Sunday, September 25, 2022

जल्द हो सकता है बड़ा एलान, सोनिया गांधी के साथ 10 जनपथ में हुई प्रशांत किशोर की बैठक

भाजपा, टीएमसी, कांग्रेस, शिवसेना, वायएसआर कांग्रेस और जेडीयू जैसे दलों के साथ काम कर चुके रणनीतिक सलाहकार प्रशांत किशोर जल्द ही बड़ा एलान कर सकते है। 10 जनपथ पर प्रशांत की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ हुई मुलाकात हुई। जिसके बाद उनके पार्टी में शामिल होने की अटकले शुरू हो गई है। बता दें कि बैठक में कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता भी मौजूद हैं।

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर हुई यह बैठक करीब 4 घंटे तक चली। बैठक में प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेताओं को प्रेजेंटेशन दिया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि 2024 में होने वाले चुनाव को लेकर प्रशांत किशोर ने एक प्रेजेंटेशन पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और कुछ बड़े नेताओं के सामने पेश की। इस प्रेजेंटेशन पर समीक्षा के लिए टीम बनाई जाएगी, जो कुछ समय बाद अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और उसके बाद आखिरी निर्णय लिया जाएगा।

बताया जा रहा है कि प्रशांत किशोर ने अपने प्रजेंटेशन में कहा कि कांग्रेस पार्टी को 370 सीटों पर ध्यान देना चाहिए। कांग्रेस को यूपी, बिहार और ओडिशा में अकेले लड़ना चाहिए। तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में कांग्रेस को गठबंधन में लड़ना चाहिए। प्रशांत किशोर की बातों पर राहुल गांधी ने भी सहमित जताई है। सूत्रों के मुताबिक, प्रशांत किशोर आने वाले दिनों में कांग्रेस में शामिल हो सकते है, लेकिन उन्होंने पार्टी में कोई खास पद नहीं मांगा है।

इस बैठक में शामिल होने वाले नेताओं में मल्लिकार्जुन खड़गे, एके एंटनी, अंबिका सोनी, केसी वेणुगोपाल, जयराम रमेश, मुकुल वासनिक, दिग्विजय सिंह और अजय माकन शामिल हैं। पिछले कुछ दिनों से अटकलें हैं कि प्रशांत किशोर को गुजरात चुनाव में कांग्रेस बड़ी भूमिका दे सकती है। इससे पहले एक इंटरव्यू में खुद प्रशांत ने मई में अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर बड़ा एलान करने की बात कही थी।

मीडिया में चल रही रिपोर्ट की माने तो प्रशांत किशोर की टीम गुजरात में सर्वे भी कर रही है। इस बैठक से पहले प्रशांत किशोर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी मिल चुके हैं।

गुजरात-हिमाचल प्रदेश चुनाव पर नजर

गौरतलब है कि इस साल के अंत में भाजपा के सामने गुजरात और हिमाचल प्रदेश को बचाने की बड़ी चुनौती होगी। दोनों ही राज्यों में उसके सामने कांग्रेस टक्कर में नजर आएगी। ऐसे में सोनिया और राहुल गांधी इन दोनों ही राज्यों में पार्टी की स्थिति मजबूत करने की कोशिश करेंगे।

ताजा समाचार

Related Articles