Monday, June 5, 2023

मदरसों को लेकर सख्त हुई प्रदेश सरकार, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को सोशल मीडिया पर नजर रखने के दिए निर्देश

भोपाल। मध्यप्रदेश में मदरसों को लेकर सरकार अब सख्त कदम उठाने जा रही है। बुधवार को हुई कानून व्यवस्था की बैठक में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया है कि कट्टरता का पाठ पढ़ाने वाले संस्थानों और अवैध मदरसों का अब सरकार रिव्यु कराएगी। एमपी में कट्टरता और आंतकवाद को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सीएम ने अधिकारियों को सोशल मीडिया पर नजर रखने को कहा है।

दरअसल सीएम शिवराज ने प्रदेश में कानून-व्यवस्था को लेकर बड़ी बैठक की। इस दौरान बेहतर रूप से काम करने वाले पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को बधाई दी। वहीं कट्टरता का पाठ पढ़ाने वाले अवैध मदरसों और संस्थानों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश भी दिए। सीएम ने कहा कि मुझे मध्यप्रदेश पुलिस पर गर्व है। पुलिस ने पिछले दिनों अच्छा काम किया है। बालाघाट में नक्सलवादियों से निपटने में पुलिस भी भागीदारी काबिल-ए-तारीफ रही है।

बुरहानपुर के नेपानगर में अतिक्रमण हटाने के दौरान पुलिस का काम सराहनीय था। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए कि इस तरह की समस्याओं को मूल रूप से खत्म करना होगा। पिछले दिनों पुलिस की मुस्तैदी की वजह से त्योहार शांतिपूर्वक संपन्न हुए। नई शराब नीति के तहत अहाते बंद हो गए हैं, और अब असामाजिक तत्व सार्वजनिक जगहों पर शराब न पिएं, इस पर नजर रखने के आदेश दिए।

मुख्यमंत्री के अवैध मदरसों पर दिए बयान को लेकर कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष अब्बास हफीज ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि जब 20 साल सत्ता में रहने के बाद स्वास्थ्य, शिक्षा, रोज़गार, महगाई जैसे मुद्दों पर सरकार फेल हो जाए तो चुनाव जीतने के लिए हिंदू-मुस्लिम के सिवा कोई फॉर्मूला नहीं रह जाता है। मध्यप्रदेश मरदसा बोर्ड को पिछले 15 साल में अपंग करने वाले मुख्यमंत्री आज मदरसे की बात कर रहे हैं। आज प्रदेश में मदरसा बोर्ड पूरी तरह बंद पड़ा है।

ताजा समाचार

Related Articles

चेन्नई में होने वाले भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा वनडे से जुड़े 6 रोचक आंकड़े लाड़ली बहना योजना का ऐसे उठाएं लाभ, हर महीने मिलेंगे 1000 रुपये