NewBuzzIndia:

कूटनीतिक तौर पर सालों से एक दूसरे के भरोसेमंद मित्र रहे भारत और रूस के बीच में जैसी दूरियां आई हैं वो मौजूदा सरकार की अब तक की सबसे बड़ी कूटनीतिक हार मानी जा रही है। अब जब पाकिस्तान के साथ रूस सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया तब भारत सरकार को रूस से अपनी पुरानी दोस्ती याद आई।
जब इस सैन्य अभ्यास के बारे में भारत में चर्चा गरमाई तब रूस ने शनिवार को उन खबरों को खारिज कर दिया कि पाकिस्तान के साथ सैन्य अभ्यास आंशिक रूप से पाक अधिकृत कश्मीर के गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में होगा। भारत ने इस इलाके में दोनों देशों के बीच सैन्य अभ्यास पर गहरी चिंता जाहिर की थी।
 
दिल्ली स्थित रूसी उच्चायोग ने एक बयान जारी कहा कि सैन्य अभ्यास केवल चेरात होगा। इसके अलावा रत्तू के मिलिट्री स्कूल में सैन्य अभ्यास से जुड़ी खबरें भ्रामक और शरारतपूर्ण हैं।

रूस की सरकारी मीडिया TASS ने शुरुआती में खबर दी थी कि सैन्य अभ्यास का उद्घाटन समारोह पाक अधिकृत कश्मीर के गिलगित-बाल्टिस्तान में रत्तू स्थित आर्मी स्कूल में होगा। बाद में TASS की वेबसाइट से इस खबर को हटा दिया गया।

हालांकि दोनों देशों ने सैन्य अभ्यास से जुड़ी बहुत  जानकारी सार्वजनिक नहीं की हैं। बताया जा रहा है कि सैन्य अभ्यास पहाड़ी इलाकों में किया जाएगा। इस बीच ऐसी खबरें भी आ रही है कि भारत की ओर से तीखी प्रतिक्रिया देने के बाद मास्को ने पीओके में सैन्य अभ्यास की योजना को बदल दिया।

Loading...