक रजत और 4 कांस्य पदक समेत कुल सात पदक जीते। प्रणय जहां ओपन केटेगरी में बेस्ट राइडर बने तो वहीं ओवर ऑल केटेगरी में सेकेण्ड पोजीशन का खिताब जीता. जिसके लिए उन्हें कैश प्राइज से भी नवाजा गया। गौरतलब है कि जून 2018 से नवंबर 2018 के बीच 6 ई.पी.एल. प्रतिमाह के अन्त आयोजन होता है।

इक्वेस्ट्रीयन प्रीमियर लीग (ई.पी.एल) का आयोजन एंबेसी इंटरनेशनल रायडिंग स्कूल बेंगलुरु में किया जाता है। जिसमें देश भर 150 घुड़सवार विभिन्न इवेंट्स में भागीदारी कर प्रतिभा प्रदर्शन करते हैं। लीग के तहत जम्पिंग और ड्रेसाज की प्रतियोगिताओं में अकादमी के खिलाड़ी प्रणय खरे ने हिस्सा लिया था। घुड़सवारी की विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रणय खरे अभी तक 125 पदक अर्जित कर चुके हैं जिनमे 51 स्वर्ण, 36 रजत और 32 कांस्य पदक शामिल हैं। संचालक खेल और युवा कल्याण डॉ एस.एल. थाउसेन ने प्रणय खरे द्वारा अर्जित उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त की है। प्रणय खरे अकादमी के चीफ कोच कैप्टन भागीरथ से घुड़सवारी खेल का प्रशिक्षण हासिल कर रहे हैं।

दिल्ली में भोपाल स्मार्ट सिटी को मिला बेस्ट पीपीपी अवार्ड

0

दिल्ली में आयोजित बिज़नेस वर्ड के छठे ‘स्मार्ट सिटीज कॉन्क्लेव एंड अवार्ड’ कार्यक्रम में भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड के स्मार्ट पोल प्रोजेक्ट को सर्वश्रेष्ठ पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप अवार्ड मिला है। अवार्ड को स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ श्री संजय कुमार ने प्राप्त किया। बता दें कि भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड द्वरा पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत पूरे शहर में स्मार्ट पोल लगाए गये है।

प्रोजेक्ट के अनुसार पूरे शहर में 400 पोल लगाए जाने है। 150 पोल लगाने के साथ ही प्रोजेक्ट के पहले फेस का काम पूरा हो चुका है। इन पोल्स की ख़ास-बात यह है कि इनका रियल-टाइम डाटा फाइबर केबल के माध्यम से कमांड-सेंटर में आता है। इसके साथ ही पोल्स में सर्विलेंस कैमरा, वेदर सेंसर, सूचा फ़्लैश करने लिए बिल बोर्ड, फ्री वाई फाई और ई-वाहन चार्जिंग के प्वाइंट दिए गए हैं। प्रोजेक्ट करीब 640 करोड़ रुपए का है। लेकिन इसमें भोपाल सिटी का एक भी पैसा नहीं लगा है।

ओलिंपिक खिलाड़ी एडरिन डिसूजा ने युवा खिलाडिओं को दी ‘गोलकीपिंग टिप्स’

0

भोपाल स्तिथित मेजर ध्यानचंद हॉकी खेल परिसर में शनिवार को ओलिंपिक खिलाड़ी एड्रियन डिसूजा ने युवा खिलाडियों को अच्छे गोलकीपर बनने की टिप्स और ट्रेनिंग दी। ट्रेनिंग में मध्यप्रदेश पुरूष एवं महिला हॉकी अकादमी तथा हॉकी फीडर सेन्टर के खिलाडियों ने हिस्सा लिया। जिनमे 20 बालक और 12 बालिका सहित कुल 32 खिलाड़ी शामिल हुए। संचालक खेल और युवा कल्याण डॉ एस.एल. थाउसेन ने बताया कि हॉकी खिलाड़ियों को गोलकीपिंग का उच्च स्तरीय प्रशिक्षण दिलाकर उन्हें राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से यह ट्रेनिंग दी जा रही है।

