image

Newbuzzindia : जी हाँ आपने सही सुना , मैं देशभक्त नही बनना चाहता हूँ । इससे पहले की आप लोग इसका कारण सोचें मैं आपको बता दूं कि में कश्मीर में नही रहता हूँ और न ही मेरे नाम के बाद खालिद या खान लगा हुआ है । मैं कन्हैया कुमार की तरह कम्युनिस्ट पाट्री से भी नही हूँ और न ही में दलित हूँ । मैं तो मध्यप्रदेश का रहने वाला हूँ और हमारे प्रधानमंत्री जी के तरह एक बनिया आदमी हूँ ।

दरअसल देशभक्ति की बहस के दौरान आज कल लोग देशभक्त बनने के लिए नए-नए तरीके खोज रहे है । कुछ लोग मुस्लिम कलाकारों को गरिया रहे है तो कुछ लोग मोदी जी की भक्ति कर रहे है । कुछ लोग “जय श्री राम” और “भारत माता की जय” बोलकर भी देशभक्त बन रहे है । देशभक्तों के भक्तों की भी कमी नही है । इसलिए मैंने भी देशभक्त बनने का मन बना लिया था ।

सबसे पहले मैंने पता किया कि आखिर देशभक्त बनने के लिए किस चीज़ की जरुरत होती है ? क्या कोई डिग्री है जिसे लेकर मेरे नाम के आगे देशभक्त लग जाए ? क्योंकि मुझे कोई सही जवाब नही मिला तो मैं ऐसी जगह गया जहां सबसे ज्यादा देशभक्त रहते है और अपनी देशभक्ति का प्रदर्शन करते है । ये जगह कोई शहर या राज्य नही है ये जगह है “फेसबुक” ।

मैंने फेसबुक पर देशभक्त बनने के तरीके ढूंढने शुरू किए । कई देशभक्तों को मैंने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी और कई देशभक्तों को फॉलो किया । मैंने ये पता लगाने की कोशिश करी की आखिर वो क्या चीज़ है जिससे देशभक्त बना जा सकता है । फेसबुक ने मुझे देशभक्त बनने के कई रास्ते दिखाए लेकिन उस रास्ते पर चलने से पहले ही फेसबुक मुझे रोक लिया करता था । जैसे-

* मैंने फेसबुक पर देखा की “50 लाख दान करने वाले अक्षय कुमार देशभक्त है” लेकिन सबसे ज्यादा दान देने वाले शाहरुख़ खान पाकिस्तानी एजेंट है ।

* मैंने सुना की गौ रक्षा करने वाले सच्चे देशभक्त होते है । लेकिन मोदी जी कहते है कि गौ रक्षा करने वाले लोग गुंडे होते है ।

* मुझे लोगों ने बताया कि देश के लिए लड़ने और देश के लिए जान देने वाले देशभक्त होते है । लेकिन जब मैंने देखा तो देश की आजादी के लिए जान देने वाले तो आज देशद्रोही कहला रहे है और जो देश के लिए नही लड़े वह लोग आज देशभक्त बने बैठे है ।

इतने सब के बाद में उदास हो गया । मैंने सोचा की अब में कभी देशभक्त नही बन पाउँगा । मेरे नाम के आगे कभी देशभक्त नही लग पाएगा ।  तभी फेसबुक ने मुझे एक और रास्ता दिखाया । जैसे कोई नया ऑफर चल रहा हो । मैंने देखा की सच्चे देशभक्त चीन में बने सामान का बहिष्कार कर रहे है । मैंने सोचा की यह सही मौका है देशभक्त बनने का ।

मैंने भी मन बना लिया की इस दिवाली में चीन में बना कोई सामान नही खरीदूंगा और देशभक्त कहलाऊंगा । मैं अब बहुत खुश हो गया कि मैं भी इस दिवाली देशभक्त कहलाऊंगा । तभी मुझे पता चला की सबसे बड़े देशभक्त मोदी जी “सरदार पटेल” जी की मूर्ति चीन को 300 करोड़ देकर बनवा रहे है ।

इतना सब जानने के बाद में एक बात तो समझ गया कि देशभक्त बनना आसान काम नही है । वह बहुत महान लोग है जो देशभक्त बन पाते है । तो मैंने मन बना लिया है कि देशभक्त बनने जैसा महान काम मुझसे नही होने वाला है । अगर आपको देशभक्त बनने का कोई आसान तरीका मिले तो मुझे ईमेल करके जरूर बताएं । मेरा ईमेल है – rohit.newbuzzindia@gmail.com

Loading...