गुजरात में भाजपा की नवनिर्वाचित सरकार की शुरुवात उम्मीद के अनुसार नहीं थी। दरअसल गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल को पिछली बार महत्वपूर्ण विभाग दिए गए थे लेकिन इस बार उनको साधारण विभाग दिए गये थे जिसको लेकर वो नाराज़ थे और कार्यालय का कार्यभार नहीं संभाल रहे थे। अब पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने नितिन पटेल से बात करके उन्हें मना लिया है और उन्हें बड़े विभाग देने का आश्वासन भी दिया है।

नितिन पटेल को मिला वित्त मंत्रालय
गौरतलब है कि पिछली सरकार में नितिन पटेल को वित्त, शहरी विकास और पेट्रोरसायन जैसे मंत्रालय दिए गए थे, जबकि नई सरकार में उन्हें सड़क, इमारत और स्वास्थ्य जैसे विभागों का भार सौंपा गया है। इसी कारण वह पार्टी से नाराज़ थे और अब मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उनकी अमित शाह से बात हुई और उन्होंने नितिन पटेल को मना लिया है।
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से हुई बात: पटेल
रिपोर्ट्स के अनुसार उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को वित्त मंत्रालय दे दिया गया है। इससे पहले पटेल ने कहा कि, ‘मुझे उचित पद मिलने का आश्वासन दिया गया है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मेरी फोन पर बात हुई। मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। नितिन पटेल ने कहा कि, ‘चूंकि अमित शाह जी ने मेरे ऊपर भरोसा जताया है, इसलिए मैं पदभार संभाल रहा हूं। कैबिनेट की मीटिंग हुई थी। मैंने सीएम के साथ इसमें हिस्सा लिया और अनुशासन बनाए रखा। मैंने हाई कमान से कहा था कि अगर मुझे महत्वपूर्ण मंत्रालय नहीं दिए गए तो एक मंत्री की जिम्मेदारी से मुझे मुक्त कर दिया जाए।’

पार्टी को दिया था 3 दिन का समय
इससे पहले नितिन पटेल ने शनिवार (30 दिसंबर) को कहा था कि अब यह उनके आत्म सम्मान का मुद्दा है। उन्होंने कहा कि ‘मैंने पार्टी हाईकमान को अपनी भावनाओं से अवगत करा दिया है और मुझे उम्मीद है कि वे मेरी भावनाओं पर उचित प्रतिक्रिया देंगे।’ बता दें कि नितिन पटेल मेहसाना से विधायक हैं।

हार्दिक पटेल ने दिया था कांग्रेस में शामिल होने का ऑफर
गौरतलब है कि हार्दिक पटेल ने शनिवार को अहमदाबाद गुजरात के उपमुख्यमंत्री को ऑफर देते हुए कहा थ कि, ‘अगर वह (नितिन पटेल) और अन्य 10 विधायक पार्टी छोड़ कांग्रेस में शामिल होते हैं तो मैं और मेरे समर्थक पार्टी में नितिन पटेल का स्वागत करने के लिए कांग्रेस नेतृत्व से बातचीत करने के लिए तैयार हैं।’