लगभग एक सप्ताह की ट्रेनिंग के दौरान खिलाड़ियों को एडरिन डिसूजा ने गोलकीपिंग की बारीकियां सिखाई और उन्हें अच्छे गोलकीपर बनने की तकनीकी जानकारी से रूबरू कराया। डिसूजा ने बताया कि अच्छा गोलकीपर बनने के लिए बेसिक जानकारी पता होना सबसे ज्यादा जरूरी हैएडरिन डिसूजा माइंड के साथ फोकस होना चाहिए और रनिंग और कीकिंग के दौरान किट में कम्र्फटेबल महसूस चाहिए। गोलकीपर को पेनाल्टी कार्नर, पेनाल्टी स्ट्रोक से बचाव के तरीके और अटैक के दौरान गोलकीपर के मूवमेंट की जानकारी होना जरूरी है। कूलिंग डाउन सहित तीन तरह की ट्रेनिंग का साल भर अभ्यास आवश्यक है।

बता दें की वर्ष 2004 एथेंन में हुए ओलंपिक गेम्स में एडरिन डिसूजा भारतीय टीम के गोलकीपर रहे थे।मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक श्री तुषार खंडकर ने बताया कि हमारे खिलाड़ियों को इस ट्रेनिंग के माध्यम से बहुत कुछ सीखने को मिला है। खिलाड़ियों की खेल प्रतिभा निखारने में यह प्रशिक्षण काफी लाभदायक साबित होगी। हॉकी अकादमी ग्वालियर की खिलाड़ी बिछु देवी ने बताया कि मुझे इस प्रशिक्षण से गोलकीपिंग की बारीकियां सीखने का अवसर मिला। ग्वालियर की ही सोनिया कुशवाह ने बताया कि इस ट्रेनिंग के माध्यम से मुझे अपनी बेसिक कमियों के बारे में जानने और उन्हें दूर करने का अवसर मिला। वहीं हॉकी अकादमी भोपाल के खिलाड़ी वैभव खुशलानी, पुलकित पाटीदार, धनराज सिंह, तुषार सिंह, सुनील यादव, साईं भोपाल के खिलाड़ी इस्लाम ईम्तयाज, डे-बोर्डिंग खिलाड़ी अमान खान आदि ने भी इस ट्रेनिंग को उपयोगी बताया और गोलकीपर विधा को निखारने में काफी मददगार बताते हुए प्रशिक्षण की सराहना की।

मिठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में छात्रों ने सीखा कैसे मनाएं दिवाली

0
Mithi Govindram Public School

भोपाल के बैरागड़ स्थित मीठी गोबिन्दराम पुब्लिस स्कूल में शनिवार को “सार्थक दीपावली कैसे मनाई जाए” विषय पर अभिप्रेरणात्मक सत्र आयोजित किया गया। कार्यक्रम में स्कूल के छात्रों को भावात्मक, उत्सव के उद्देश्य, प्रदूषण मुक्त, संवेदनशीलता के साथ दीपावली कैसे मनाएं बताया गया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्रों को शिक्षा के साथ-साथ मानवीय मूल्यों जैसे दया, परोपकार, कृतज्ञता, आदरभाव, देशभक्ति तथा समाज के प्रति अपने कर्तव्यों को जानने की भावना रोपित करना था। सत्र में पहली से आठवी कक्षा तक के छात्रों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से सिद्ध भाऊजी मौजूद थे। उनके साथ संस्था सचिव श्री ए.सी. साधवानी, संस्था सदस्य मनोहर वासवानी, विद्यालय कार्डिनेटर्स, शिक्षक-शिक्षिकाएँ और छात्र उपस्थित रहे। सिद्ध भाऊजी ने अपने उद्बोधन में कहा कि “शिक्षा अर्जन के साथ-साथ हमारे लिए मानवीय जीवन मूल्यों एवं श्रेष्ठ संस्कारों से युक्त भी होना चाहिए।

संस्कारित शिक्षा द्वारा ही मानव सुयोग्य पदों पर आसीन होकर परिवार, समाज व देश को सही दशा व दिशा प्रदान कर सकता है। पाठ्येतर गतिविधियाँ इस उद्देश्य प्राप्ति में सहायक बनती है। अत: अपने माता-पिता गुरू व बड़ो के प्रति सम्मान का भाव रखते हुए अपने लक्ष्य के प्रति अग्रसर हो तथा आगामी परीक्षा को दृष्टिगत रखते हुए तकनीकी साधनों जैसे मोबाईल से पूर्ण रूप से दूरी बनाए और आज ही मोबाईल अपनी माँ को दे दें और परीक्षा में शतप्रतिशत अंक लाने के लिए पूर्णमनों योग से जुट जाएँ ताकि अकादमिक स्तर पर भी श्रेष्ठतम् अंक प्राप्त हो सके।”

