fbpx
रविवार, जनवरी 24, 2021

जिला अस्पतालों में होगा एमआरआई और सिटी स्कैन

image

Newbuzzindia Bhopal:प्रदेश के जिला अस्पतालों में आने वालेमरीजों को सीटी स्कैन व एमआरआई कराने के लिए निजी केन्द्रों में नहीं जाना पड़ेगा। उन्हें कैंपस में ही जांच की सुविधा मिलेगी। सार्वजनिक-निजी भागीदारी के तहत प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों में सीटी स्कैन व एमआरआई मशीनें लगाने की तैयारी है।
इसके लिए जल्द ही टेंडर किए जाएंगे। स्वास्थ्य संचालक (अस्पताल प्रशासन) डॉ. केके ठस्सू ने बताया कि सीटी-स्कैन और एमआरआई मशीन लगाने के लिए शर्तें तय हो गई हैं। M.P. पब्लिक हेल्थ सप्लाई कॉरपोरेशन को टेंडर करने के लिए कहा गया है। अभी प्रदेश के 13 जिला अस्पतालों में सीटी स्कैन मशीनें लगी हैं। इसमें 9 मशीन सरकारी हैं। 4 जगह पीपीपी से मशीनें लगाई हैं।
अभी सभी जिलों में सीटी स्कैन मशीनें पीपीपी से लगाने के लिए टेंडर किए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हर जिला अस्पताल में ओपीडी व भर्ती मरीजों को मिलाकर करीब 10 को सीटी स्कैन की जरूरत होती है। उज्जैन, रतलाम, भोपाल व देवास आदि बड़े अस्पताल में 15 से 20
मरीजों को सीटी स्कैन की जरूरत होती है। अस्पतालों में यह यह सुविधा नहीं होने की वजह से मरीजों को
बाहर जांचें कराना पड़ती हैं। इस पर उनके 2 से 5 हजार रुपए तक खर्च होते हैं। इसी तरह से हर दिन 4-5 मरीजों रोज एमआरआई कराने की सलाह डॉक्टर देते हैं, लेकिन एमआरआई की सुविधा प्रदेश के किसी भी जिला अस्पताल में नहीं है। किसी
सरकारी मेडिकल कॉलेज में भी एमआरआई की सुविधा नहीं है।
पीपीपी से एमआरआई लगाने के लिए भी टेंडर किए जाएंगे। 60 फीसदी सस्ती जांच डॉ. ठस्सू ने बताया कि पीपीपी से लगाई गई सीटी स्कैन व एमआरआई की दरें बाजार दर से करीब 60 फीसदी सस्ती पड़ेंगी। जांचों के लिए अधिकतम फीस सेंट्रल गवर्नमेंट हेल्थ स्कीम (सीजीएचएस) द्वारा तय दरों के बराबर होगी। हालांकि, निजी पार्टी चाहे तो सीजीएचएस दर से कम में भी जांच के लिए टेंडर में रेट दे सकती है। सीजीएचएस दरें बाजार दर से
करीब आधी हैं। इसके बाद पार्टी से कुछ छूट मिल सकती है। इस लिहाज से मौजूदा दर से करीब 60 फीसद कम में जांचें हो सकती हैं। सिर के बिना कंट्रास्ट सीटी स्कैन की दर सीजीएचएस में 900
रुपए है, जबकि निजी केन्द्रों में 1500 से 2200 तक लगते हैं। इसी तरह से सिर की बिना कंट्रास्ट एमआरआई की सीजीएचएस फीस 1998 रुपए है। निजी सेंटरों में जांच पर करीब 5 हजार रुपए
लगते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह समेत कई दिग्गज नेताओं ने राजभवन में सौपा कृषि कानून के खिलाफ ज्ञापन

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेता राजभवन(Governor House) पहुंचे और अपना ज्ञापन सौंपा। कई दिग्गज नेता जैसे जयवर्धन सिंह,...

शुक्रवार को भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन में पुलिस प्रशासन ने की यह बड़ी कार्यवाही

किसानों का प्रदर्शन पूरे भारत मे अब उर्ग हो चुका है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Shivraj Singh Chauhan) ने भी किसानों के खिलाफ प्रशासन को...

कांग्रेस की शांतिपूर्वक रैली में हुआ प्रशासन की तरफ से लाठीचार्ज, कई बड़े नेता हुए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल(Bhopal) में कांग्रेस पार्टी(Congress Party) की तरफ से किसानों के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया था। इस...

Related Articles

अर्नब की व्हाट्सऐप चैट पर कांग्रेस हमलावर, चार पूर्व मंत्रियों ने कहा- इसमें नहीं मिल सकती माफी

रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्वामी BARC के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता की कथित व्हाट्सऐप चैट को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार से कड़ी...

पीएम मोदी से ज्यादा समझदार हैं किसान, उन्हें पता कि देश में क्या हो रहा है: राहुल गांधी का सरकार पर हमला

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश की आम जनता की लड़ाई आज किसान लड़ रहे हैं।...

Telghani Board will be formed in Chhattisgarh

Raipur: Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel has announced that the Telghani Board will be formed in the state to provide employment opportunities in rural...