fbpx
Thursday, September 24, 2020

डॉक्टर कफील की रिहाई को लेकर प्रियंका ने लिखा सीएम योगी को पत्र, बोली, संवेदनशीलता दिखाए

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

राजस्थान: अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को विधानसभा में मिला विश्वासमत

लगभग 1 महीने चले राजनैतिक ड्रामे के बाद आज हुई हुए विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस ने...

कोर्ट की अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण दोषी करार, 20 को सजा पर फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

अदालत की अवमानना मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है।...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज गोरखपुर अस्‍पताल के ऑक्‍सीजन कांड को लेकर चर्चा में आए डॉक्‍टर कफील खान की रिहाई को लेकर उत्‍तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्‍यनाथ को पत्र लिखा है। पत्र में प्रियंका ने कफील को न्‍याय दिलाने के मकसद से लिखा, ‘मुख्‍यमंत्री महोदय, इस पत्र के माध्‍यम से डॉक्‍टर कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं। ये अब तक लगभग 450 से ज्‍यादा दिन जेल में गुजार चुके हैं। डॉ कफील ने कठिन परिसिथतियों में निस्‍वार्थ भाव से लोगों से लोगों की सेवा की है।’


उन्‍होंने अपने लेटर में आगे लिखा-मुझे उम्‍मीद है क आप संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्‍याय दिलवाने का पूरा प्रयास करेंगे। मुझे अशा है कि गुरु गोरखनाथ जी की यह सही आपको मेरे इस निवेदन को मानने के लिए प्रेरित करेगी। लेटर का अंत उन्‍होंने इस संदेश से किया है-मन में रहिणों, भेद न कहिणों, बोलिबा अमृत वाणी, अगिला अगनी होईया हे अवधू आपणा होइबा पाणी। इसके मायने हैं किसी से भेद न करो, मीठीक वाणी बोले, यदि आपके सामने वाला आग बनकर जला रहा तो तो हे योगी तुम पानी बनकर उसे शांत करो।

गौरतलब है कि अगस्‍त 2017 में जब डॉ. कफील गोरखपुर अस्‍पताल में ड्यूटी पर थे तब अचानक ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई खत्‍म होने से आईसीयू विभाग में भर्ती कई नवजात और बच्‍चों की जान चली गई थी। उस वक्‍त डॉ कफील ने बाहर से ऑ‍क्‍सीजन सिंलेडर का इंतजार करके बच्‍चों को बचाने की भरसक कोशिश की। मीडिया ने उनके इस काम की भरपूर सराहना की थी हालांकि इसके बाद कफील को विभागीय लापरवाही और भ्रष्‍टाचार के मामले में निलंबित कर दिया गया था, उन्‍हें कई माह जेल में भी गुजारने पड़े थे।

ताजा समाचार

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

Related Articles

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...