fbpx
Wednesday, May 12, 2021

जनता की जगह मंत्री रख रहे है अपने ही परिवार का ध्यान, पत्नी को दिया यह पद

मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी की पत्नी डॉ नीरा चौधरी को भोपाल में संयुक्त स्वास्थ्य संचालक का प्रभार दिया जाने पर लेकर सियासत गरमा गई है। आरोप लग रहे हैं कि कई सीनियर डॉक्टर्स को दरकिनार करते हुए प्रभुराम चौधरी की पत्नी नीरा चौधरी को ये जिम्मेदारी दी गई है।

असफल है मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री

भोपाल सीएमएचओ की नियुक्ति पर भी काँग्रेस के पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने स्वास्थ्य मंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि प्रभुराम चौधरी एक असफल स्वास्थ्य मंत्री हैं। और पूरे परिवार को स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी देकर सभी को खतरे में डाला जा रहा है। स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा जाएगी। इस बड़ी आपदा में इस प्रकार के कदम उठाना जनता को मौत के मुँह में धक्का देने के समान हैं।

गृह मंत्री लेते हैं स्वास्थ्य विभाग के फैसले

सज्जन सिंह वर्मा ने यह भी कहा कि प्रभुराम चौधरी खुद स्वास्थ्य विभागों का फैसला नहीं ले पाते हैं। खुद गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा स्वास्थ्य विभाग का फैसला लेते हैं। प्रभुराम चौधरी को स्वास्थ्य विभाग में फैसले लेने का कोई अधिकारी नहीं है। अब जिस व्यक्ति को अधिकार ही नहीं है, वह क्या स्वास्थ्य व्यवस्था को ठीक करेगा ?

एमपी में चल रहा है परिवार वाद

मध्यप्रदेश में परिवार वाद का तांडव चल रहा है। बीजेपी के नेता कहते हैं कि पार्टी में कोई परिवार वाद नहीं है, कई अच्छे डॉक्टर को दरकिनार कर नीरा चौधरी जो की प्रभुराम चौधरी की पत्नी है जिनकों यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह चमत्कारी और बिके हुए लोग हैं और स्वास्थ्य विभाग से पैसा कमाने के लिए ही अपनी पत्नी को यह पद सौंपा गया हैं।

ताजा समाचार

Related Articles