कल संविधान जनक बाबा भीमराव आंबेडकर की जयंती थी, ऐसे में जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार ने एक खत लिखा। उसने अपने खत में लिखा कि आपको क्रांतिकारी नीला और लाल सलाम, आपको यह खत इसलिए लिख रहा हूं क्योंकि इस मौके पर मैं आपके दिल का हाल जानना चाहता हूं। मैं जानना चाहता हूं कि आपको कैसा लगता है जब कोई बातें आपकी करे और संविधान को लागू करने की बजाए मनुस्मृति को लागू करने की कोशिश करे।
इस खत में कन्हैया ने आत्म सम्मान, न्याय और समानता जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने खत में कहा कि आज समाज के लोग डर में जी रहे हैं उनसे उनकी आजदी को छीनी जा रही है। वहीं पंजाब विश्वविद्यालयों मामले को लेकर भी खत में चिंता जताई है और कहा कि फीस वृद्धि का विरोध करने पर छात्रों के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज कराया जा रहा है।
कन्हैया ने खत में बाबा भीमराव आंबेडकर से शिकायत करते हुए कहा कि आपने जो इस समाज को रास्ता दिखाया था। आज समाज उससे भटकाया जा रहा है, लेकिन हम आपको यह विश्वास दिलाते हैं कि हम आपकी बताई आजादी को हासिल करके रहेंगे।
वहीं, रोहित वेमूला को याद करते हुए कन्हैया ने खत में लिखा कि आप हमारे जैसे कई युवाओं के लिए प्रेरणा के स्त्रोत हैं, लेकिन विश्वविद्यालयों में ऐसी परिस्थितियां पैदा की जा रहीं हैं कि जिसमें रोहित जैसे बेहद प्रतिभावान छात्रों की जीवन जीने की इच्छा तक को मार दिया जा रहा है।

Loading...