fbpx
Wednesday, September 30, 2020

इस शर्त पर समाजवादी पार्टी के साथ आने को तैयार शिवपाल यादव

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

राजस्थान: अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को विधानसभा में मिला विश्वासमत

लगभग 1 महीने चले राजनैतिक ड्रामे के बाद आज हुई हुए विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस ने...

कोर्ट की अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण दोषी करार, 20 को सजा पर फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

अदालत की अवमानना मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है।...

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (पीएसपी) के प्रमुख शिवपाल यादव ने आज मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि वह 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार हैं।

शिवपाल यादव, जो समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह के छोटे भाई और पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के चाचा हैं, ने कहा कि उनकी पार्टी विधानसभा चुनावों के लिए सपा के साथ गठबंधन कर सकती है, लेकिन वह समाजवादी पार्टी में दोबारा शामिल नहीं होंगे ।

पत्रकारों से बात करते हुए शिवपाल ने कहा, “जब चारों ओर चुनाव होंगे, तो गठबंधन की बातचीत होगी लेकिन हम समाजवादी पार्टी में वापस नहीं जाएंगे। हम उन लोगों से बात करेंगे जो हमारे साथ सहयोगी बनना चाहते हैं।

बता दें कि अप्रैल-मई में हुए लोकसभा चुनावों में सपा की हार के बाद मुलायम सिंह ने चाचा-भतीजे को एक साथ लाने के प्रयास किए थे। चुनाव में यादव कबीले के तीन सदस्य-डिंपल यादव, धर्मेंद्र यादव और अक्षय यादव चुनाव हार गए और लोकसभा में पार्टी की संख्या पांच हो गई।

जिसके बाद, बहुजन समाज पार्टी ने भी सपा के साथ गठबंधन तोड़ते हुए घोषणा की कि वह अपने दम पर सभी चुनाव लड़ेगी। बसपा ने अपनी दलित विरोधी नीतियों के लिए सपा को भी जिम्मेदार ठहराया।

सूत्रों के अनुसार सपा के वरिष्ठ नेताओं को लगता है कि अगर दोनों नेताओं ने हाथ मिला लिया तो सपा कुछ हद तक मजबूत हो जाएगी और खुद को एक हद तक पुनर्जीवित कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

Related Articles

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...