fbpx
Saturday, July 11, 2020

भाजपा को झटका, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वघेला यूपीए में हुए शामिल

Newbuzzindia Desk
Editorial Desk of Newbuzzindia.com

जरूर पढ़ें

उमा भारती का सरकार से सवाल, महाकाल परिसर तक कैसे पहुंचा विकास दुबे ?

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने विकास दुबे के मामले में...

कानपुर के जघन्य हत्याकांड में यूपी सरकार पूरी तरह फेल साबित हुई: प्रियंका गांधी

यूपी का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर और कानपुर में आठ पुलिस जवानों की हत्या के आरोपी विकास दुबे...
India
821,493
Total confirmed cases
Updated on July 10, 2020 11:49 pm

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वघेला ने मंगलवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए। पार्टी की सदस्यता लेते हुए वाघेला ने कहा कि ऐसे वक़्त जब भाजपा के शासन में देश के लोकतंत्र को ख़तरा है, मैंने भाजपा के ख़िलाफ़ लड़ने और भाजपा विरोधी ताकतों का हाथ मज़बूत करने के लिए एनसीपी में शामिल होने का फैसला किया है। बता दें कि वाघेला ने मंगलवार को शरद पवार की मौजूदगी में उनकी पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) की सदस्यता ली। जिसके बाद वघेला को एनसीपी को राष्टीय महासचिव बनाया गया है।

वघेला का स्वागत करते हुए पवार ने कहा कि राकांपा गुजरात में और राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी की प्रगति के लिए वाघेला के राजनीतिक अनुभवों का इस्तेमाल करेगी। मैंने वाघेला को गुजरात के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर राकांपा की प्रगति के लिए अपना योगदान देने को कहा है। वह पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव होंगे। गुजरात में हम भाजपा विरोधी ताकतों को मज़बूत करना चाहते हैं और वाघेला को लाकर हमने ऐसी कोशिश की है।

लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर सवाल पर वघेला ने कहा कि इसका फैसला पार्टी को करना है। वहीं जानकारों का कहना है कि बघेला के एनसीपी में शामिल होने से गुजरात में लोकसभा की कुछ सीटों पर मुकाबला त्रिकोणीय हो सकता है।

गुजरात में लोकसभा की सभी 26 सीटों पर फिलहाल भारतीय जनता पार्टी का क़ब्ज़ा है। 78 वर्षीय क्षत्रिय नेता ने 2017 में गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस छोड़ दी थी। इससे पहले उन्होंने और उनके समर्थक कुछ विधायकों ने राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल के ख़िलाफ़ वोट दिया था और भाजपा समर्थित उम्मीदवार बलवंत सिंह राजपूत का समर्थन किया था।

हालांकि, वाघेला सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल नहीं हुए और दिसंबर 2017 के राज्य विधानसभा चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवारों को उतारा था लेकिन उनके सारे उम्मीदवार हार गए। हाल में उन्होंने दिल्ली सहित कई स्थानों का दौरा किया और कहा कि वह केंद्र में भाजपा नीत सरकार को हराने के लिए काम करेंगे. वाघेला 1996 में कांग्रेस के समर्थन से राज्य के मुख्यमंत्री बने थे।

Facebook Comments

इसी तरह के समाचार सबसे पहले पाने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज। साथ ही ट्विटर, इंस्ग्राटाम और गूगल न्यूज पर फॉलो करें। हमें लेख या प्रेस विज्ञप्ति भेजने के लिए editor.newbuzzindia@gmail.com पर इमेल करें।

हमसे जुड़ें

37,499FansLike
1,189FollowersFollow
11,454FollowersFollow
767FollowersFollow
15SubscribersSubscribe

ताजा समाचार

उमा भारती का सरकार से सवाल, महाकाल परिसर तक कैसे पहुंचा विकास दुबे ?

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने विकास दुबे के मामले में...

कानपुर के जघन्य हत्याकांड में यूपी सरकार पूरी तरह फेल साबित हुई: प्रियंका गांधी

यूपी का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर और कानपुर में आठ पुलिस जवानों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को गुरुवार की सुबह मध्य...

लेह में भारतीय सेना प्रधानमंत्री मोदी को संबोधन, पढ़ें संबोधन का मूल पाठ

भारत माता की – जय भारत माता की – जय साथियों, आपका ये हौसला, आपका शौर्य,...

भारत के दुश्मनों ने हमारी सेना की शक्ति और उसकी प्रचंडता देखी है: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज भारतीय जवानों के साथ बातचीत करने के लिए लद्दाख में निमू की यात्रा की। लद्दाख में निमू...

रायगढ़ के फोर्टिस-ओपी जिन्दल अस्पताल का विस्तार, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया शिलान्यास

छत्तीसगढ़ की औद्योगिक राजधानी रायगढ़ के फोर्टिस ओपी जिन्दल अस्पताल के विस्तार का आगाज हो गया। इसमें अतिरिक्त 85 बेड की व्यवस्था...
Facebook Comments
Skip to toolbar