सिद्ध भाऊजी  के उद्बोधन के बाद विद्यालय प्राचार्य डॉ. अजय कांत शर्मा जी ने छात्रों को भाऊजी के द्वारा बताई गई बातों का पालन करने और पढाई को लेकर संकल्पित होने को कहा। कार्यक्रम में शामिल हुए छात्रों ने अपने अनुभव बांटते हुए कहा कि हमने इस दिवाली घर में रंगीन चाइनिज लाइटों का प्रयोग बंद कर दिया है। इसके साथ ही हमने बाजार की बनी मिठाइयों की जगह घर पर बनी मिठाई का सेवन किया तथा जरूरत मंद लोगों को वस्त्र, मिठाई, फल प्रदान किए ताकि वे भी प्रसन्नता पूर्वक त्योहार मना सकें। प्रदूषण रोकने के लिए हमने पटाखे  भी नहीं फोड़े।

अपनाये ये उपाय और दिन भर रहें ताजगी से भरपूर।

0

सुबह उठकर तरोताजा महसूस करने के लिए हल्का-फुल्का व्यायाम जरूर करना चाहिए, ताकि पूरे दिन शारीरिक, मानसिक रूप से ऊर्जावान बनी रह सकें। अकसर सुबह नींद खुलने पर आप थोड़ा सुस्त और आलस्य महसूस करते हैं, मन करता है कि बस थोड़ी देर और सो लें, कुछ देर यूं ही आंखें मूंदें पड़े रहें। तो श्वास संबंधी व्यायाम आपकी सुस्ती को दूर भगाने में मदद करता है।

दिल्ली की फिटनेस सलाहकार मिनी थापर सुस्ती दूर करने के लिए बताती हैं कि “फेफड़ों को पूरी तरह खोलने के लिए और भरपूर ऑक्सीजन ग्रहण करने के लिए कुछ देर गहरी सांसें लें। फर्श पर चटाई बिछाकर या तो बिलकुल सीधे खड़े हो जाएं या फिर पालथी मारकर बैठ जाएं। गहरी सांसें लें, ताकि आपके फेफड़ों में शुद्ध वायु प्रवेश कर सके। अपनी पसलियों को फैलाएं, सांस को भीतर फेफड़ों तक खींचें, थोड़ी देर ऐसे ही रहें। अब धीरे-धीरे अपनी नाक से सांस छोड़ें। इस प्रक्रिया को रोज सुबह पांच-दस मिनट तक दोहराएं।”

संकल्प की ताकत  


दिन की शुरुआत अगर सकारात्मक संकल्प से की जाएं तो यह आपको पूरे दिन रचनात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा। यदि आप कार्यस्थल और घर की तमाम समस्याओं को निपटाना चाहते हैं तो मन में कुछ संकल्प जरूर लें। लगातार मस्तिष्क में ये शब्द दोहराते समय इनमें छिपा संदेश आपके अवचेतन में जाकर समा जाता है और यह प्रत्यक्ष तौर पर फायदा पहुंचाता है।
  
सुबह कुछ देर किसी पार्क में जॉगिंग जरूर करें या तेज कदमों से चलें या फिर प्रकृति के बीच थोड़ी देर बैठें। दरअसल यही वह समय होता है जब आप अपने पूरे दिन के लिए ऊर्जा ग्रहण करते हैं। अब यदि आपने कोई संकल्प लिया है तो उस पर विचार करें। जैसे, ‘मैं जैसा हूं, उसी रूप में खुद से प्यार करता हूं’, ‘मैं ऑफिस में बॉस या सहकर्मियों के साथ बेहतर और खुशगवार संबंध रख सकता हूं’, ‘मैं दूध वाले या महरी से रोज की चिकचिक को आसानी से सुलझा सकता हूं’ या फिर ‘बच्चों की पढ़ाई-कैरियर को लेकर हमेशा बने रहने वाले तनाव को खत्म कर सकता हूं..।’
   
इन बातों को अवचेतन में दोहराते रहें, ठीक वैसे ही जैसे हम बच्चों से मुहावरे या कविता की पंक्तियां दोहराने को कहते हैं। जब भी कोई नकारात्मक विचार या सवाल जेहन में उठने को हो, अपने संकल्पों को दोहराएं।

दोपहर की थकान को बदलें चुस्ती में

दोपहर का समय वह होता है जब आपका ऊर्जा स्तर गिरने लगता है और खुद को दोबारा से ऊर्जावान बनाना जरूरी होता है। मिनी कहती हैं कि दोपहर के समय आप दस मिनट अपनी सभी अवांछित फाइल्स, कार्यक्रम, चिट्ठी-फोन और ईमेल निपटाने के बारे में सोचें। एक बार जरूरी कार्य निपट जाएं तो थोड़ा सुस्ता लें। कोई सुगंधित ऑयल लेकर माथे पर लगा लें, इससे आपको राहत महसूस होगी।

