fbpx
Tuesday, September 29, 2020

Donna Strickland emulates Marie Curie as she won the Nobel Prize for Physics

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

राजस्थान: अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को विधानसभा में मिला विश्वासमत

लगभग 1 महीने चले राजनैतिक ड्रामे के बाद आज हुई हुए विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस ने...

कोर्ट की अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण दोषी करार, 20 को सजा पर फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

अदालत की अवमानना मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है।...

2018 Nobel Prize for Physics is unique in many senses. Donna Strickland became the 3rd women ever to win the award. Arthur Ashkin — who, at 96, becomes the oldest scientist ever to be awarded a Nobel Prize.

Arthur Ashkin is credited with having invented what is famously known as “optical tweezers”. Actually a technology rather than a physical instrument, these “tweezers” are widely used for isolating and examining very small particles, such as individual atoms, DNA strands, or biological cells.

Gérard Mourou and Donna Strickland, who share the other half of the Prize, developed a technique that has made it possible to generate most intense laser pulses that are now used in a wide variety of scientific and medical applications, including in eye surgeries.

Strickland, a 59-year-old Canadian scientist, has now become only the third woman to have received the Nobel Prize in Physics, after Marie Curie in 1903 and Maria Goeppert Mayer in 1963. And the main breakthrough of her work, in collaboration with her PhD supervisor Mourou, was described in the very first scientific paper she published, back in December 1985. 

Strickland is the University of Waterloo’s first Nobel laureate. She has been teaching at the university since 1997 and oversees an ultra-fast laser lab. Despite all the reputation, she is just an Associate Professor. 

Strickland herself seemed to quell any insinuation of sexism in a BBC interview today, saying that she’d “always been treated like an equal [to male scientists] in her career.” When when asked directly why someone with her achievements and esteemed reputation wasn’t holding a full professorship, she answered simply, “I never applied!”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

Related Articles

अमरीका में विमान कंपनियों को मदद की शर्त, न सैलरी कम करे और न निकाले किसी को

अमरीकी ट्रेज़री विभाग ने शनिवार को विमान कंपनियों की मदद के लिए 9.5 अरब डॉलर जारी किए हैं।...

Nepal objects to India’s inclusion of Kalapani in their new map

By: Talat Mohsin After India released a new map which showed Kalapani as part of the country, Nepal has...

“Bionic Man” Brings In Hope For The Disability With His New Innovation

They say that there is no stop to invention and innovation and amongst these inventors and innovators, Hugh Herr is one of...