fbpx
Thursday, September 24, 2020

हिन्दू बुजुर्ग की मौत पर मुस्लिमों ने किया अंतिम संस्कार, हांथों से नहलाया और घर पर बनाई अर्थी

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

राजस्थान: अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को विधानसभा में मिला विश्वासमत

लगभग 1 महीने चले राजनैतिक ड्रामे के बाद आज हुई हुए विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस ने...

कोर्ट की अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण दोषी करार, 20 को सजा पर फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

अदालत की अवमानना मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है।...

देश में कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप और सांप्रदायिक तनाव के बीच मुम्बई से इंसानियत को गर्वान्वित करने वाली तस्वीर सामने आई है जहाँ बांद्रा के गरीब नगर के लोगों ने बड़ा दिल दिखाया। मुस्लिम बहुल इस बस्ती में हिन्दू बुजुर्ग की मौत होने के बाद पड़ोसी मुस्लिमों ने पूरे हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार करवाया। जिसमें मुस्लिमों ने ही अपने हाथों से बुजुर्ग को नहलाया, सामान लाकर अर्थी बनाई और कंधे देकर श्मशान भूमि ले जाकर पंचतत्व में विलीन भी किया।

लॉकडाउन के कारण नही आ सके रिश्तेदार


ऐसा नहीं था कि उस बुजुर्ग के परिवार का कोई नहीं था। बुजुर्ग का एक बेटा है पर उसे अपने रीति रिवाजों की जानकारी नहीं थी और दूसरे भाई-बहन लॉकडाउन में मुबंई से बाहर फंसे हैं, जहाँ से वो आ नही सकते थे। 3 अप्रैल को गरीब नगर में रहने वाले 68 साल के प्रेमचंद की मौत हो गई। जिस बेटे मोहन के साथ वो रहते थे। उसे अपने रीति रिवाज की जानकारी नहीं थी और दूसरे भाई नाला सोपारा में रहते हैं तो वो आ नहीं सकते थे। मोहन ने बताया कि मैं बचपन से ही गरीब नगर बस्ती में रहता हूं, मुझे ज्यादा जानकारी नहीं थी और लॉकडाउन की वजह से अपने लोगों की मदद भी नामुमकिन थी। तब आसपड़ोस के मुस्लिम परिवारों ने मिलकर अंतिम संस्कार में मदद की।

गरीबनगर के अमीर दिलवालों ने पेश की सामाजिक एकता की अनोखी मिसाल। बुजुर्ग प्रेमचंद की मौत पर जब अकेला बेटा अंतिम संस्कार करने में असमर्थ था तब पड़ोसी मुसलमानों ने शव को नहवाया, टिकठी बनाई,अर्थी को कंधे पर उठाया और पंचतत्व में विलीन करवाया।

एनडीटीवी के अनुसार प्रेमचंद के अंतिम संस्कार में अहम भूमिका निभाने वाले अबु बशर ने बताया कि हम सभी बचपन से उन्हें प्रेम चाचा के नाम से बुलाते थे। पहले तो हम सब उनकी तबियत खराब होने पर अलग अलग बीएमसी अस्पतालों में चक्कर लगाते रहे पर सभी बीएमसी अस्पतालों ने यह कहकर भर्ती करने से इनकार कर दिया कि अभी सिर्फ कोरोनावायरस के मरीज भर्ती करते हैं। इस बीच प्रेम चाचा की मौत हो गई। गरीब नगर में एक-दो हिन्दू परिवार हैं और लॉकडाउन की वजह से कोई बाहर नहीं आ सका। तब बस्ती के सभी मुस्लिम लोगों ने मिलकर तय किया कि हम प्रेम चाचा का अंतिम संस्कार करेंगे। इसके लिए पहले पुलिस को सूचित किया गया। लेकिन हमें भी हिन्दू रीति रिवाज की जानकारी नहीं थी। फिर पास में ही रहने वाले शेखर से पूछा गया।

साथ ही अबु बशर ने बताया कि जैसे-जैसे शेखर ने बताया हमने वही किया। लॉकडाउन में पहले बडे मुश्किल से अर्थी के लिए सामान लाया गया, फिर उसे बांधकर अर्थी बनाई गई। प्रेम चाचा को नहलाया गया। मटकी बनाई गई और फिर हम सब कंधा देकर पार्थिव देह को श्मशान ले गए और वहां अग्नि को समर्पित किया। कोरोना के प्रकोप से बचने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखने के इस दौरे में गरीब नगर के मुसलमानों ने सामाजिक एकता का अनोखा उदाहरण पेश किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

Related Articles

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...