यूकेलिप्टस, लेमनग्रास या रोजमेरी के सुगंधित ऑयल की चार बूंद किसी छोटी सी बोतल में लें। इसमें आधा पानी भरकर आसपास इसका छिड़काव करें। घड़ी की दिशा के अनुसार अपने चारों ओर स्प्रे करें, कोने में, डेस्क या कंप्यूटर के आसपास भी स्प्रे कर सकते हैं।

काम के दबाव से बचने के लिए


मिनी थापर बताती हैं कि डेस्क या टेबिल पर कोहनी टिकाकर बैठें, हाथों को सीने के सामने से लाते हुए हथेलियों को गालों के ऊपर से लाते हुए  अपनी आंखें बंद करें। यदि आप घर में हैं तो लेटकर भी यह प्रक्रिया दोहरा सकते हैं, लेकिन अपने घुटनों को मोड़ लें। 

दोनों हथेलियों को तब तक साथ रगड़ें जब तक कि वे गर्म न हो जाएं और फिर उन्हें बंद आंखों के ऊपर रखें। गहरी सांसें भरें, इस तरह कि बंद आंखों के अंधेरे को महसूस कर सकें, थकी आंखों पर हथेलियों की गर्माहट का अनुभव करें। इसे महसूस करते हुए मस्तिष्क को खाली कर लें। गहरी सांसें लें, किसी भी समस्या और तनाव का अनुभव न होने पाए। पांच-दस मिनट तक ऐसा करें। शाम के समय भी कुछ ऐसा करें कि दिन भर की थकान मिट सके।

 

आसान क्रियाएं राहत पहुंचाएं

यदि आप दफ्तर से गर्दन और कंधे के दर्द के साथ लौटती हैं तो नियमित व्यायाम जरूरी है। ऐसा करने से मांसपेशियों के दर्द में चंद मिनटों में ही राहत मिल सकती है।
   
फर्श पर चटाई बिछाकर बैठें। गर्म तौलिए को गर्दन के चारों ओर लपेट लें। कुछ सेकंड तक ऐसे ही रहें। इस क्रिया को छह बार दोहराएं। 

तौलिए के दोनों किनारों को खींचकर पकड़ें और अपने कंधे के चारों ओर लपेटें। उंगलियों का हलका सा दबाव पिछले कंधे पर बनाए रखें। हथेलियों को इधर-उधर घुमाती रहें ताकि कंधे पर दबाव बना रहे। थोड़ी देर ऐसा करने के बाद तौलिया हटा लें। इसे छह बार दोहराएं। व्यक्ति स्वाभाविक तौर पर सदा स्वस्थ नहीं रह सकता, इसलिए फिट बने रहने के लिए निरंतर प्रयास की जरूरत होती है।

 

 

अपनाएं इन बातों को भी

फिट रहने के लिए योग-ध्यान, सुबह की सैर के साथ जरूरी है कि जो भी खाएं, शरीर की जरूरतों के हिसाब से खाएं। फिटनेस सलाहकार मिनी कहती हैं कि पाचन क्रिया सुचारु होनी चाहिए। थकान या सुस्ती होने पर लेटकर या बैठकर पीठ संबंधी व्यायाम करने से फायदा होता है। हमारा तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) मस्तिष्क से संचालित होता है, छिटपुट व्यायाम करने से दिमाग सक्रिय व सकारात्मक ढंग से सोचने लगता है, जिसका फायदा शरीर को होता है। यदि आप दिन भर कुर्सी पर बैठे रहते हैं तो अनुलोम-विलोम लाभदायक होगा। सुबह सूर्योदय से पहले खाली पेट प्राणायाम करना भी अछा होता है। कपालभारती व वज्रासन भी ठीक होता है।

QUICK BITES:

  • दिन भर तरोताजा रहने के लिए रात को पर्याप्त नींद लें।
  • हर रोज सुबह योग, व्यायाम या प्रणायाम की आदत डालें।
  • खुश रहना सीखें इससे आप हमेशा तरोताजा रहेंगे।
  • तनावमुक्ति के उपाय अपनाएं और खुश रहे





तनावमुक्ति के लिए कुछ अन्य क्रियाएं कर सकते हैं:



