fbpx
बुधवार, जनवरी 27, 2021

मध्यप्रदेश में अब व्यापम से भी बड़ा घोटाला, सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भी नही हुई जांच !

Newbuzzindia: एसआईटी की गिरफ्त में आने के बाद योगेश उपरीत के खुलासे से सरकार पर जांच कराने के लिए दबाव बना था, लेकिन खुलासे के 10 महीने के बाद भी जांच शुरू नहीं की गई है।

जबकि डीमैट घोटाले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बहुत ही तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था कि “व्यापम घोटाले से भी कई गुना बड़ा डीमैट घोटाला है”

उम्मीद की जा रही थी कि योगेश उपरीत के खुलासे के बाद सरकार भले ही सरकार ने मामला सीबीआई का नहीं सौंपा हो, लेकिन एसटीएफ से जांच जरूर कराएगी। सरकार जांच कराने में रुचि लेती तो निजी मेडिकल कॉलेजों पर कानून का शिकंजा कसने के साथ-साथ रसूखदारों की संतानें भी मेडिकल कॉलेज के कैंपस से सीधे सलाखों के पीछे नजर आतीं।

एक नजर डीमैट के सिस्टम पर
– 2003-2004 में योगेश उपरीत व्यापमं के निदेशक थे।
– रिटायर होने के बाद जबलपुर में निजी डेंटल कॉलेज शुरू किया, जिससे आसानी से एपीडीएमसी
के सदस्य बन गए।
– एपीडीएमसी का कोषाध्यक्ष और परीक्षा नियंत्रक की जिम्मेदारी सौंपी गई।
– परीक्षा से पहले ही तय हो जाती थी चयनित होने वाले छात्रों की सूची।
– यह सूची निजी मेडिकल कॉलेज से उपरीत के पास पहुंच जाती थी, परीक्षार्थियों को हिदायत थी कि वे ओएमआर शीट खाली छोड़ आएं।
– परीक्षा के बाद गोले काले कर इन छात्रों को पास किया जाता था।

ऐसे सामने आया घोटाला
व्यापमं घोटाले की जांच के लिए गठित ग्वालियर एसआईटी के हाथ दलाल अतुल शर्मा आया। उसी ने खुलासा किया कि जबलपुर के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. एमएस जौहरी की बेटी डॉ. ऋचा का पीजी में दाखिला फर्जीवाड़े से हुआ है। इसमें नितिन महेंद्रा की प्रमुख भूमिका है।

नितिन ने एमपीडीएमसी (एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट डेंटल एंड मेडिकल कॉलेजेस, मप्र) के कोषाध्यक्ष व परीक्षा नियंत्रक रहे योगेश उपरीत का नाम लिया। एसआईटी ने उपरीत को 3 जून 2015 को गिरफ्तार किया। अगले ही दिन 72 साल के योगेश उपरीत ने खुलासा किया कि डीमैट परीक्षा नाम के लिए होती है।

चयन सूची तो पहले से निजी मेडिकल कॉलेज उनके पास भेज देते थे। जिन्हें गोले काले कर पास
करना होता था। 2009 से 2014 के बीच 10 हजार करोड़ का लेन-देन डीमैट से हुआ है। योगेश उपरीत ने यह खुलासा सिर्फ एसआईटी के सामने ही नहीं किया, बल्कि एसटीएफ के सामने भी किया, लेकिन सभी खामोश हो गए।

NewBuzzIndia से फेसबुक पे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें..
**Like us on facebook**
[wpdevart_like_box profile_id=”858179374289334″ connections=”show” width=”300″ height=”150″ header=”small” cover_photo=”show” locale=”en_US”]

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह,...

शुक्रवार को भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन में पुलिस प्रशासन ने की यह बड़ी कार्यवाही

किसानों का प्रदर्शन पूरे भारत मे अब उर्ग हो चुका है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) ने भी किसानों के खिलाफ प्रशासन को...

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस...

Related Articles

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह,...

शुक्रवार को भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन में पुलिस प्रशासन ने की यह बड़ी कार्यवाही

किसानों का प्रदर्शन पूरे भारत मे अब उर्ग हो चुका है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) ने भी किसानों के खिलाफ प्रशासन को...

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस...