Newbuzzindia: पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी कर्नाटका सरकार टीपू सुल्तान की जयंती मनाने के लिए अड़ी हुयी है। और इसके विपरीत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी इसे रोकने की भरसक कोशिश में लगा हुआ है। आरएसएस की ओर से साफ़ कहा गया है कि वे टीपू सुल्तान की जयंती नही मनाने देंगे।

कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के क्षेत्रीय संघचालक वी नागराज ने कहा, ‘हमारा संगठन सड़कों पर उतर कर टीपू जयंती के विरोध में प्रदर्शन करेगा। क्योंकि वह धार्मिक रूप से कट्टर और हिंसक सुल्तान थे।’ आपको बता दे की 10 नवंबर को सिद्धारमैया सरकार 18वीं सदी में मैसूर के राजा टीपू सुल्तान की जयंती मनाने जा रही है। पिछले वर्ष भी इसे मनाया गया था जिसके चलते कुर्ग में हिंसा हो गयी थी साथ ही दो लोगो की मौत भी।

इसलिए RSS करता है विरोध-

RSS और भाजपा टीपू सुल्तान को एक कट्टर और हिंसक राजा के रूप में पेश करती आई है, जिसने बड़ी संख्या में हिन्दुओं और ईसाइयों को धर्मांतरण करवाया इस मामले को लेकर आरएसएस और इससे जुड़े संगठनों राज्यभर में इसके विरोध में आंदोलन का फैसला लिया है। इसके लिए बेंगलुरु में 8 नवंबर को बड़ी रैली भी होने जा रही है।

Loading...