1. कुर्सी पर बिलकुल सीधी बैठें, आंखें बंद करें और भीतर से गहरी सांस लें। 
2. धीरे-धीरे सांस लेते हुए महसूस करें कि तपती दुपहरी में आप मैदान में बैठे हैं। आसमान साफ नीला है, लेकिन बादल का एक घना टुकड़ा सूरज को ढांप रहा है। ठीक यही दृश्य अपने शरीर के आसपास भी स्थित करके सोचें कि वहां भी कोई बादल का टुकड़ा है, जो उस चुस्ती को कम कर रहा है।  
3. देखें कि बादलों का वह घना टुकड़ा छोटा और छोटा होता जा रहा है, सूरज साफ चमकने लगा है, इसकी गर्माहट को तब तक महसूस करें जब तक कि सूरज बादल के आखिरी टुकड़े को नहीं मिटा डालता, जब तक कि शरीर में दर्द का-तनाव का-दबाव का थोड़ा सा भी अंश बचा रह जाता है। अब पूरे शरीर में सूरज की पीली ऊर्जा देने वाली रोशनी को महसूस करें। 
4. जूते-मोजे उतार लें, हरी घास पर नंगे पैर टहलें। पृथ्वी की ऊर्जा महसूस करें, ताजा हवा भीतर खींचें। हरियाली को आंखें बंद कर कल्पना में महसूस करें।  
5. पांच-दस मिनट तक घास पर टहलें, मिट्टी की सोंधी गंध को नथुनों से-फेफड़ों से खींचें।

शक के घेरे में भोपाल एनकाउंटर, सबूत के आभाव में रिहा होने वाले थे मारे गए युवक

0

image

भोपाल सेंट्रल जेल से फरार हुए सिमी कार्यकर्ताओं को जेल से तकरीबन 10 किलोमीटर दूर पुलिस ने मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है।

इस ख़बर के देश भर में फैलने के बाद तमाम न्यूज़ पोर्टल और पत्रकारों ने सवाल खड़ा शुरू किया ही था कि इस बीच सीपीआई नेता अमीक जामेई ने सिमी कार्यकर्ताओं के एंकाउंटर को साजिश बताया है।

अमीक जामेई देश मे निर्दोष मुस्लिम युवाओ की रिहाई की तहरीक मे शामिल रहें हैं और पिछले कई महीनो से जेलों में बंद निर्दोष युवाओ से देश में मुलाक़ात करते रहें हैं।

Also Read: 13 तथ्य जो भोपाल में हुए 8 आतंकियों के एनकाउंटर को फर्जी साबित कर रहे है !

जामेई का कहना हैं कि भोपाल सेन्ट्रल जेल में कुछ कैदी अगली अदालत की तारीखों मे छूटने वाले थे क्योंकि इनके खिलाफ दर्ज मामलो में पुलिस पुख्ता सबूत नहीं जुटा पाई थी।

अमीक जामेई ने आगे बताया कि ‘मैं हाल में जयपुर व जोधपुर के केंद्रीय कारागार मे बंद निर्दोष युवाओ से मिलने गया था और तजर्बे के आधार पर कह सकता हूँ कि आतंक के आरोप में बंद किसी भी कैदियों की जेलों में सुरक्षा व्यवस्था इतनी सख्त होती है कि बिना किसी साजिश के कोई परिंदा भी वहां पर नहीं मार सकता। उन्होंने ने कहा कि ऐसे इल्ज़ाम मे बंद क़ैदियो की बैरक पर सीसीटीवी कैमरे की नज़र होती है।

जामेई ने कहा कि इन युवाओं का नाम सिमी से जोड़कर फंसाने वाले अधिकारी बेनकाब होने वाले थें इसलिए उन्होंने खुद को बचाने के लिए पहले इन्हें गोलियों से भुना फिर गोली मारकर मुठभेड़ का नाम दे दिया।

उन्होंने ने कहा कि आला अधिकारियों के इस षड्‍यंत्र में पुलिस के एक गार्ड को भी अपनी नौकरी से हाथ धोना पडा।

जामेई ने मांग किया है कि सेन्ट्रल जेल में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज शिवराज सरकार देश के सामने रखे।

सोशल मीडिया पर जुड़ें

38,238FansLike
0FollowersFollow
1,270FollowersFollow
1FollowersFollow
1,256FollowersFollow
785FollowersFollow

Recent Posts

708 POSTS0 COMMENTS
143 POSTS0 COMMENTS
47 POSTS0 COMMENTS
1 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS
0 POSTS0 COMMENTS