Monday, June 21, 2021

NCRB ने खोली शिवराज सरकार की पोल, बलात्कार के 4482 मामलों के साथ मध्यप्रदेश बना नंबर 1

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लाड़ली लक्ष्मी और मुख्यमंत्री कन्यादान जैसी योजनाओं की वजह से प्रदेश में काफी लोकप्रिय है। प्रधानमंत्री मोदी भी कई मौकों पर शिवराज सरकार की तारीफ कर चुके है। महिला सुरक्षा को लेकर भी मुख्यमंत्री बड़े-बड़े दावे करते है लेकिन एनसीआरबी की ताजा रिपोर्ट ने शिवराज सिंह चौहान के सारे दावों की पोल खोल दी है। 
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की वर्ष 2016 की ताजा रिपोर्ट के अनुसार मध्यप्रदेश में बालिकाएं और महिला सुरक्षित नही है। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2016 के दौरान देश में बलात्कार के कुल 38,947 मामले दर्ज किए गए जो 2015 के मुकाबले 4296 ज्यादा है। जिसमे से अकेले मध्यप्रदेश में बलात्कार के 4882 मामले दर्ज किए गए। 

2015 की रिपोर्ट में भी मध्यप्रदेश रहा था नंबर 1

वर्ष 2015 की एनसीआरबी रिपोर्ट में भी मध्यप्रदेश नंबर 1 रहा था। रिपोर्ट के मुताबिक 2015 में प्रदेश के अंदर बलात्कार के 4391 मामले दर्ज किए गए थे। 
बलात्कार के 4882 मामलों में से 4789 मामलों में बलात्कारी पीड़ित का जानने वाला रहा है। मध्यप्रदेश में 35 मामले ऐसे भी है जहाँ बलात्कार करने वाला पीड़ित का पिता/दादा/भाई/बेटा रहा है, वहीं 1115 मामलों में बलात्कारी पीड़ित का पड़ोसी रहा है।  

अरुण यादव ने साधा निशाना ।

रिपोर्ट के सामने आते ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने शिवराज सरकार पर हमला बोलते हुए ट्विटर पर लिखा  कि 

’12 साल बेमिसाल: NCRB ने शिवराज की कथनी और करनी की खोली पोल, केंद्र की सरकार भी आपकी और रिपोर्ट भी आपकी, 4482 बलात्कार के मामलों के साथ मप्र फिर देश मे नंबर 1′
अब आगे क्या ?

पिछले साल एनसीआरबी रिपोर्ट के बाद शिवराज सरकार की काफी आलोचना हुई थी जिसके बाद सरकार के कई मंत्रियों ने कहा था कि ‘ मध्यप्रदेश लिस्ट में सबसे ऊपर इसलिए है क्योंकि यहां मामले आसानी से दर्ज किए जाते है। इस बार भी सरकार से कुछ ऐसी ही उम्मीद है। 

ताजा समाचार

Related Articles