Newbuzzindia: क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू के राज्यसभा में मनोनयन से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने काफी आस लगा रखी है। पार्टी को विश्वास है कि सिद्धू के मनोनयन से अगले साल पंजाब में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में उसकी जीत की संभावना बढ़ेगी, साथ ही उच्च सदन में उनके साफ-साफ बोलने का भी पार्टी को लाभ मिलेगा।

सिद्धू के राज्यसभा जाने के बाद सबसे बड़ा झटका लगा है आम आदमी पार्टी को । अरविन्द केजरीवाल पंजाब विधानसभा चुनाव में नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ी भूमिका देने के मूड में थे । सिद्धू की लोकप्रियता आम आदमी पार्टी को पंजाब में काफी फायदा दिलवा सकती थी ।

भापजा के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) के प्रति आलोचनात्मक नजरिए की वजह से सिद्धू पार्टी में हाशिए पर कर दिए गए थे। उन्होंने भी एक रणनीति के तहत खुद को बहुत सक्रिय नहीं रखा।

सिद्धू वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर अमृतसर से जीते थे। लेकिन, 2014 में पार्टी ने उनकी जगह अरुण जेटली को अमृतसर से टिकट दिया। बताया जाता है कि अकाली दल के दबाव में जेटली ने वहां से नामांकन दाखिल किया था, लेकिन वह हार गए थे।

सिद्धू के नामांकन से इन अटकलों पर भी विराम लगा है कि वह अकाली दल के नेतृत्व से चल रही नाराजगी की वजह से आम आदमी पार्टी में शामिल हो सकते हैं।

उनकी पत्नी नवजोत कौर अमृतसर पूर्वी क्षेत्र से विधायक हैं और वह कई बार अकाली दल को आड़े हाथों ले चुकी हैं।

पंजाब में भाजपा और एसएडी के बीच गठबंधन है और उम्मीद है कि अगले साल विधानसभा चुनाव भी दोनों मिलकर लड़ेंगे।

NewBuzzIndia से फेसबुक पे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें..
**Like us on facebook**
[wpdevart_like_box profile_id=”858179374289334″ connections=”show” width=”300″ height=”150″ header=”small” cover_photo=”show” locale=”en_US”]

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.