Newbuzzindia: पाकिस्तान और चीन को सबसे करीबी दोस्त देशों के रूप में देखा जाता है। ये दोनों देश अपनी अपनी तरफ से भारत को परेशान करने में लगे रहते है। अभी -अभी ही भारत ने उरी अटैक का जवाब पाकिस्तान को सिंधु जल समझौते को तोड़ने की धमकी के रूप में दिया है। उसी के बाद अब चीन भारत के लिए मुश्किल खड़ी कर रहा है।

चीन ने अपनी सबसे बड़ी परियोजना हाइड्रो प्रोजेक्ट के लिए तिब्बत में ब्रह्मपुत्र नदी की एक सहायक नदी को रोक दिया है। चीन के इस कदम से भारत के असम, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में पानी की आपूर्ति में कमी आ सकती है। आपको बता दे की चीन इस प्रोजेक्ट पर 7 हजार 400 करोड़ डॉलर खर्च करने वाला है। गौरतलब है कि चीन ने यह प्रोजेक्ट 2014 में शुरू किया था जो की 2019 तक पूरा होने की आशंका है। 

कयास लगाए जा रहे है कि चीन ने यह कदम पाकिस्तान का साथ देने के लिए उठाया है। क्योंकि भारत ने भी पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल समझौता को बरकरार न रखने की बात पर बैठक बुलाई थी। ऐसी स्थिति में यही समझा जा रहा है कि चीन इस कदम के साथ पाकिस्तान की रीढ़ की हड्डी बन कर सामने आ रहा है।