fbpx
Tuesday, September 29, 2020

Ariel backlashed by Pakistanis patriarchy over a commercial

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

राजस्थान: अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को विधानसभा में मिला विश्वासमत

लगभग 1 महीने चले राजनैतिक ड्रामे के बाद आज हुई हुए विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस ने...

कोर्ट की अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण दोषी करार, 20 को सजा पर फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

अदालत की अवमानना मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है।...

Advertisement is a mass influencer when it comes to empowering women. Lately, Pakistan is in the news with profuse rage against an advertisement broadcasted by ‘Ariel’ a detergent brand from the United States based Proctor and Gamble. The company for the first time faces a backlash in the country over its stance on women’s rights.

Image source: This is money (UK)

The advertisement displaying women from different works of the field breaking free the norm of enslavement as a matter of empowering for women was slammed by the Pakistanis saying that it’s offence to their teaching, religions and most important- Islam.  The women in the lead include a Journalist, a Doctor who is seen removing stains from dirty sheets hanging on clothesline off the screen. Here, the sheets represent the oppression that all Pakistani women faces on a daily basis including the question- “What will people say?”.

The commercial ends with a close- up shot of a Pakistani women’s cricket team captain Bismah Maroof saying: “Stay within the house…these are not only sentences but stains”. Much Pakistani patriarchy took to offense on Twitter with hashtags “#BoycottAriel” on Twitter. One of them Binte Suleman tweeted “ They (are) insulting Islamic teaching in their advertising,” whereas another Raja Moazzam added: “Please take action against these liberals, who (are) promoting liberalism in Pakistan.”

Women in Pakistan have been fighting for justice and equality since time immemorial. A nation who killed a popular internet sensation like Qandeel Baloch in the name of honor killing considers their actions upright. Change is here and now but is completely denied to the women of this country.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ताजा समाचार

जेएनयू में एबीवीपी की गुंडागर्दी, कमरें में घुसकर 16 लोगों ने की छात्र की पिटाई

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों के साथ हिंसा का एक और मामला सामने आया है। ऑल...

एक साल में 42480 किसानों ने की आत्हत्या, मीडिया और सरकार खामोश

एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में 42480 किसानों -मजदूरों को आत्महत्या...

SBI ने ATM से पैसे निकालने के नियम बदले, ट्रांजैक्शन फेल होने पर लगेगा जुर्माना

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए ATM से कैश निकालने के नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। 1 जुलाई...

Related Articles

अमरीका में विमान कंपनियों को मदद की शर्त, न सैलरी कम करे और न निकाले किसी को

अमरीकी ट्रेज़री विभाग ने शनिवार को विमान कंपनियों की मदद के लिए 9.5 अरब डॉलर जारी किए हैं।...

Nepal objects to India’s inclusion of Kalapani in their new map

By: Talat Mohsin After India released a new map which showed Kalapani as part of the country, Nepal has...

“Bionic Man” Brings In Hope For The Disability With His New Innovation

They say that there is no stop to invention and innovation and amongst these inventors and innovators, Hugh Herr is one of...