40 दिन 40 सवाल अभियान के क्रम में मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ नें मध्यप्रदेश की समृद्धि और सुशासन को लेकर शिवराज सरकार से छठां सवाल पूछा है. कमल नाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘आइडिया में है दम ?’
‘मध्यप्रदेश की समृद्धि और सुशासन के दिन आ रहे है पास,आपकों एक आइडिया दिया है बेहद खास ।
प्रदेश के नागरिक 28 नवंबर को इसे हर हाल में आजमाएंगे,आपकी नाकारा सत्ता को हटाएंगे और 11 दिसंबर से मध्यप्रदेश की समृद्धि के दिन आ जाएंगे ।’

छठां सवाल

शिवराजजी एक बेहद दमदार आइडिया है मध्यप्रदेश की समृद्धि का, जो आपको प्रेषित कर रहा हूं। बीते दिनों मध्यप्रदेश के नागरिकों से हुई चर्चा का सार ही है जिससे इस आइडिया ने जन्म लिया है औऱ सही माने तो इस आइडिया में मध्यप्रदेशकी समृद्धि का राज भी छुपा है। इस बात में कोई संदेह नहीं है कि मध्यप्रदेश में प्राकृतिक संसाधन औऱ नागरिकों की इच्छा शक्ति प्रचुर मात्रा में बै। मगर यह बात भी सही है कि प्रगित की असीम संभानवाओं के बावजूद मध्यप्रदेश आपके नेतृत्व में समृद्ध प्रदेश नहीं बन पाया और इस बात की पुष्ठि मोदी सरकार भी अपनी रिपोर्ट्स में करती हैं। आप ज्यों-ज्यों सरकारी संसाधनों को अपनी छवि चमकाने की आग में झोंकते गए, त्यों-त्यों मध्यप्रदेश बदहाली की गर्त में गिरता गया।

  1. आपने सैकड़ों करोड़ रुपए खर्च कर बेटी बचाओ के नारे से अपनी छवि को तो चमका लिया, मगर बेटियों की किस्मत पर अपराधियो और अराजक तत्वों का ग्रहण लगा दिया।
  2. आपने बच्चों के मामा का मुखौटा लगाकर खुद की छवि को हष्ट-पुष्ट तंदरुस्त कर लिया, मगर मप्र के बच्चों को कुपोषण के काल चक्र में फंसा दिया।
    3 आपने हजारों करोड़ के विज्ञाप देकर किसानपुत्र केनाम पर अपनी प्रसिद्धि की फसलें लहलहा लीं, मगर किसान की किस्मत में आत्महत्याका सूखा लिख दिया। यहां तक कि फसलों के दाम मांगने पर किसान के सीने को छलनी करवा दिया।
  3. एक तरफ आदिवासी नृत्य कर अपनी छवि पॉलिश की औऱ उन्हें कैंसर युक्त जूतों से नवाज दिया। इतना ही नहीं उनके वन में रहने का अधिकार को नकार कर लाखों आदिवासी भाइयों को दर-बदर कर दिया।
  4. एक तरफ आप सैकड़ों करोड़ खर्चकर विदेश यात्राएं औऱ इन्वेस्टर मिट कर अपनी छवि चमकाने में जबरदस्त निवेश करते गए औऱ नए उद्योग आना तो दूर पुराने बी बंद हो गए।
  5. एक तरफ आप युवाओं को रोजगार क सपने बेचते गए औऱ दूसरी ओर करोड़ों युवाओं का भिविष्य व्यापम में लुटवा दिया।
  6. एक तरफ मध्यप्रदेश की जीवनदायनी मां नर्मदा की यात्रा कर अपनी धार्मिक छवि का चमकाया और दूसरी तरफ मां नर्मदा का दामन अधर्मी रेत माफियाओं के हवाले कर मां नर्मदा कोछलनी कर दिया।
  7. आपने अपनी छवि के लिए भगवान राम औऱ आदि शंकराचार्य तक के साथ छल किया न राम वनगमन पथ का निर्माण न शंकराचार्य भगवान की 100 फिट ऊंची प्रतिमा।

आपने मध्यप्रदेश के पूरे खजाने को खाली कर दिया और मध्यप्रदेश की किस्मत में अवरूद्ध विकास लिख दिया। इसलिए मध्यप्रदेश की जनता का यह आइडिया बेहद दमदार है कि ’28 नवबंर को आपकी रवानगी तय की जाए औऱ मध्यप्रदेश की समृद्धि सुनिश्चित।’ मध्यप्रदेश के नागरिकों ने आइडिया के साथ कुछ नारे भी दिए हैं।

आपको हटाएंगे तो भ्रष्टाचार होगा कम। आइडिया में है दम।
आपको हटाएंगे तो अपराध होगा कम। आइडिया में है दम।
आपको हटाएंगे तो किसानों में होगी नई उमंग। आइडिया में है दम।
आपको हटाएंगे तो युवाओं में होगी नई तरंग। आइडिया में है दम।
आप जाएंगे तो ही प्रदेश के नागरिकों को मनरेगा की मजदूरी, वन अधिकार कानून के अधिकार पत्र, खाद्य सुरक्षा और मातृत्व हक इत्यादि मिल पाएंगे। मामा जी बस इसी आइडिया में है दम। आपको हटाएंगे और समृद्धि लाएंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.