राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए है। 18 दिसंबर को गुजरात चुनाव के परिणाम आने है। परिणाम चाहे जो भी हो लेकिन राहुल गांधी ने जिस तरह से गुजरात चुनाव लड़ा उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में एक नई ऊर्जा जरूर आ गयी है। कांग्रेस के सभी नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में एक नई लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हो चुके है। कांग्रेस भी इस ऊर्जा को कायम रखना चाहती है और आगे की रणनीति पर काम शुरू कर चुकी है। 
महिला आरक्षण के मुद्दे पर पूरे देश में करेगी आंदोलन
गुजरात चुनाव के परिणाम आने के बाद कांग्रेस लोकसभा और विधानसभा में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण के मुद्दे को लेकर पूरे देश में आंदोलन करने की तैयारी कर रही है। महिला कांग्रेस द्वारा आयोजित एक दिवसीय कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह रणनीति तैयार की है।

हिमाचल महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुशीला नेगी के अनुसार पार्टी ने पंचायती राज संस्थानों तथा नगर निकायों में महिलाओं को अधिक से अधिक आरक्षण दिलवाया है। इसके चलते आज महिलाएं समाज में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर देश की तरक्की में अपना हाथ बंटा रही है।

महिला आरक्षण बिल पर कोई अगर-मगर नही चलेगा: राहुल गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी दो टूक कहा कि महिला आरक्षण के मुद्दे पर कोई अगर-मगर नही चलेगा। जिस तरह हमने जीएसटी के मुद्दे पर सरकार पर दबाव बनाया था उससे भी ज्यादा दबाव हम महिला आरक्षण बिल के मुद्दे पर बनाएंगे।
महिला कांग्रेस के इस कार्यक्रम में भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्षा सुष्मिता देवी के साथ-साथ पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, कांग्रेस नेत्री गीरीजा ब्यास व प्रियंका चतुर्वेदी सहित हिमाचल से प्रभा वर्मा, संतोष शर्मा, मीना कश्यप, रीता गुलेरिया, सुमन चौधरी, सरोज नेगी, शकुंतला पांटा, शशि बहल व विद्या नेगी शामिल रहीं।