Tuesday, October 26, 2021

क्या कांग्रेस से अलग हो सकते हैं कैप्टन अमरिंदर सिंह?

क्या कांग्रेस से कैप्टन अमरिंदर सिंह भी अलग हो सकते हैं? यह ऐसा सवाल है जो पंजाब में कांग्रेस के लिए बहुत नुकसान का सौदा साबित हो सकता है यही कारण है कि कांग्रेस नेतृत्व कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच में 16 की कवायद में लगा हुआ है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के कांग्रेस से अलग होने के संकेत मिल रहे हैं कैप्टन और सिद्धू के बीच हो रहे टकराव और मनमुटाव के बाद कैप्टन ने इस रणनीति पर भी काम करना शुरू कर दिया है।

पंजाब के कांग्रेस प्रभारी और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत लगातार इस कोशिश में लगे हुए हैं कि वह कैप्टन और सिद्धू के बीच में उपजे विवाद को सुलझा दे और दोनों की जायज मांगों को मांग कर इस मामले का पटाक्षेप कर दें।

रावत की यह पहल कुछ हद तक सफल साबित होती दिख रही है लेकिन इस बीच खबर आ रही है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह उन्हें दिल्ली बुलाए जाने से लगातार नाराज चल रहे हैं कैप्टन की नाराजगी इस बात को लेकर है कि वह है कांग्रेस के बहुत सीनियर नेता हैं और उन्हें बार-बार दिल्ली तलब करना अच्छी बात नहीं है उनकी सीनियरिटी का ध्यान रखा जाना चाहिए और बार-बार पेशी में नहीं बुलाया जाना चाहिए।

इस बीच यह भी खबर आ रही है कि कैप्टन और सिद्धू के बीच चल रहे विवाद पर अगर आगे कुछ 16 होती दिखाई नहीं देगी तो इसमें कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी सीधा दखल दे सकते हैं। वो कैप्टन और सिद्धू को एक मंच पर बिठाकर दोनों की समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

मीडिया रिपोर्टस की मानें तो कैप्टन अगर अपनी बात मनवाने में असफल साबित दिखाई देंगे तो वह है पंजाब में नई पार्टी का गठन भी कर सकते हैं सिद्धू उन पर लगातार आरोप लगा रहे हैं कि वह अकाली नेताओं के संपर्क में हैं और उनका साथ दे रहे हैं इसके साथ ही कैप्टन पर गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी मामले पर भी कार्यवाही ना करने के आरोप सिद्धू लगा रहे हैं।

ताजा समाचार

Related Articles