Newbuzzindia : उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस्तीफ़ा  देने वाले है  . योगी आदित्यनाथ के साथ ही उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और दिनेश शर्मा को भी इस्तीफ़ा देना होगा . इन तीन नेताओं के एलावा अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा और परिवहन राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वतंत्र देव सिंह भी इस्तीफ़ा देने वालों की लिस्ट में शामिल है .

 

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत यह पाँचों नेता इस समय उत्तरप्रदेश विधानसभा या विधान परिषद के सदस्य नही है . वही मुख्यमंत्री , उपमुख्यमंत्री या फिर मंत्री बनने के लिए विधानसभा या विधानपरिषद् का सदस्य होना अनिवार्य है .

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस समय गोरखपुर से संसद है . केशव प्रसाद मौर्या इलाहबाद के फूलपुर से सांसद है. वहीं दिनेश शर्मा लखनऊ के महापौर है .

 

 

लोकसभा से देना होगा इस्तीफ़ा 

 

इन सभी नेताओं को अपने पद पर बने रहने के लिए 6 महीने के अंदर विधानसभा या विधानपरिषद का सदस्य बनना होगा . वहीं इन 5 नेताओं को विधानसभा या विधानपरिषद का सदस्य बनाने के लिए  मौजूदा सदस्यों को इस्तीफ़ा देना होगा .

 

सूत्रों के अनुसार योगी आदित्यनाथ गोरखपुर की सदर विधानसभा से चुनाव मैदान में उतर सकते है . सदर विधानसभा से मौजूदा विधायक डॉक्टर राधामोहन दास अग्रवाल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए इस्तीफ़ा दे सकते है . राधामोहन के एलावा और भी कई विधायक योगी आदित्यनाथ के लिए इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार है .

 

ऐसे में देखना दिलचस्प होगा की सीएम योगी आदित्यनाथ किस विधानसभा सीट से चुनाव लड़ते है . वैसे तो योगी आदित्यनाथ बिना चुनाव लड़े विधानपरिषद के रास्ते ही मुख्यमंत्री बने रह सकते है .

 

केशव प्रसाद मौर्या और दिनेश शर्मा

सूत्रों के अनुसार केशव प्रसाद को इलाहाबाद की किसी विधानसभा सीट से चुनाव लड़वाया जा सकता है . वहीं दिनेश शर्मा को विधानपरिषद का सदस्य बनने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है . दिनेश शर्मा को विधानपरिषद में सत्ता पक्ष का नेता भी बनाया जा चुका है .

 

नवंबर में होंगे चुनाव

 

आपको बता दें कि उत्तरप्रदेश में इसी साल नवंबर में स्थानीय निकाय चुनाव होने है . जिसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर लोकसभा सीट और केशव प्रसाद मौर्या की इलाहाबाद लोकसभा सीट पर भी चुनाव होंगे . ऐसे में विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हर चुकी कांग्रेस , बसपा और सपा अपनी पूरी ताकत लगाकर यह चुनाव जीतना चाहेंगी .